Multiple covid variants may be hidden in different parts of the body of infected study nav - संक्रमित के शरीर के विभिन्न हिस्सों में छिपे हो सकते हैं कई कोविड वेरिएंट
स्वास्थ्य

Multiple covid variants may be hidden in different parts of the body of infected study nav – संक्रमित के शरीर के विभिन्न हिस्सों में छिपे हो सकते हैं कई कोविड वेरिएंट

Different Covid Variants: भारत में कोरोना वायरस के मामलों में गिरावट देखने को मिल रही है, जो कि राहत भरी खबर है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि पिछले दो सालों से पूरी दुनिया को प्रभावित करने वाला ये वायरस हमारे शरीर में कुछ इस तरह से घुस जाता है कि ठीक होने के बाद भी इससे छुटकारा पाना कठिन है? एक ताजा स्टडी में पाया गया है कि कोरोना का वायरस शरीर के विभिन्न हिस्सों में घुसकर नए वेरिएंट बनाने में भी जुट जाता है. रिसर्चर्स का कहना है कि एक कोविड मरीज के शरीर में कई अलग-अलग वायरस हो सकते हैं.

आपको बताते हैं क्या है ये पूरा मामला. ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल (University of Bristol) और जर्मनी के मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल रिसर्च (Max Planck Institute for Medical Research) की अगुवाई वाली एक इंटरनेशनल टीम ने पाया कि कोविड संक्रमितों के शरीर से वायरस की पूरी तरह से निकासी काफी कठिन है.

इस स्टडी में पाया है कि सार्स कोव-2 (SARS-CoV-2) के कई वेरिएंट इम्यून सिस्टम (Immune System) को चकमा देते हुए कोविड मरीजों के शरीर के अलग-अलग हिस्सों में छुप सकते हैं. इस स्टडी का निष्कर्ष मेडिकल जर्नल ‘नेचर कम्यूनिकेशंस (Nature Communications)’ में प्रकाशित किया गया है. स्टडी में बताया गया है कि कैसे वायरस अलग-अलग तरह के सेल्स (कोशिकाओं) में हो सकते हैं और मरीज की इम्यूनिटी को चकमा दे सकते हैं.

यह भी पढ़ें-
Cholesterol Control Diet: कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने के लिए डाइट में शामिल करें ये 5 चीजें

क्या कहते हैं जानकार
यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल के प्रोफेसर इमरे बर्जर (Professor Imre Berger) का कहना है, विभिन्न वेरिएंट की एक निरंतर शृंखला (कंटीन्यूअस सीरीज) ने मूल वायरस यानी ओरिजनल वायरस को पूरी तरह से बदल दिया है. ओमिक्रॉन व ओमिक्रॉन-2 दुनियाभर में फैल चुके हैं. हमने ब्रिस्टल, ब्रिसडेल्टा (पहले खोजे गए वेरिएंट) में पाए गए शुरुआती वेरिएंट का विश्लेषण किया. इसने मूल वायरस से अपना आकार बदल लिया था.’

यह भी पढ़ें-
पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन लेवल कम होना कई समस्याओं को देता है जन्म, इन 6 वार्निंग साइन से पहचानें

ब्रिसडेल्टा (BrisDelta) स्टडी के चीफ राइटर कपिल गुप्ता का कहना है, ‘हमारे नतीजों से पता चला है कि कोविड मरीज के शरीर में कई अलग-अलग वायरस हो सकते हैं. इनमें से कुछ किडनी या तिल्ली यानी स्पलीन (spleen) सेल्स में छुपे हो सकते हैं, जबकि बॉडी मेन वायरस से बचाव के लिए संघर्ष कर रहा होता है. जिसके कारण संक्रमित व्यक्तियों के लिए सार्स कोव-2 से पूरी तरह से छुटकारा पाना मुश्किल हो सकता है. ‘

Tags: Coronavirus, Health News, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.