YOGA SESSION: खुद को संयमित करने के लिए रोज करें प्राणायाम, इस तरह करें अभ्‍यास
स्वास्थ्य

YOGA SESSION: खुद को संयमित करने के लिए रोज करें प्राणायाम, इस तरह करें अभ्‍यास

Yoga Session With Savita Yadav : जब आप अपने आप को संयमित करना सीख जाते हैं और अपनी इंद्रियों को अंतहकरण में स्‍थापित कर शरीर और मन से शांत भाव से कहीं बैठते हैं तो ये ही दरअसल आपका आसन होता है. इस तरह हम कह सकते हैं कि जब आप अपने आप को संयमित कर लेते हैं तो ये ही योग (Yoga) की परिभाषा होती है. संयमित होने के अभ्‍यास के बाद ही प्राणायाम की बारी आती है. प्राणायाम में हमें अपनी पांचों इंद्रियों को नियंत्रित करना और अपनी प्राण शक्ति को बढ़ाना सिखाया जाता है. दरअसल जब शरीर में प्राण का सही तरीके से संचार नहीं होता है तो कई अंगों में तरह तरह की समस्‍याएं शुरू हो जाती हैं. इसके लिए शरीर की शुद्धी करना बहुत जरूरी है. आज न्यूज़18 हिंदी के फेसबुक लाइव सेशन में योग प्रशिक्षिका साविता यादव (Savita Yadav) ने प्राणायाम (Pranayama) और हमारे शरीर के संबंध का बताया और इसका अभ्‍यास कराया.

इस तरह करें शुरू करें अभ्‍यास

पहला अभ्‍यास
कमर और गर्दन सीखी कर बैठें. दोनों हाथों की हथेलियों घुटने पर रखें और ध्‍यान की मुद्रा बनाएं. बंद आंखों से अपने आप को निहारने का प्रयास करें. धीरे धीरे अपनी सांस पर ध्‍यान दें. गहरी सांस को महसूस करें.

इसे भी पढ़े : Yoga Session: पूरे शरीर को रखना चाहते हैं स्वस्थ? सीखें कुछ आसान योगाभ्यास और उनके नियम

 

दूसरा अभ्‍यास
अब खड़े हो जाएं और उंगलियों को इंटरलॉक कर उपर की ओर ले जाएं. गहरी सांस लें और 10 तक गिनें. अब हाथों को नीचे ले आएं.

तीसरा अभ्‍यास
मैट पर खड़े हो जाएं और शरीर को एक्टिव रखने के लिए कदमताल करें. पैरों को जितना उंचा उठा सकते हैं उठाकर आप कर सकते हैं.

चौथा अभ्‍यास
कमर पर हाथ रखें और एक बार एडि़यों को उठाएं और एक बार पंजों को उठाएं. ऐसा आप 20 चक्र करें.

पांचवा अभ्‍यास 
शोल्‍डर रोटेशन करें. इस दौरान सांस को बेहतर तरीके से लें. ऐसा आप 20 चक्र करें. इनहेल और एक्‍सेल करते रहें.

कपालभाति
गर्दन और कमर सीधी रखें और किसी भी आसन में बैठ जाएं. इसमें सांस को बाहर छोड़ने पर ही ध्‍यान देना है. सांस को फोर्स से बाहर निकालें. ऐसा लगातार करें. आप 1 से 2 मिनट से शुरु करें और धीरे धीरे बढाएं. ऐसा करने से पेट का फैट भी धीरे धीरे कम हो जाता है.  ध्‍यान रखें कि पेट साफ होने के बाद इसे करें और खाने के 3 से 4 घंटे बाद ही इसे करें. जिन लोगों को पेट की समस्‍या है या जो लोग कोविड से रिकवर हुए हैं उन्‍हें डॉक्‍टर की सलाह के बाद ही इसे करना है. विस्‍तार से देखने के लिए आप ये विडियो देख सकते हैं.

अनुलोम विलोम

नाड़ी शोधन प्राणायाम यानी अनुलोम विरोम आपके प्राण शक्ति को बढ़ाता है, शरीर की सूक्ष्‍म कोशिकाओं तक ऑक्‍सीजन की सप्‍लाई करता है. ये किसी के लिए भी हानिकारक नहीं होता और सभी के लिए फायदेमंद है. सुबह उठकर और रात में सोने से पहले करें तो इससे काफी फायदा‍ मिल सकता है.

यह भी पढ़ें: Yoga Session: पेट की सभी बीमारियों को दूर करेगा कपालभाति योग

 

 इसे करने के लिए आखों को बंद करें और हाथों से प्राणायाम मुद्रा बनाएं और दाहिने नाक को बंदकर बाएं नाक से गहरी सांस लें. अब कुछ देर रोकें और सांस को बाहर की तरफ निकालें. अब ऐसा दूसरे नाक से करें. यह प्रक्रिया 5 से शुरू करें और अभ्‍यास को धीरे धीरे बढाएं.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle, Yoga

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.