हार्ट अटैक के बाद कपिल देव की एंजियोप्लास्टी की गई है.
स्वास्थ्य

World Cup Winner एक्स कप्तान कप‍िल देव ने कराई एंजियोप्लास्टी, जानें क्या है ये

हार्ट अटैक के बाद कपिल देव की एंजियोप्लास्टी की गई है.

पूर्व भारतीय कप्तान कपिल देव (Kapil Dev) की एंजियोप्लास्टी (Angioplasty) की गई है. दिल की धमनियों में ब्लॉकेज (Blockage) होने से रक्त प्रवाह नहीं होता, ऐसे में उस ब्लॉकेज को खोलने के लिए एंजियोप्लास्टी की जाती है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 23, 2020, 4:44 PM IST

पूर्व भारतीय कप्तान और 1983 में देश को वर्ल्ड कप दिलाने वाले कपिल देव (Kapil Dev) को दिल का दौरा पड़ने के बाद दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया. डॉक्टरों ने कपिल देव की एंजियोप्लास्टी (Angioplasty) की है. फिलहाल उनकी हालत ठीक बताई जा रही है. कपिल देव का इलाज कर रहे डॉक्टर अतुल माथुर ने कहा है कि उन्हें को-माइनर हार्ट अटैक आया था और एंजियोप्लास्टी करने के बाद वह ठीक हैं. आप भी जानिए क्‍या है एंजियोप्लास्टी और क्‍यों पड़ती है इसे कराने की जरूरत.

क्या है एंजियोप्लास्टी 
कोरोनरी एंजियोप्लास्टी (Coronary Angioplasty) या परक्यूटेनियश कोरोनरी इंटरवेंशन (Percutaneous Coronary Intervention) का उपयोग हृदय की ब्लॉक धमनियों को खोलने के लिए किया जाता है. दिन का दौरान पड़ने के शुरुआती 2 घंटों में एंजियोप्लास्टी की जानी चाहिए. इसके बाद दिल की मांसपेशियों की कोशिकाओं में बदलाव आ जाता है. यह बायपास सर्जरी से अलग होती है. दिल की धमनियों में ब्लॉकेज होने से रक्त प्रवाह नहीं होता, ऐसे में उस ब्लॉकेज को खोलने के लिए एंजियोप्लास्टी की जाती है.

ये भी पढ़ें – क्यों होता है लंग कैंसर और क्या होता है इसका स्टेज-3, जानें जरूरी बातेंकैसे होती है एंजियोप्लास्टी

व्यक्ति के शरीर को इसके अनुकूल बनाने के लिए सबसे पहले दवा दी जाती है. इसके बाद कैथेटर को रक्त वाहिका में डाला जाता है. आगे की प्रोसेस में प्लास्टिक ट्यूब को धमनी में डाला जाता है. इसके बाद कैथेटर की सहायता से रक्त वाहिका में मौजूद ब्लॉकेज का पता लगाया जाता है. इसके बाद कैथेटर के माध्यम से रक्त वाहिका में एक तरल पदार्थ डाला जाता है जिसे कभी-कभी डाई बोलते हैं. इस तरल पदार्थ से रक्त वाहिका में मौजूद ब्लॉकेज खोला जाता है. यह इस प्रक्रिया का अंतिम चरण होता है. इसके बाद ब्लॉकेज को ठीक किया जाता है.

ये भी पढ़ें – कोरोना काल में रेकी हीलिंग है फायदेमंद, जानिए क्‍या है ये

एंजियोप्लास्टी से क्या हैं लाभ
एंजियोप्लास्टी कम समय में हो जाती है और यह बायपास सर्जरी से कम समय लेती है. समय पर एंजियोप्लास्टी सर्जरी होने से दिल के दौरे रोके जा सकते हैं. कपिल देव को माइनर हार्ट आया था इसलिए डॉक्टरों ने तुरंत एंजियोप्लास्टी करते हुए बड़ा दिल का दौरा आने से पहले ही इसे रोक दिया.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *