फिटनेस फ्रीक Malaika Arora ने बताए अनुलोम-विलोम के फायदे, इसे करने का स्टेप-बाई-स्टेप वीडियो भी किया शेयर
स्वास्थ्य

malaika arora shares a video on instagram doing anulom vilom know its benefits | फिटनेस फ्रीक Malaika Arora ने बताए अनुलोम-विलोम के फायदे, इसे करने का स्टेप-बाई-स्टेप वीडियो भी किया शेयर

नई दिल्ली: बॉलिवुड ऐक्ट्रेस मलाइका अरोड़ा अपनी फिटनेस को कितनी गंभीरता से लेती हैं यह बात किसी से छिपी नहीं है. आए दिन सोशल मीडिया पर मलाइका की जिम के बाहर की तस्वीरें वायरल होती रहती हैं. लेकिन मलाइका अपने फिटनेस सीक्रेट्स सिर्फ अपने तक सीमित नहीं रखतीं बल्कि अपने सोशल मीडिया हैंडल्स के जरिए अपने फैन्स के साथ भी शेयर करती रहती हैं. #MalaikasMoveOfTheWeek हैशटैग के साथ मलाइका हर हफ्ते अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर योग से जुड़ा कोई आसन, पोज या एक्सरसाइज का तरीका शेयर करती हैं. 

मलाइका ने शेयर किया अनुलोम-विलोम का वीडियो

इसी क्रम में सोमवार को मलाइका ने अनुलोम विलोम प्राणायाम करने के फायदे क्या-क्या हैं और इसे करने का सही तरीका क्या है इस बारे में एक वीडियो शेयर किया. इस वीडियो में मलाइका खुद अनुलोम विलोम करती नजर आ रही हैं. इंस्टाग्राम पर वीडियो शेयर करते हुए मलाइका ने लिखा, आज का मलाइका का मूव ऑफ द वीक प्राणायाम का सबसे सिंपल रूप है. कई बार आप अपने शरीर को कितना मूव कर रहे हैं सिर्फ यही काफी नहीं होता बल्कि अपनी श्वसन क्रिया यानी ब्रीदिंग पर भी फोकस करना जरूरी होता है. आपकी श्वसन क्रिया आपके ओवरऑल हेल्थ को प्रभावित करती है और इसलिए ब्रीदिंग एक्सरसाइज करना बेहद जरूरी है.

ये भी पढ़ें- मलाइका अरोड़ा ने स्विमिंग पूल में किया योग

अनुलोम-विलोम करने के हैं ढेरों फायदे

अपने पोस्ट में आगे अनुलोम विलोम के फायदे बताते हुए मलाइका ने लिखा है, अनुलोम विलोम को बारी-बारी से हर नासिका छिद्र से सांस लेने की तकनीक (Alternate Nostril Breathing Technique) के तौर पर भी जाना जाता है. इस टेक्नीक के ढेरों फायदे भी हैं:
-इम्यून सिस्टम मजबूत होता है
-याद्दश्त (चीजों को याद रखने की क्षमता) स्ट्रॉन्ग होती है
-रेस्पिरेटरी (सांस लेने की प्रक्रिया) और कार्डियोवस्क्युलर (हृदय संबंधी) हेल्थ बनी रहती है
-ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है
-नींद अच्छी आती है और स्ट्रेस यानी तनाव को कम करने में मदद मिलती है.

अनुलोम विलोम करने का तरीका

1. घुटनों के बल जमीन पर आएं और फिर दोनों पैरों को पीछे कर लें और पैरों पर बैठ जाएं. अपने दोनों हाथों को घुटनों पर रख लें और आंखें बंद कर लें.
2. दाएं हाथ के अंगूठे से दाईं नासिका छिद्र को बंद करें. बाईं नासिका छिद्र से 4 तक काउंट करते हुए गहरी सांस लें.
3. अब अपनी बाईं नासिका छिद्र को दाएं हाथ की अनामिका उंगली से बंद करें और 2 सेकंड तक इसी पोजिशन में रहें. इस दौरान आपने अपनी दोनों नासिका छिद्र को बंद कर दिया है और सांस को होल्ड कर रहे हैं.
4. अब दाईं नासिका छिद्र से अंगूठे को हटाएं और दाईं नासिक छिद्र से गहरी सांस बाहर छोड़ें.
5. इसी प्रक्रिया को दूसरी नासिका छिद्र से भी दोहराएं और 5 मिनट तक ऐसा ही करें.
6. अनुलोम विलोम करते वक्त अपनी सांसों पर फोकस करें.

(नोट: किसी भी उपाय को करने से पहले हमेशा किसी विशेषज्ञ या चिकित्सक से परामर्श करें. Zee News इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *