Know what is bathroom stroke and its causes and precautions mt
स्वास्थ्य

Know what is bathroom stroke and its causes and precautions mt

Bathroom Stroke or Brain Stroke: आपने ब्रेन स्ट्रोक (Brain stroke) यानी बाथरूम स्ट्रोक के बारे में तो सुना ही होगा. आप ये भी पढ़ते और सुनते रहते होंगे कि सर्दियों (Winter) में ब्रेन स्ट्रोक का खतरा काफी बढ़ जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि ब्रेन स्ट्रोक यानी बाथरूम स्ट्रोक (Bathroom stroke) होता क्या है और नहाने के दौरान ही ये दिक्कत ज्यादातर क्यों होती है?

अगर नहीं तो आज हम आपको इस बारे में बताते हैं.  जिससे आपको इस बारे में सही जानकारी हो और आप भी नहाते समय कुछ सावधानियों को जरूर बरतें.

क्या है बाथरूम स्ट्रोक या ब्रेन स्ट्रोक

सबसे पहले बता दें कि ब्रेन स्ट्रोक क्या है. दरअसल सर्दी के मौसम में जब कोई ठंडे पानी से नहाता है और सीधे सिर पर ठंडा पानी डालता है. तो दिमाग में टेम्परेचर को कंट्रोल करने वाला एड्रेनलिन हार्मोन तेजी से रिलीज होता है. जिसकी वजह से ब्लड प्रेशर एकदम से बढ़ता है और आप ब्रेन स्ट्रोक का शिकार हो जाते हैं. इसके साथ ही हार्ट प्रॉब्लम्स, ओबेसिटी, डायबिटीज और हाई बीपी जैसी दिक्कत होने पर भी ये परेशानी आपको हो सकती है. आइये और जानते हैं इसके बारे में.

ये भी पढ़ें: जानिए क्‍या है ‘बाथ बम’? इसे घर पर इस तरह बनाएं और ऐसे करें इस्तेमाल

ये हो सकते हैं ब्रेन स्ट्रोक के लक्षण

कई बार ऐसा होता है जब नहाते समय कुछ दिक्कत सी महसूस होती है, लेकिन हम समझ नहीं पाते हैं कि आखिर ये हो क्या रहा है. तो आपको बता दें कि ब्रेन स्ट्रोक के लक्षणों में बॉडी के एक पार्ट में वीकनेस, बेहोशी, हाथ-पैरों का सुन्न होना, फेस का टेढ़ा होना, बात समझने और बोलने में परेशानी जैसी दिक्कतें शामिल हैं. इसके साथ ही ब्रेन स्ट्रोक के समय पैरालिसिस की दिक्कत भी सामने आ सकती है. नहाते समय अगर आपको ऐसा कुछ भी महसूस हो तो आपको डॉक्टर से संपर्क जरूर करना चाहिए.

किनको होता है ज्यादा खतरा

नहाते समय ब्रेन स्ट्रोक की दिक्कत वैसे तो किसी को भी हो सकती है. लेकिन ब्रेन स्ट्रोक होने का खतरा बुज़ुर्गों को बाक़ी लोगों की अपेक्षा कुछ ज्यादा होता है. ऐसा इसलिए क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ-साथ दिमाग की कोशिकाएं भी कमजोर होने लगती हैं. जिसकी वजह से ब्लड प्रेशर हाई होने पर धमनियों में ब्लड क्लॉटिंग हो जाती है. जिसके चलते कई बार ब्रेन हेमरेज की स्थिति भी बन सकती है और दिमाग की नस भी फट सकती है. ये सिचुएशन काफी नाजुक होती है और इससे व्यक्ति कोमा में भी जा सकता है.

ये भी पढ़ें: जानें, बाथ साल्ट्स के इस्तेमाल और फायदों के बारे में

नहाते समय ये बरतें सावधानियां

ब्रेन स्ट्रोक के खतरे को टालने के लिए आपको नहाते समय कुछ सावधानियों को बरतना जरूरी है. इसके लिए आप हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि सर्दियों में नहाने के लिए कभी भी ठंडे पानी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. अगर आपको गर्म पानी से नहाना पसंद नहीं है तो आप पानी को गुनगुना जरूर कर लें. इसके साथ ही इस बात का ख्याल भी आपको रखना चाहिए, कि नहाते समय सबसे पहले पानी सिर पर कभी भी नहीं डालना चाहिए. सबसे पहले पानी अपने पैरों पर डालें, इसके बाद घुटने, पेट और बाकी बॉडी पार्ट्स पर थोड़ा-थोड़ा पानी डालते हुए, सबसे आखिर में सिर पर पानी का इस्तेमाल करें. अगर आप बाल्टी मग की बजाय शॉवर का इस्तेमाल कर रहे हैं. तब भी आपको सबसे पहले सिर की जगह अपने बाकी बॉडी पार्ट पर ही पानी का इस्तेमाल करना चाहिए. इससे आप काफी हद तक ब्रेन स्ट्रोक की दिक्कत से बचे रह सकते हैं. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Health, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.