एड़ी में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज: सिर्फ एक पत्ते के इस्तेमाल से मिलेगा फायदा
स्वास्थ्य

ayurvedic remedy for heel pain causes of pain in heel janiye edi me dard ho to kya karein samp | एड़ी में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज: सिर्फ एक पत्ते के इस्तेमाल से मिलेगा फायदा

शारीरिक संतुलन बनाए रखने और आरामदायक मूवमेंट के लिए हमारे पैरों का निचला हिस्सा काफी अहम होता है. जिसे अंग्रेजी में Foot कहा जाता है. इसमें कई हड्डियां व जोड़ होते हैं. पैर के इस हिस्से की सबसे बड़ी हड्डी हमारी एड़ी होती है. कई कारणों से हमारी एड़ी में दर्द हो जाता है. जिससे खड़े होने या चलने में तकलीफ होने लगती है. लेकिन आयुर्वेद में एड़ी के दर्द का बेहतरीन इलाज बताया गया है. जिसे अपनाने से आप बहुत जल्द राहत प्राप्त कर सकते हैं.

एड़ी में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज (Ayurvedic Remedy for Heel Pain) जानने से पहले इसके कारणों पर नजर डाल लेते हैं.

ये भी पढ़ें: अगर बिना कुछ किए हो रहा है वेट लॉस, तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं, हो सकती हैं ये दिक्कतें

एड़ी में दर्द के कारण (Causes of Heel Pain)
एड़ी में दर्द होने के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं. जैसे-

  • Plantar Fasciitis: ज्यादा प्रेशर पड़ने से प्लांटर फासिया लिगामेंट (Plantar Fascia Ligament) का डैमेज होना
  • Sprain/Strain: शारीरिक गतिविधि से एड़ी में चोट लगना या तनाव आना
  • Fracture: एड़ी में फ्रैक्चर होना
  • Achilles Tendonitis: एड़ी और पिंडली को जोड़ने वाले टेंडन में सूजन व अकड़न
  • Reactive Arthritis: रिएक्टिव आर्थराइटिस के कारण
  • Osteochondroses: हड्डियों के विकास को प्रभावित करने वाले डिसऑर्डर के कारण, आदि

ये भी पढ़ें: Your Skin Type: क्या है आपकी स्किन का टाइप? ऐसे लगाएं पता

एड़ी में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? (Ayurvedic Treatment for Heel Pain)
आयुर्वेदिक विशेषज्ञ डॉ. अबरार मुल्तानी के मुताबिक, आपको आंकड़े का पत्ता (Calotropis Procera) लेना है. इस पत्ते को तवे पर सरसों के तेल में गर्म करें. इसके बाद आप इसे जितना गर्म सहन कर सकते हैं, उतना गर्म एड़ी में सोते समय बांध लें. कुछ दिनों तक ऐसा करने से एड़ी का दर्द गायब हो जाएगा.

एड़ी में दर्द से राहत पाने के अन्य उपाय (Tips for Pain in Heels)

  • दिन में दो बार 10 से 15 मिनट बर्फ लगाएं.
  • आराम करें.
  • फिटिंग वाले जूते पहनें.
  • ओटीसी पेन किलर लें, आदि

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *