बदलते मौसम के साथ बढ़ा बुखार का खतरा, जानिए कोरोना, मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया बुखार के लक्षण
स्वास्थ्य

Different Types of Fever n their Symptoms know here Complete information about corona fever brmp | बदलते मौसम के साथ बढ़ा बुखार का खतरा, जानिए कोरोना, मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया बुखार के लक्षण

Different Types of Fever n their Symptoms:बारिश का मौसम आते ही बुखार होने लगा है. यह मौसमी बुखार पहले भी होता था, लेकिन कोरोना कहर के बाद इसके मायने भी बदल गए हैं. अब अगर किसी का भी शरीर गर्म होता है तो उसे कोरोना का डर सताने लगता है. ऐसे में आपको जानना जरूरी है कि हर बुखार कोरोना नहीं होता है. इस खबर में हम आपको अलग-अलग बुखार के लक्षणों के बारे में जानकारी दे रहे हैं. 

बुखार होने की कोई न कोई वजह होती है. बिना वजह बुखार नहीं हो सकता. मान लीजिए किसी को सामान्य-सा फ्लू है. फ्लू या इन्फ्लूएंजा वायरस का असर आमतौर पर 3 दिनों तक होता है. इसके बाद वह खत्म होने लगता है. वहीं कोरोना का बुखार 9 दिन या इससे भी ज्यादा समय तक रह सकता है.

बुखार है क्या? (What is fever)
बुखार कोई बीमारी नहीं है. यह सिर्फ संकेत है कि शरीर संक्रमण से बच रहा है या किसी प्रकार की बीमारी से लड़ रहा है. जीवाणु और वायरल संक्रमण दोनों से बुखार विकसित होता है. जानकार बताते हैं कि बुखार कई बीमारियों का शुरूआती लक्षण हो सकता है. बुखार यह बताता है कि शरीर को कोई परेशानी है जिसका हल खोजना जरूरी है, कई बार परेशानी जब बड़ी होती है तो बुखार भी बढ़ने लगता है. जब बुखार तेज होता है तो हमारे शरीर में मौजूद हॉर्मोन्स और एंजाइम सही तरीके से काम नहीं कर पाते. दिमाग भी ठीक से काम नहीं करता.

बुखार की कई वजह (many causes of fever)
आमतौर पर बुखार होने से न सिर्फ शरीर में कमजोरी आ जाती है, बल्कि लम्बे समय तक बुखार होने से वजन गिरना, सिरदर्द, मन न लगना और कई दूसरी बीमारियां भी आपको घेर लेती हैं. बुखार की वजहों पर नजर डालें तो वायरल इंफेक्शन, बैक्टीरियल (टाइफाइड) इंफेक्शन, प्रोटोजोअल (मलेरिया) इंफेक्शन, फंगल हो सकती हैं. 

बुखार में तापमान (temperature in fever)
जब शरीर का तापमान 99.5 डिग्री फारेनहाइट से ज्यादा होगा तो इसे बुखार कहेंगे. वैसे यह हर शख्स के लिए अलग-अलग हो सकता है. किसी-किसी को 99 पर भी बुखार महसूस हो सकता है. अलग-अलग बुखार को लेकर हमने ग्रेटर नोएडा में मौजूद शारदा हॉस्पिटल के सीनियर कंसल्ट डॉक्टर भूमेश त्यागी से बातचीत की है. 

लक्षणों से पहचानें कौन सा बुखार है

1. मलेरिया के बुखार के लक्षण

  • ठंड के साथ बुखार आना
  • बुखार 103 से 104 डिग्री फारेनहाइट तक जाना, गले में खराश होना
  • जब बुखार उतर रहा हो तो पसीना आना
  • थकान के साथ बेचैनी होना
  • उल्टी आना

2. डेंगू के बुखार के लक्षण

  • उल्टी होना.
  • तेज बुखार होना.
  • सिर दर्द रहना.
  • मांसपेशियों और हड्डियों में दर्द रहना.
  • शरीर पर दाने या चकत्ते होना.

3. चिकनगुनिया के बुखार के लक्षण

  • अचानक तेज बुखार आना.
  • हड्डियों और जोड़ों में तेज दर्द होना.
  • यह कुछ दिनों के लिए भी चल सकता है या फिर लंबे समय तक.
  • सिर और मांसपेशियों में दर्द महसूस होना.
  • पीठ में तेज दर्द होना। थकान महसूस होना.
  • शरीर पर दाने होना.
  • आंखें लाल होना (कंजक्टिवाइटिस)

4. कोरोना के बुखार के लक्षण

  • इसमें कुछ चीजों का स्वाद आना बंद हो जाता है.
  • गंध भी प्रभावित हो जाती है.
  • इंफेक्शन होने के बाद लक्षण दिखने में 1 से 2 दिन लग सकते हैं.
  • इसमें छींक आने की आशंका कम रहती है.
  • गले में खराश होती है, गरारे करने पर फायदा होता है.
  • कई बार बहुत तेज सूखी या कफ वाली खांसी होती है.
  • कई बार खांसते हुए सांस लेने में परेशानी हो जाती है.
  • मांसपेशियों में दर्द हो सकता है. यह दर्द बेचैन कर सकता है.
  • सिरदर्द की परेशानी भी हो सकती है.
  • नाक बंद होने की आशंका कम है.
  • थकान महसूस होती है.

ये भी पढ़ें; men’s health: पुरुषों के लिए बेहद फायदेमंद हैं यह 4 चीजें, बढ़ाती हैं सेक्स ड्राइव



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *