Dry Eye Syndrome: क्या है ड्राई आई सिंड्रोम? नजर आएं ये 10 लक्षण तो जरूर जाएं डॉक्टर के पास
स्वास्थ्य

Dry Eye Syndrome: क्या है ड्राई आई सिंड्रोम? नजर आएं ये 10 लक्षण तो जरूर जाएं डॉक्टर के पास

What is Dry Eye Syndrome: लगातार कंप्यूटर, मोबाइल, लैपटॉप, टीवी पर आंखें गड़ाए रहने से आंखों से जुड़ी कई समस्याएं आज लोगों में बढ़ती जा रही हैं. उन्हीं में से एक है ड्राई आई (Dry Eye Syndrome) की समस्या, जिससे अधिकतर लोग आज परेशान हैं. ड्राई आई सिंड्रोम में व्यक्ति की आंखों में सूखापन सा अहसास होने लगता है. यह समस्या तब होती है, जब आंखों में आंसू बनने की प्रक्रिया प्रभावित होती है. हालांकि, ड्राई आई होने पर आंखों की रोशनी संबंधित कोई समस्या नहीं होती है. इसमें कई लक्षण भी नजर आते हैं, जिसे समय पर पहचानकर इलाज शुरू कर देना चाहिए. ड्राई आई सिंड्रोम में नजर आते हैं ये निम्न लक्षण (Symptoms of Dry Eye Syndrome)-

इसे भी पढ़ें: आंखें हैं अनमोल, गर्मियों में इस तरह रखें इनका ख्‍याल

क्यों होती हैं आंखें ड्राई
मेडिकलन्यूजटुडे में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, आंखें ड्राई तब हो सकती हैं, जब आंसू बहुत जल्दी वाष्पित या इवैपोरेट हो जाते हैं या फिर आंखें बहुत कम आंसू का निर्माण करती हैं. यह समस्या मनुष्यों और कुछ जानवरों में आम है. यह एक या दोनों आंखों को प्रभावित कर सकता है और इससे सूजन हो सकती है. एक हेल्दी आंखें हर समय आंसू का निर्माण करती हैं. यह लगातार फ्लूइड से ढंकी होती हैं, जिसे टियर फिल्म (Tear film) कहा जाता है. यह इस तरह से डिजाइन किया गया है कि आप जब भी पलक झपकाएंगे ये स्थित रहते हैं. इससे आंखें ड्राई नहीं होती हैं और दृष्टि स्पष्ट होती है. यदि आंसू ग्रंथियां (Tear glands) कम आंसू पैदा करती हैं, तो टियर फिल्म अस्थिर हो सकती है. यह जल्दी ही टूट सकता ह, जिससे आंखों की सतह पर सूखे धब्बे (Dry spot) बन सकते हैं. जब आंसू का निर्माण बहुत कम होने लगे, तो आंखें ड्राई हो जाती हैं. साथ ही दवाओं के सेवन, वातावरण फैक्टर्स, पलकों की समस्या से भी ड्राई आई की समस्या शुरू हो सकती है.

ड्राई आई सिंड्रोम में नजर आने वाले लक्षण

  • आपकी आंखों में चुभन, जलन या खरोंच जैसा अहसास हो सकता है.
  • आंखों के अंदर या आसपास कठोर बलगम होना.
  • रोशनी के प्रति संवेदनशीलता.
  • आंखें लाल हो जाना, आंखों में कुछ होने का अहसास.
  • कॉन्टैक्ट लेंस पहनने में परेशानी होना.
  • रात के समय ड्राइविंग करने में परेशानी होना.
  • आंखों से पानी आना, जो ड्राई आंखों की जलन के प्रति शरीर की प्रतिक्रिया होती है.
  • सोकर उठने से आंखों की पलकों का चिपकना.

इसे भी पढ़ें: Eyes Health Care Tips: लंबी उम्र तक आंखें रहेंगी स्वस्थ, अपनाएं ये 4 टिप्स

ड्राई आई दूर करने के उपाय

  • हवा या गर्म हवा से आंखों को बचाए रखने के लिए रैपअराउंड ग्लासेज पहनें.
  • टीवी, मोबाइल, कंप्यूटर देखते समय पलकों को जल्दी-जल्दी झपकाएं.
  • धूम्रपान का सेवन कम करें, जो लोग स्मोकिंग कर रहे हों, वहां खड़े ना रहें.
  • कमरे का तापमान सामान्य बनाए रखें.
  • आर्टिफिशिलय टियर्स और आई ड्रॉप्स का इस्तेमाल करें.
  • आंखों की साफ-सफाई का ध्यान रखें.
  • हेल्दी डाइट लें, जिसमें ओमेगा-3 और 6 फैटी एसिड्स शामिल करें. अखरोट, अलसी का बीज, फिश ऑयल, सोयाबीन्स, जैतून का तेल, कद्दू के बीज आदि का सेवन करें.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.