मिल गया है गठिया का अचूक इलाज, दर्द से मिलेगी तुरंत राहत
स्वास्थ्य

scientists find a new drug to treat Rheumatoid arthritis | मिल गया है गठिया का अचूक इलाज, दर्द से मिलेगी तुरंत राहत

नई दिल्ली: भारतीय वैज्ञानिकों ने एक ऐसा नैनोपार्टिकल (अतिसूक्ष्म कण) तैयार किया है जिससे रुमेटॉयड अर्थराइटिस (Rheumatoid arthritis) की तीव्रता को कम करने में मदद मिलेगी.

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की एक स्वायत्तशासी संस्था नैनो विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान (आईएनएसटी) के वैज्ञानिकों ने काइटोसन के संयोग से नैनोपार्टिकल तैयार किया है और इसे जिंक ग्लूकोनेट के साथ मिलाया है. उन्होंने इससे गठिया की तीव्रता को कम करने में मदद मिलने का दावा किया है.

काइटोसन एक बायोकम्पैटेबल बायोडिग्रेडेबल प्राकृतिक पोलीसैकेराइड (एक प्रकार का शर्करा) होता है. यह शेल फिश एवं क्रस्टासीयन के बाह्य कंकाल से प्राप्त होने वाले बायोपॉलीमर्स में से एक है. इसका उपयोग औषधियों में किया जाता है.

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के बयान के अनुसार, जिंक तत्व सामान्य हड्डी होमियोस्टैसिस को बनाये रखने के लिए अहम होता है और ऐसा बताया जाता है कि इसका लेवल गठिया रोगियों एवं अर्थराइटिस-प्रेरित पशुओं में कम हो जाता है.

डीएसटी के सचिव प्रोफेसर आशुतोष शर्मा के अनुसार, ‘ नैनो जैव प्रौद्योगिकी उन समस्याओं के लिए कई प्रभावी समाधान उपलब्ध कराती है जिन्हें पारंपरिक औषधियां अक्सर प्रभावी ढंग से हल करने में सक्षम नहीं हो पातीं.’ 

ये भी पढ़ें: दिल्ली में कोरोना से ठीक होने वालों की संख्या में जबर्दस्त इजाफा, जानिए क्या है ताजा हाल

उन्होंने कहा कि आईएनएसटी, मोहाली में विकसित जिंक ग्लूकोनेट युक्त काइटोसन नैनोपार्टिकल्स का मिश्रण रुमेटॉयड अर्थराइटिस के लिए उत्कृष्ट उपचार का एक रचनात्मक उदाहरण है.

बयान के अनुसार, वैज्ञानिकों ने नैनोपार्टिकल्स के विभिन्न फिजियोकैमिकल गुणों की जांच की और फिर विस्टर चूहों में कोलाजेन प्रेरित अर्थराइटिस के खिलाफ गठिया रोधी क्षमता की जांच की गई. 

उन्होंने पाया कि जिंक ग्लूकोनेट एवं जिंक ग्लूकोनेट युक्त काइटोसन नैनोपार्टिकल्स दोनों के साथ चूहों के उपचार से जोड़ में सूजन आदि में कमी आई और अर्थराइटिस की तीव्रता कम हुई. इस परीक्षण में जिंक ग्लूकोनेट युक्त चिटोसन नैनोपार्टिकल्स ने उच्च प्रभावोत्पादकता प्रदर्शित की.

इनपुट: भाषा

ये भी देखें:



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *