Health news tips to manage the painful health condition after covid 19 lak
स्वास्थ्य

Health news tips to manage the painful health condition after covid 19 lak

Tips For Painful Health Manages: कोरोना से संक्रमित हो चुके लोगों में साल भर बाद भी कई समस्याएं आ रही हैं. डॉक्टर भी इस बात से हैरान हैं कि इतने दिनों बाद भी संक्रमित व्यक्तियों में कोरोना के लक्षण कम क्यों नहीं हो रहे हैं. उल्टे उनमें कई और तरह की परेशानियां सामने आने लगी हैं. पोस्ट कोविड मरीजों में थकान, जोड़ों में दर्द, सोने में दिक्कत, मेमोरी प्रोब्लम जैसे कई दिक्कतें सामने आ रही हैं. इन सभी समस्याओं को वैज्ञानिकों ने फाइब्रोमायलजिया (fibromyalgia) नाम दिया है. फाइब्रोमायलजिया एक क्रोनिक कंडीशन बन गया है जो कोरोना से संक्रमित हो चुके व्यक्तियों में होता है. एचटी की खबर के मुताबिक कोविड-19 से सही हो चुके कई मरीज अस्पतालों में फाइब्रोमायलजिया का इलाज करा रहे हैं. ये लोग मसल्स, लिंगमेंट्स और हड्डियों में दर्द से परेशान रहते हैं. अक्सर इनमें थकान रहती है और पेट की समस्या भी बनी रहती है. इन सबके कारण मरीज अवसाद, चिंता और बेचैनी में जीने लगता है.

इसे भी पढे़ंः पिंपल्‍स से बचना है तो भूलकर भी न खाएं ये 5 तरह की चीजें

वायरस ने खून की नलिकाओं को क्षतिग्रस्त किया
डॉक्टरों का कहना है कि इसका इलाज करना भी आसान नहीं है, क्योंकि इसके लिए अब तक कोई जांच नहीं है. डॉक्टरों ने यह भी कहा कि कोविड संक्रमण के बाद इस तरह की दिक्कतें पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ज्यादा होती हैं. जो लोग मोटापा से परेशान हैं या ऑक्सीजन थेरेपी ले रहे हैं या आईसीयू में भर्ती होने वाले हैं, उन लोगों में यह समस्या और गंभीर हो सकती है. फॉर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट गुड़गांव में पल्मोनोलॉजी विभाग के डायरेक्टर डॉ मनोज गोयल ने बताया फाइब्रोमायलजिया को अब पूरी तरह से समझ लिया गया है. यह एक मस्कुलोस्केलटल सिंड्रोम (musculoskeletal syndrome) है. कोविड इंफेक्शन के कारण वायरस ने खून की नलिकाओं को क्षतिग्रस्त किया है, जिसके कारण यह सब हो रहा है. हालांकि उन्होंने बताया कि फाइब्रोमायलजिया जीवन को जोखिम में डालने वाली बीमारी नहीं है. लाइफस्टाइल में बदलाव लाकर इसे ठीक किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ेंः आपके खराब मूड को बूस्ट करने में मददगार हैं ये 7 फूड आइटम्स

इन परेशानियों से बचने के कुछ उपाय
रोजाना ध्यान करें. ऐसा ध्यान करें जिसमें सांस को ज्यादा देर तक अंदर खींच सके और बाहर कर सकें. नियमित रूप से मसल्स और पेट के लिए एक्सरसाइज करें.
जितना संभव हो सके, शरीर को एक्टिव रखें. वाक करें, साइकिल चलाएं, बाइक पर घूमने जाएं और एयरोबिक एक्सरसाइज करें.
शराब, सिगरेट को पूरी तरह बाय कह दें.
जंक फूड और ज्यादा फैट वाले फूड्स नहीं खाएं.
अच्छी नींद लें. जल्दी सोएं जल्दी उठें. हल्का गुनगुने पानी से नहाएं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *