Painful Urination: पेशाब के दौरान होने वाले दर्द के पीछे होते हैं ये 3 कारण, महिलाएं जरूर पढ़ें
स्वास्थ्य

reasons of painful urination in women know causes of dysuria samp | Painful Urination: पेशाब के दौरान होने वाले दर्द के पीछे होते हैं ये 3 कारण, महिलाएं जरूर पढ़ें

पेशाब के जरिए हमारा शरीर वेस्ट मटेरियल व टॉक्सिन्स को बाहर निकालता है. लेकिन कभी-कभी महिलाओं को पेशाब करते हुए गंभीर दर्द, जलन या असहजता का सामना (Painful Urination) करना पड़ सकता है. यह समस्या काफी गंभीर होती है, जिसे Dysuria भी कहा जाता है. अगर आपको या आपकी किसी जानकार महिला को यह समस्या हो रही है, तो उसके पीछे निम्नलिखित 3 कारण हो सकते हैं.

ये भी पढ़ें: Foods for Female: 20 की उम्र के बाद हर महिला को जरूर खाने चाहिए ये 5 फूड, जान लें वजह

मायोक्लिनिक के मुताबिक, महिलाओं को पेशाब के दौरान या बाद में जलन व दर्द होने के पीछे निम्नलिखित 3 कारण (Causes of painful urination) हो सकते हैं. जैसे-

यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (Urinary Tract Infection)
मायोक्लिनिक के मुताबिक, महिलाओं में पेशाब के दौरान दर्द व जलन के पीछे सबसे आम वजह यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन यानी मूत्र मार्ग का संक्रमण होता है. यूरेथ्रा (पेशाब की नली) या ब्लैडर में बैक्टीरिया जाने से इंफेक्शन हो जाता है. जिसके कारण पेशाब करते हुए जलन हो जाती है. वहीं, यीस्ट इंफेक्शन की ओवरग्रोथ के कारण भी व्हाइट डिस्चार्ज समेत पेशाब करते हुए दर्द हो सकता है.

ये भी पढ़ें: Urinary Incontinence: कपड़ों में पेशाब निकलना हो जाएगा शुरू, अगर इन बातों पर नहीं दिया ध्यान

सिस्टाइटिस (Cystitis)
जब ब्लैडर में इंफ्लामेशन या इंफेक्शन हो जाता है, तो उस समस्या को सिस्टाइटिस कहा जाता है. यह संक्रमण हानिकारक बैक्टीरिया के कारण होता है. ब्लैडर पेशाब को होल्ड करने का कार्य करता है और इसमें इंफेक्शन होने के कारण पेशाब करते हुए जलन या दर्द हो सकता है.

यौन संचारित रोग (sexually transmitted disease)
महिलाओं में पेशाब के दौरान जलन व दर्द के पीछे यौन संचारित रोग भी हो सकते हैं. यौन संचारित रोगों के कारण वजायनल डिस्चार्ज व खुजली की समस्या भी हो सकती है. इसलिए अगर किसी महिला को पेशाब के दौरान दर्द व जलन हो रही है, तो उसे डॉक्टर से कंसल्ट जरूर करना चाहिए. क्योंकि, इस समस्या के पीछे अन्य कारण भी हो सकते हैं.

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *