Ginger Home remedies: सर्दी की इन समस्याओं का इलाज है अदरक, जानें इस्तेमाल करने का तरीका
स्वास्थ्य

ginger is effective remedy for cold sore throat stomach problem know right use samp | Ginger Home remedies: सर्दी की इन समस्याओं का इलाज है अदरक, जानें इस्तेमाल करने का तरीका

कुछ समय में ही भारत में सर्दी का मौसम आने वाला है. हर मौसम में कुछ खास स्वास्थ्य समस्याएं आम हो जाती हैं. जैसे सर्दी के मौसम में ठंड के कारण जुकाम या गले में दर्द व सूजन की दिक्कत सबसे ज्यादा होती है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि सर्दी की इन समस्याओं समेत अपच, पेट फूलना या भूख ना लगने का इलाज करने के लिए अदरक (Ginger benefits in winter) काफी मददगार होता है.

लेकिन हर समस्या से राहत पाने के लिए अदरक का अलग-अलग तरीके से इस्तेमाल करना होता है. किसी समस्या के लिए ताजा अदरक काम आता है, तो किसी समस्या के लिए सूखे अदरक यानी सौंठ की मदद ली जाती है. इस बारे में आयुर्वेदिक डॉक्टर दीक्षा भवसार ने जानकारी दी है.

ये भी पढ़ें: Diabetes Treatment: हाई शुगर को कंट्रोल करने के लिए 3 तरीकों से खा सकते हैं ये चीज, जानें दमदार उपाय

हर समस्या से बचाव के लिए
डॉ. दीक्षा के मुताबिक, आपको रोजाना लंच के दौरान छाछ में एक चुटकी सूखे अदरक का पाउडर यानी सौंठ डालकर सेवन करना चाहिए. इससे आप पेट की सभी समस्याओं से बचे रहते हैं.

भूख ना लगने का इलाज
खाना खाने से 30 मिनट पहले 5 मिलीलीटर अदरक का रस लेकर उसमें 1 चम्मच शहद, एक चुटकी नमक और 5 बूंद नींबू का रस मिलाकर सेवन करना है. इससे भूख बढ़ेगी और स्वाद भी सुधरेगा.

अपच का इलाज
अगर अपच के कारण सीने में जलन या गैस हो रही है, तो सौंठ और गुड़ की छोटी-छोटी गोलियां बना लें. खाना खाने से पहले 1 गोली का सेवन रोजाना करें.

ये भी पढ़ें: Spinach Benefits: खाने की थाली में क्यों होनी चाहिए पालक की सब्जी, जान लें ये अद्भुत फायदे

जुकाम, गले में दर्द और पेट फूलने का इलाज

  • 1 इंच ताजा अदरक लेकर कद्दूकस कर लें. इसे 3 से 5 मिनट आधा गिलास पानी में डालकर उबाल लें. फिर छानकर पी लें.
  • 1 लीटर पानी लेकर उसमें आधा चम्मच सौंठ डालकर 15 मिनट धीमी आंच पर उबालें. इस पानी को पूरा दिन पीएं.

नोट- अदरक की प्रकृति गर्म होती है. इसलिए ब्लीडिंग डिसऑर्डर या पित्त दोष वाले लोगों को डॉक्टर की सलाह के बिना इसका सेवन नहीं करना चाहिए.

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *