Vitamin b12 deficiency symptoms how to detect neer
स्वास्थ्य

Vitamin b12 deficiency symptoms how to detect neer

Vitamin B12 Deficiency: हमारी बॉडी को हेल्दी रखने के लिए अन्य विटामिन्स की तरह ही विटामिन बी12 (Vitamin B12) भी काफी ज़रूरी होता है. यह हमारे शरीर के लिए कितना आवश्यक है इसका इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि हमारे शरीर में लाल रक्त कणिकाएं यानी रेड ब्लड सेल्स (Red Blood Cells) को बनाने और नर्वस सिस्टम को मेंटेन करने का ये काम करता है. विटामिन बी12 सबसे ज्यादा नॉनवेज फूड (Nonveg Food) जैसे मीट, मछली, अंडा, सीफूड में मिलता है. इसके अलावा डेयरी प्रोडक्ट्स में भी कुछ मात्रा में विटामिन बी12 मौजूद होता है.
सब्जियों (Vegetables) और अनाजों (Grains) में काफी कम मात्रा में विटामिन बी12 पाया जाता है. इस वजह से शाकाहारी लोगों (Vegetarian Peoples) के लिए ये काफी परेशानी भरा हो सकता है. tododisca की खबर के मुताबिक विटामिन बी12 इंसानों में कई बड़ी वजहों से बेहद जरूरी होता है. इसका वैज्ञानिक नाम कोबेलेमिन (Cobalamin) है. यह विटामिन खास तौर पर लिवर में स्टोर होता है और शरीर के कई महत्वपूर्ण फंक्शन को अंजाम देता है. सबसे ज्यादा विटामिन बी12 बीफ लिवर, पोर्क लोइन, चीज़, दूध, ऑक्टोपस आदि में होता है.

ये भी पढ़ें: वजन कम करने की सारी कोशिशें हो रही हैं बेकार, कहीं आप भी तो ये गलतियां नहीं कर रहे?

विटामिन B12 की कमी के नुकसान

अगर किसी व्यक्ति में विटामिन बी12 की बहुत ज्यादा कमी हो जाती है तो यह उसके डीएनए सिंथेसिस (DNA Synthesis) को बुरी तरह से प्रभावित कर सकता है. इससे ठीक तरह से लाल रक्त कणिकाओं (Red Blood Cells) के बनने में रुकावट भी आ सकती है. इसकी वजह से घातक बीमारी मैग्लोब्लास्टिक एनिमिया (Megaloblastic Anemia) तक हो सकता है.

विटामिन बी12 की कमी की मुख्य वजह विटामिन के खराब एब्जॉर्व्शन की वजह से भी होती है. अगर डाइजेस्टिव सिस्टम खराब होता है तो इस वजह से विटामिन को एब्जॉर्ब करने की क्षमता प्रभावित होती है. वहीं दूसरी ओर जो लोग वेजिटेरियन हैं या फिर वीगन डाइट फॉलो करते हैं उन्हें विटामिन बी12 की कमी होने की आशंका सबसे ज्यादा रहती है क्योंकि ये विटामिन मुख्य तौर पर मांसाहारी भोजन में ही मिलता है.

ये भी पढ़ें: सर्दियों में बेहद काम के हैं ये 6 वर्कआउट, हरदम रखेंगे फिट एंड हेल्दी

विटामिन B12 की कमी के ये हैं लक्षण

– लगातार थकान रहना, कमजोरी, भ्रम की स्थिति
– त्वचा का रंग पीला पड़ना.
– मन से विचलित महसूस करना.
– याददाश्त का खोना, बोलने में परेशानी महसूस होना.
– रिफ्लेक्सेस में कमी आना

Tags: Health, Health News, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.