तुलसी की पत्तियां खाने से दूर रहती हैं ये बीमारियां, बच्चों को भी मिलता है बड़ा फायदा
स्वास्थ्य

tulsi leaves benefits for health know health benefits of tulsi for children samp | तुलसी की पत्तियां खाने से दूर रहती हैं ये बीमारियां, बच्चों को भी मिलता है बड़ा फायदा

tulsi benefits: हिंदू धार्मिक ग्रंथों में तुलसी का महत्वपूर्ण स्थान माना गया है. इसी तरह आयुर्वेद में भी तुलसी के पौधे की खासियत का जिक्र मिलता है. आयुर्वेद के मुताबिक, तुलसी के पौधे में काफी औषधीय गुण छिपे हुए हैं. जो शरीर की कई बीमारियों का नाश करते हैं. बता दें कि रोजाना तुलसी की पत्तियों का सेवन करने का भी एक सही तरीका होता है. जिसके बारे में भी इस खबर में बताया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: Tomato for Face: हफ्ते में सिर्फ एक बार चेहरे पर ऐसे लगा लें टमाटर, मिलेगा दूल्हा-दुल्हन जैसा ग्लो

तुलसी की पत्तियों की खासियत और सेवन का सही तरीका? (tulsi leaves speciality)
आयुर्वेदिक एक्सपर्ट डॉ. अबरार मुल्तानी के मुताबिक तुलसी में आयरन, कैल्शियम, विटामिन ए, विटामिन के, मैंगनीज, एंटीऑक्सीडेंट्स, एंटी-इंफ्लामेटरी और एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं. वहीं, तुलसी की पत्तियों का सेवन सुबह खाली पेट करना चाहिए. आप सुबह के समय तुलसी की 4-5 ताजा पत्तियों को तोड़कर और धोकर खा सकते हैं. वहीं, चाय व खाने में भी इसे मिलाकर सेवन कर सकते हैं.

बच्चों के लिए काफी फायदेमंद (tulsi benefits for childrens)
डॉ. अबरार मुल्तानी के मुताबिक तुलसी में मौजूद एंटी-माइक्रोबियल और एंटीऑक्सीडेंट्स गुण इम्यून सिस्टम को मजबूत (immunity booster) बनाने में मदद करते हैं. जिससे शरीर कई संक्रमणों से दूर रहता है. बच्चों का इम्यून सिस्टम वयस्कों के मुकाबले कमजोर रहता है. इसलिए आप रोजाना बच्चों को तुलसी के कुछ पत्तों का सेवन करवा सकते हैं.

ये भी पढ़ें: National Nutrition Week: डायबिटिक पेशेंट बेधड़क खा सकते हैं ये फूड, जानें मधुमेह के लिए हेल्दी डायट

तुलसी की पत्तियों के अन्य फायदे (tulsi leaves benefits)

  • तुलसी की पत्तियों का नियमित सेवन करने से ब्लड शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है.
  • माना जाता है कि तुलसी के पत्तों का सेवन पाचन को सुधारता है. जिससे वजन संतुलित रहता है और मोटापा दूर रहता है.
  • तुलसी में मौजूद गुण मुंह और सांसों की दुर्गंध को भी दूर करने में मदद करते हैं.

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *