Health news what is low blood pressure causes symptoms and solutions in hindi mt
स्वास्थ्य

Health news how to check blood pressure at home by bp machine mt

Blood Pressure Monitoring: ज्यादातर लोग अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में हेल्थ (Health) से जुड़ी कुछ आम प्रॉब्लम्स को नजरअंदाज कर देते हैं. ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) की समस्या भी इन्ही में से एक है. आमतौर पर हाई और लो ब्लड प्रेशर की दिक्कत से जूझ रहे लोग रोज डॉक्टर्स के पास चेक-अप करवाने नहीं जा पाते हैं. ऐसे में वो घर पर ही ब्लड प्रेशर चेक करने के लिए बीपी मॉनिटर मशीन (Machine) की सहायता लेते हैं. हालांकि, ऐसे में बीपी से जुड़ी कुछ खास बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी हो जाता है.

दरअसल, जब आप घर पर ब्लड प्रेशर नापते हैं तो कई बार बीपी नापने पर सही लेवल का पता नहीं चल पाता है. ऐसे में कुछ अहम बातों को नजरअंदाज करना अपने स्वास्थ्य के साथ समझौता करने जैसा होता है. तो आइए हम आपको बताते हैं कि बीपी नापते हुए किन बातों का खास ख्याल रखना जरूरी है.

चेक करें मशीन

बीपी नापते समय सबसे पहले बीपी मॉनिटर को अच्छे से चेक कर लें और उसकी बैटरी की भी जांच कर लें. साथ ही कम से कम दो बार बीपी की जांच करें. जिससे कि रीडिंग बिल्कुल सही आए और आप उसी के मुताबिक अपना ट्रीटमेंट करा सकें.

ये भी पढ़ें: Diabetes Myths: डायबिटीज से संबंधित इन 5 मिथ्स पर कहीं आप भी तो नहीं करते यकीन?

आराम से बैठें

बीपी नापने से पहले लगभग 10 मिनट तक किसी जगह पर आराम से बैठ जाएं. इससे आपको बीपी के सही लेवल का पता चल सकेगा. वहीं चलने और दौड़ने के तुरंत बाद बीपी नापने से सही रीडिंग नहीं मिल पाती है और आप बिना वजह परेशान हो जाते हैं.

दिल के लेवल पर हो मशीन

बीपी नीपते समय, बीपी नीपने की मशीन यानी बीपी मॉनिटर को दिल के बराबरी पर ही रखें. इससे आपको आसानी से ब्लड प्रेशर के लेवल का सही माप मिल जाएगा.

ऐसे बांधे पट्टा

कई लोग बीपी नापते समय पट्टे को कपड़े के ऊपर से ही लगा लेते हैं. हालांकि, इससे बीपी के लेवल का सही स्कोर पता नहीं चल पाता है. इसलिए कोशिश करें कि बीपी नापते समय बाएं हाथ का उपयोग करें और पट्टे को हाथों की त्वचा पर बांधे.

ये भी पढ़ें: सांस की बदबू के कारण दोस्‍त रहने लगे हैं आपसे दूर, तो इन नैचुरल माउथ फ्रेशनर का करें इस्‍तेमाल

ये गलतियां करने से बचें

बीपी नापते समय खांसी, छींक या पोजीशन बदलने से बचें. इससे आपकी सांसों की गति तेज हो जाती है और बीपी की रीडिंग गलत आ सकती है. इसलिए अगर बीपी नापने के दौरान खांसी और छींक आती है, तो कुछ समय बाद फिर से बीपी नाप लें.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Health, Health benefit, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.