Plum Benefits: किस वक्त और कैसे खाना चाहिए आलूबुखारा, ताकि पेट और दिल रहें एकदम फिट
स्वास्थ्य

plum helps in constipation and heart disease know right time to eat alubukhaara ke fayde samp | Plum Benefits: किस वक्त और कैसे खाना चाहिए आलूबुखारा, ताकि पेट और दिल रहें एकदम फिट

फल खाना काफी स्वास्थ्यवर्धक है. जो कि शरीर को कई विटामिन और मिनरल्स प्रदान करते हैं. अगर आप अस्वस्थ जीवनशैली के कारण कब्ज या हाई ब्लड प्रेशर जैसी समस्याओं का सामना कर रहे हैं, तो आलूबुखारे का सेवन करें. आलूबुखारा आपके पेट और दिल को फिट रखने में मदद कर सकता है. लेकिन इन फायदों के लिए आपको आलूबुखारा के सेवन का सही तरीका पता होना चाहिए.

आलूबुखारा में पोषण (Nutrition in plum)
खट्ठा-मीठा स्वाद वाला यह फल कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है. इसमें फाइबर, कैल्शियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस, विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन के और फोलेट की प्रचुर मात्रा होती है. आपको बता दें कि आलूबुखारा को सूखाकर प्रून (prune) के रूप में भी खाया जाता है. यह एक ड्राई फ्रूट होता है, जो खासतौर से यूरोप में उगने वाले आलूबुखारों को सुखाकर बनाया जाता है.

ये भी पढ़ें: Home Remedy for headache: इन घरेलू उपायों से तुरंत पाएं सिर दर्द से राहत, पेनकिलर को रखना भूल जाएंगे

आलूबुखारा को खाने का सही तरीका और समय (right time to eat plum)
अगर आप आलूबुखारा को खाने का सही वक्त और तरीका जानना चाहते हैं, तो न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर बताती हैं कि अधिकतर फलों को सुबह या शाम के समय खाना फायदेमंद रहता है. आप आलूबुखारा सुबह या शाम के स्नैक के तौर पर खा सकते हैं. आप एक प्लेट में सिर्फ आलूबुखारा को काट लें और फिर हाथों से उसे खाएं.

आलूबुखारा खाने के फायदे (plum benefits)

  1. वेबएमडी के मुताबिक, आलूबुखारा खाने से शरीर को sorbitol मिलता है. जो एक शुगर एल्कोहॉल होता है और नैचुरल लैक्सेटिव की तरह कार्य करता है. जिससे वेस्ट मटेरियल पेट में से आसानी से पास हो जाता है.
  2. आलूबुखारा में पोटैशियम की काफी मात्रा होती है. जो कि ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए काफी फायदेमंद है. क्योंकि, यह शरीर से पेशाब के सहारे अतिरिक्त सोडियम को निकालने में मदद करता है और इससे स्ट्रोक का खतरा भी कम होता है.
  3. इस फल में मौजूद फाइटोकैमिकल्स और पोषण दिल की बीमारी का कारण बनने वाली इंफ्लामेशन को रोकता है.
  4. आलूबुखारे में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स का हाई लेवल चिंता का स्तर घटाने में मदद करता है.
  5. आलूबुखारा में मौजूद फाइबर ब्लड शुगर को अचानक बढ़ने नहीं देता है और adiponectin हॉर्मोन ब्लड शुगर लेवल को रेगुलेट करने में मदद करता है.

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.

ये भी पढ़ें: Digestion Tips: पाचन को सही रखने के लिए क्या करें और क्या ना करें? एक्सपर्ट की जरूरी सलाह



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *