World Aids Vaccine Day 2022: आज है वर्ल्ड एड्स वैक्सीन डे, जानें इस दिन का इतिहास और महत्व
स्वास्थ्य

World Aids Vaccine Day 2022: आज है वर्ल्ड एड्स वैक्सीन डे, जानें इस दिन का इतिहास और महत्व

World Aids Vaccine Day 2022 : एक्वायर्ड इम्यूनो डेफिसिएंसी सिंड्रोम (Acquired Immunodeficiency Syndrome) यानी कि एड्स एक ऐसी बीमारी है, जिससे जागरूकता के अभाव में दुनिया भर में हर साल लाखों लोग अपनी जान से हाथ धो बैठते हैं. लोगों की इसी समस्‍या को दूर करने के लिए हर साल 18 मई को दुनिया भर में ‘वर्ल्ड एड्स वैक्सीन दिवस’ के रूप में मनाया जाता है और इसके टीका की जानकारी घर-घर तक पहुंचाने की कोशिश की जाती है. इस खास दिन का मकसद लोगों में एड्स से बचाव और इसकी वैक्सीन के प्रति जागरूकता बढ़ाना है. यही नहीं, इस दिन एड्स मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टर्स को भी सम्‍मान दिया जाता है. इस दिशा में शोध कर रहे और टीका के निर्माण में योगदान कर रहे वैज्ञानिकों को भी विशेष सम्‍मान दिया जाता है.

वर्ल्ड एड्स वैक्सीन डे का इतिहास
अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन द्वारा 1997 में 18 मई को मॉर्गन स्टेट यूनिवर्सिटी में एक भाषण दिया गया था और इसी के आधार पर यह निर्णय लिया गया कि आज के दिन विश्व एड्स टीकाकरण दिवस के रूप में मनाया जाए. अपने भाषण में बिल क्लिंटन ने कहा था कि आने वाले एक दशक में एड्स को वैक्‍सीन के माध्यम से खत्म किया जाए. इसी भाषण के बाद से दुनियाभर में लोगों में ये उम्‍मीद जागी कि एड्स को खत्म किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी में हाई ब्लड प्रेशर मां-शिशु के लिए है जोखिम भरा, जानें, गर्भावस्था में हाइपरटेंशन के लक्षण

आखिर क्‍या है एड्स
एड्स से पीड़ित मरीजों में इसका वायरस व्हाइट ब्लड सेल्स (जिन्हें संक्रमण से लड़ने वाली कोशिकाओं के तौर पर जाना जाता है) को बुरी तरह डैमेज करता है, जिससे शरीर की इम्यूनिटी पूरी तरह से खत्म हो जाती है. धीरे-धीरे मरीज की स्थिति गंभीर होती जाती है और सही समय पर इलाज न होने पर इंसान की मौत हो जाती है.

यह भी पढ़ें-
Parkinson’s Disease: अब नौजवानों को भी अपनी गिरफ्त में ले रहा है ‘पार्किंसन’, जानें क्‍या है वजह?

ऐसे मनाया जाता है वर्ल्ड एड्स वैक्सीन डे
इस दिन वैज्ञानिकों और डॉक्‍टरों के बीच एड्स के टीके को लेकर चर्चाएं की जाती हैं और बड़े-बड़े सेमीनार का आयोजन किया जाता है. छात्रों को एड्स टीके के इतिहास और इससे जुड़ी महत्वपूर्ण बातों के बारे में जागरूकता पहुंचाने वाले कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. इस दिन एड्स मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टर्स को भी सम्‍मान दिया जाता है. जब की इस दिशा में शोध कर रहे और टीका के निर्माण में योगदान कर रहे वैज्ञानिकों को भी विशेष सम्‍मान दिया जाता है.

Tags: Aids, Health, Health News, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.