Benefits of Gomukhasana: एक जगह बैठकर रोज करें यह 1 आसन, दूर भाग जाएंगी कई बीमारियां, महिलाओं के लिए मिलेगा जबरदस्त फायदा
स्वास्थ्य

Gomukhasana is very beneficial for women’s health know here Method of doing Gomukhasana brmp | एक जगह बैठकर रोज करें यह 1 आसन, दूर भाग जाएंगी कई बीमारियां, महिलाओं के लिए मिलेगा जबरदस्त फायदा

Benefits of Gomukhasana: गोमुखासन एक ऐसा आसन है, जो आपको कई बीमारियों से दूर रखता है. इस खबर में हम आपके लिए गोमुखासन के बारे में जानकारी दे रहे हैं. योग एक्सपर्ट्स की मानें तो गोमुखासन एक स्वस्थ्य शरीर के लिए बेहद जरूरी है. यह शरीर के अंदर मसल्स और हड्डियों को मजबूत बनाने के साथ मन को शांत और एकाग्रचित करता है. इससे वजन कम होने के साथ ही मासपेशियां मजबूत होती हैं. इस आसन को करने में व्यक्ति की स्थिति गाय के समान दिखाई देती है. 

क्या है गोमुख आसन (what is gomukhasana)
गोमुख’ का अर्थ होता है गाय का चेहरा या गाय का मुख. इस आसन में पांव की स्थिति बहुत हद तक गोमुख की आकृति जैसे होती है, यही वजह है कि इसे गोमुखासन कहा जाता है. यह महिलाओं के लिए बेहद लाभकारी है. गठिया, कब्ज, मधुमेह और कमर में दर्द होने पर भी यह आसन फायदेमंद है. 

इन बीमारियों में आराम दिलाता है गोमुखासन (Gomukhasana gives relief in these diseases)
गोमुख आसन कई बीमारियों में राहत दिलाता है. अगर आपको गठिया, साइटिका, अपचन, कब्ज, धातु रोग, मन्दाग्नि, पीठदर्द, लैंगिक विकार, प्रदर रोग, बवासीर जैसे रोग हैं तो आपको नियमति तौर पर गोमुख आसन करना चाहिए.

ऐसे करें गोमुखासन (Method of doing Gomukhasana)

  1. सबसे पहले सुखासन की मुद्रा में बैठ जाएं
  2. दाएं पैर को बाएं पैर के ऊपर लाकर बैठें, इसमें दोनों पैर घुटने ऊपर होने चाहिए.
  3. अब दाएं हाथ को सिर की ओर से पीछे की ओर ले जाएं.
  4. अब बाएं हाथ की कोहनी को मोड़कर पेट की ओर से घुमाते हुए पीठ की ओर ले जाएं.
  5. अब दोनों हाथों को पीछे मिलाते हुए एक सीधी रेखा बनाएं.
  6. कुछ देर तक इसी मुद्रा में रहें, फिर विश्राम मुद्रा में आ जाएं
  7. इस मुद्रा को थोड़ा रिलेक्स होने के बाद फिर करें.
  8. करीब दस मिनट तक आप इस आसन को रोज करें.

गोमुखासन के लाभ (Benefits of Gomukhasana)

  • यह आसन करने से शरीर सुड़ोल, लचीला और आकर्षक बनता है.
  • वजन कम करने के लिए यह आसन उपयोगी है.
  • गोमुखासन मधुमेह रोग में अत्यंत लाभकारी है.
  • महिलाओं में स्तनों का आकार बढ़ाने के लिए यह विशेष लाभकर है.
  • यह फेफड़ों के लिए एक बहुत ही मुफीद योगाभ्यास है.
  • यह आसन श्वसन से सम्बंधित रोगों में सहायता करता है.
  • यह थकान, तनाव और चिंता को कम करने में मददगार है.
  • यह पैर में ऐंठन को कम करता है और पैर की मांसपेशियों को मज़बूत बनाता है.
  • इसके नियमित अभ्यास से आप कमर दर्द के परेशानियों से राहत पा सकते हैं.

गोमुख आसन के दौरान बरतें यह सावधानियां (Take these precautions during Gomukh posture)

  1. अगर आपको कंधे, पीठ, गर्दन या फिर घुटनों में दर्द है तो इसे न करें
  2. आसन करते समय कोई तकलीफ होने पर योग विशेषज्ञ से सलाह लें
  3. शुरुआत में पीठ के पीछे दोनों हाथो को आपस में न पकड़ पाने पर जबरदस्ती न करें.
  4. गोमुखासन का समय अभ्यास के साथ धीरे-धीरे बढ़ाना चाहिए.

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.​



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *