Corona Virus: शरीर के ये संकेत बताते हैं कमजोर है इम्‍यूनिटी, मजबूत करने के लिए करें ये उपाय
स्वास्थ्य

Corona Virus: शरीर के ये संकेत बताते हैं कमजोर है इम्‍यूनिटी, मजबूत करने के लिए करें ये उपाय

नई दिल्‍ली. चीन में कोरोना के प्रकोप दिखाने के बाद भारत में भी इसे लेकर चिंता पैदा होना लाजिमी है. हालांकि अभी भारत में कोरोना के मामले काफी कम संख्‍या में रिपोर्ट हो रहे हैं. इसके बावजूद कोरोना के नए-नए वेरिएंट सामने आने के बाद इस बीमारी के संक्रमण का खतरा लगातार बना हुआ है. स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञों की मानें तो कोरोना के मामले कम होने के बावजूद लोगों को कोरोना नियमों का पालन करने के साथ ही इम्‍यूनिटी या रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने की जरूरत है. ताकि कोरोना वायरस के किसी भी वेरिएंट के हमले के दौरान खुद को सुरक्षित रखा जा सके. हालांकि इसके लिए जरूरी है कि शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता कैसी है? इसे पहचान लिया जाए. इम्‍यूनिटी कमजोर है या मजबूत है, ये शरीर के कुछ लक्षणों आधार पर भी पहचानी जा सकती है.

स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञों की मानें तो सामान्‍यतौर पर शरीर में आने वाले बदलावों के आधार पर रोग प्रतिरोधक क्षमता का अंदाजा भी लगाया जा सकता है. जैसे अगर आप बार-बार किसी भी प्रकार के संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं या बिना किसी खास वजह के मानसिक रूप से परेशान हैं या तनाव में हैं, लगातार पेट की बीमारियां हो रही हैं तो ये कमजोर इम्युनिटी के लक्षण हो सकते हैं. अगर सही खान-पान और संतुलित जीवनशैली को अपनाया जाए तो इम्‍यूनिटी को मजबूत किया जा सकता है.

इन संकेतों से पहचानें कमजोर है इम्‍यूनिटी

.आमतौर पर मौसम बदलने पर कई बीमारियां आती हैं और लोगों को चपेट में लेती हैं. अगर आप भी उन्‍हीं में से एक हैं जो हर बार मौसम बदलने पर बीमार पड़ते हैं, मौसमी बीमारियों की चपेट में जल्‍दी आते हैं तो यह कमजोर इम्‍यूनिटी या रोग प्रतिकार शक्ति का सबसे बड़ा लक्षण हो सकता है.

. हर समय थकान, कमजोरी या काम के बोझ से दबा हुआ महसूस करते हैं, नींद कम आना लगातार नींद में बने रहने, आलस्‍य आदि की दिक्‍कत हो रही है तो यह भी इम्‍यूनिटी के सही न होने का संकेत हो सकता है.

. पेट का बार-बार खराब हो जाना, दस्‍त, एसिडिटी, ऐंठन, कब्‍ज, अल्‍सर, दर्द आदि की शिकायत रहती है तो यह भी बताता है कि इम्‍यूनिटी कमजोर है. विशेषज्ञों की मानें तो आंतों में मौजूद बैक्‍टीरिया सीधे इम्‍यून सिस्‍टम को प्रभावित करता है.

. स्‍थाई रूप से किसी गंभीर बीमारी से जूझना. हर्ट संबंधी, आंत या किडनी संबंधी, कैंसर, लिवर संबंधी, फेफड़े संबंधी आदि किसी भी प्रकार की क्रॉनिक डिजीज से जूझ रहे लोगों की रोग प्रतिरोधक शक्ति भी कमजोर रहती है. इन लोगों के किसी भी प्रकार के संक्रमण की चपेट में आने का खतरा बहुत ज्‍यादा रहता है.

. रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने पर किसी भी रोग को ठीक होने में भी सामान्‍य से ज्‍यादा समय लगता है. किसी प्रकार का घाव होन पर उसे भरने में भी समय लगता है.

. अगर आपको बार-बार एलर्जी हो रही है तो यह भी शरीर में इम्‍यूनिटी कमजोर होने का लक्षण है.

इम्‍यूनिटी मजबूत करने के लिए ये करें उपाय
ऑल इंडिया इंस्‍टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद के मेडिकल सुप्रिटेंडेंट एस राजगोपाल कहते हैं कि कोरोना के मामले भले ही कम हो गए हैं लेकिन इम्‍यूनिटी को मजबूत करने के उपाय करते रहने चाहिए. ये न केवल कोरोना वायरस बल्कि किसी भी प्रकार के रोगों से शरीर को लड़ने की क्षमता प्रदान करने के लिए जरूरी है. इसके लिए कुछ चीजों का ध्‍यान रखा जाए तो कोई भी वायरस या मौसमी बीमारी संक्रमित जरूर कर सकती है लेकिन उसका गंभीर असर नहीं पड़ता है. इसके लिए ये चीजें की जा सकती हैं.

. सबसे पहले दिनचर्या पर ध्‍यान देना जरूरी है. अगर रोजाना की दिनचर्या सही है, सुबह उठने और सोने का समय निश्चित है, नाश्‍ते और खाने का समय ठीक रखना जरूरी है.

. दिनचर्या में व्‍यायाम को शामिल करना जरूरी है. रोजाना योगासन और प्राणायाम से इम्‍यूनिटी को मजबूत करने में मदद मिलती है.

. पोषणयुक्‍त खान-पान इम्‍यूनिटी को बनाए रखने के लिए जरूरी है. डाइट में मौसमी फल, सब्‍जी, सलाद, जूस आदि की मात्रा रखना जरूरी है.

. घर में वेंटीलेशन होना चाहिए. साफ और शुद्ध हवा सेहत के लिए सबसे जरूरी है.

. मौसम के अनुसार आयुर्वेदिक उपायों का अपनाने से भी रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ती है. आयुष के ऐसे कई उत्‍पाद हैं. इसके अलावा रसोई में मौजूद मसालों के निश्चित अनुपात में इस्‍तेमाल से भी इम्‍यूनिटी बढ़ती है.

. गिलोय या गुडुची का सेवन करना लाभदायक है. इससे भी इम्‍यूनिटी बढ़ती है.

Tags: Corona Virus, Immunity

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.