Yoga in office: ऑफिस में भी कर सकते हैं ये योगा, दर्द और ऐंठन हो जाएगी बिल्कुल गायब
स्वास्थ्य

yoga in office to treat pain and stiffness after long sitting hours samp | Yoga in office: ऑफिस में भी कर सकते हैं ये योगा, दर्द और ऐंठन हो जाएगी बिल्कुल गायब

जीवनशैली को स्वस्थ रखने के लिए योगा बहुत जरूरी है. इससे कई शारीरिक व मानसिक समस्याओं का समाधान किया जा सकता है. लेकिन लोगों को लगता है कि योगा का अभ्यास करने के लिए आपको अलग से टाइम देने की ही जरूरत होती है. मगर ऐसा जरूरी नहीं है. आप ऑफिस में भी योगा कर सकते हैं. जिससे लंबे समय तक बैठे रहने के कारण शरीर में होने वाले दर्द और ऐंठन से छुटकारा मिल सकता है.

ये भी पढ़ें: Yoga for hair : रोज 5 मिनट ये योग करने से कभी नहीं होंगे गंजे, लंबे और मजबूत बनेंगे बाल

Yoga in Office: ऑफिस में कौन-से योगासन कर सकते हैं?
सीटेड पोज

सीटेड पोज योगा कुर्सी पर बैठे-बैठे हो सकती है. जिससे कमर और रीढ़ की हड्डी में लचीलापन आता है. इसे करने के लिए आप कुर्सी पर कमर सीधी करके बैठ जाएं. अब अपने दोनों हाथों को कुर्सी की एक तरफ कर लें. अब धीरे-धीरे गर्दन और छाती को दोनों हाथों की तरफ मोड़ें. इस स्थिति में कुछ देर गहरी सांस लें और फिर दूसरी तरफ भी ऐसा करें.

सीटेड क्रिसेंट मून पोज
अगर आपकी जॉब में लंबे समय तक कंप्यूटर के सामने बैठे रहना पड़ता है, तो इस योगा को जरूर करें. इससे गर्दन, कंधे और कमर से तनाव कम होता है. इस योगा को करने के लिए कुर्सी पर पीठ सीधी करके बैठ जाएं. अब दोनों अंगूठों मिलाकर दोनों हथेलियों को बाहर की तरफ रखें. इसके बाद दोनों हाथों को सिर के ऊपर की तरफ ले जाएं और फिर धीरे से दाहिने ओर झुकें और शरीर में खिंचाव महसूस करें. सामान्य सांस लेते रहें. अब सामान्य स्थिति में वापिस आएं और आराम करें. दूसरी तरफ से भी यह प्रक्रिया दोहराएं.

ये भी पढ़ें: Utthan Pristhasana: शिल्पा शेट्टी ने किया ‘छिपकली आसन’, Planks Exercise से कई गुना मुश्किल, पेट बना देगा पतला

उत्कटासन
अगर कुर्सी पर बैठे-बैठे पैरों व कूल्हों में दर्द हो गया है, तो उत्कटासन करें. इसे करने के लिए आपको खड़े होना है और अपने दोनों हाथों को ऊपर की तरफ खींचना है. इसके बाद आपको कूल्हों को नीचे इस तरह झुकाएं, जैसे आप कुर्सी पर बैठ रहे हैं. लेकिन आपको हवा में ही संतुलन बनाना है. कुछ देर इसी स्थिति में रहें और फिर आराम करें.

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *