Bad Habits: इसी वक्त छोड़ दें ये गलत आदतें, आपको बनाती हैं बहुत गुस्सैल और चिड़चिड़ा
स्वास्थ्य

leave these bad habits now that makes you angry and irritated janiye gusse badhane wali buri aadat samp | Bad Habits: इसी वक्त छोड़ दें ये गलत आदतें, आपको बनाती हैं बहुत गुस्सैल और चिड़चिड़ा

ऐसे व्यक्ति के पास कोई नहीं रहना चाहता है, जो हर समय चिड़चिड़ा रहे या गुस्से में रहे. क्योंकि, मूडी और गुस्सैल व्यक्ति ना सिर्फ अपना नुकसान करता है, बल्कि अपने आसपास मौजूद लोगों के लिए भी खतरनाक होता है. दरअसल, आपके गुस्सैल और चिड़चिड़े होने के पीछे आपकी कुछ आदतें ही हो सकती हैं. आइए इनके बारे में जानते हैं.

ये भी पढ़ें: Best time of Lunch: क्या आप सही समय पर खा रहे हैं दोपहर का खाना, वरना कर देंगे गलती

गुस्सैल और चिड़चिड़ा बनाने वाली 5 बुरी आदतें (Bad Habits that makes you angry)
अगर निम्नलिखित आदतें आपके अंदर हैं, तो आपके गुस्सैल और चिड़चिड़ा होने की आशंका बहुत ज्यादा होगी.

आदत 1- जो लोग सुबह का नाश्ता नहीं करते हैं, उन में पूरे दिन एनर्जी की कमी रहती है. ऐसे लोग थकान या कमजोरी के कारण पूरे दिन चिड़चिड़े या गुस्से में रहते हैं.

आदत 2- जिन लोगों को ज्यादा मीठा खाने की आदत होती है, उनके भी चिड़चिड़ा या गुस्सैल होने की आशंका रहती है. क्योंकि, चीनी के सेवन से शरीर में प्रोटीन व अन्य पोषक तत्वों का अवशोषण धीमा हो जाता है और शरीर को पोषण नहीं मिलता. इस कारण उनका दिमाग हमेशा थका हुआ महसूस करता है.

ये भी पढ़ें: Benefits of sleeping naked: पुरुषों को बिना कपड़ों के सोना चाहिए, मिलेगा ये खास फायदा, महिलाओं के लिए भी अच्छा

आदत 3- दिमाग को रिलैक्स और रिफ्रेश होने के लिए पर्याप्त नींद चाहिए. लेकिन जो लोग 8 से 9 घंटे की नींद रोजाना नहीं लेते हैं, उनके शरीर में थकान, सिरदर्द व तनाव रहता है. जिससे चिड़चिड़ापन या गुस्सा आना लाजमी है.

आदत 4- जो लोग सिर ढककर सोते हैं, उनके भी गुस्सैल और मूडी होने की आशंका हो सकती है. क्योंकि, ऐसा करने से आपके मस्तिष्क की सेल्स को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है और उनका विकास बाधित हो सकता है. इसलिए आप सिर ढककर ना सोएं.

आदत 5- जिन लोगों में धैर्य की कमी होती है, वह भी जल्दी ही गुस्सा करने लग जाते हैं. क्योंकि, वह हर छोटी बात पर ओवररिएक्ट कर देते हैं. इसके बाद उन्हें पछतावा तो होता है, लेकिन वह अपनी इस आदत को कंट्रोल नहीं कर पाते हैं.

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी गई है.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *