Artificial sweeteners increase risk of stroke heart disease and death research nav - आर्टिफिशियल मिठास वाली ड्रिंक्स से स्ट्रोक, हार्ट डिजीज और मौत का खतरा
स्वास्थ्य

Artificial sweeteners increase risk of stroke heart disease and death research nav – आर्टिफिशियल मिठास वाली ड्रिंक्स से स्ट्रोक, हार्ट डिजीज और मौत का खतरा

Artificial Sweeteners Diet Drinks linked to Heart and Stroke Risk : आमतौर पर ऐसा कहा जाता है कि इंसान की उम्र कुदरत तय करती है, बहुत हद तक ये बात सही भी है. लेकिन उम्र और हेल्थ पर हमारे खानपान यानी डाइट का भी असर होता है इससे भी इनकार नहीं किया जा सकता है. हिंदुस्तान अखबार में छपी न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक, अब एक नई रिसर्च में दावा किया गया है कि हमारे द्वारा चयन किए जाने वाले पेय पदार्थ यानी पीने वाली चीजें (Drinkable item)भी उम्र पर असर डाल सकती हैं. इस रिसर्च में बताया गया है कि कृत्रिम मिठास वाले पेय (artificial sweeteners)लंबी उम्र में बाधा बन सकते हैं. नेशनल हेल्थ सर्वे (NHS) के आंकड़ों के मुताबिक आज हर 6 में से एक शख्स की उम्र 65 साल या उससे अधिक है. और साल 2050 ये संख्या चार में से 1 हो जाएगी. हालांकि हम लंबी उम्र के मामले में प्रगति कर रहे हैं लेकिन ऐसे कई कारक मौजूद है, जो हेल्थ प्रॉब्लम्स का रिस्क बढ़ा सकते हैं. इनमें व्यक्ति की डाइट और लाइफस्टाइल से संबंधित कारक शामिल हैं.

इस शोध से पता चला है कि कुछ पेय पदार्थ आपकी लंबी उम्र को कम कर सकते हैं और स्ट्रोक जैसे रिस्क को बढ़ाते हैं. इसलिए अगर आप लंबी आयु की हसरत रखते हैं तो पेय पदार्थों का सिलेक्शन सोच समझकर करें.

80 हजार से ज्यादा महिलाओं पर की गई स्टडी
बीएचएफ यानी ब्रिटिश हार्ट फाउंडेशन (British Heart Foundation) ने पाया है कि कृत्रिम रूप से मीठे पेय यानी आर्टिफिशियल मीठे से युक्त ड्रिंक्स (artificially sweetened drinks) का सेवन और स्ट्रोक, हार्ट डिजीज और मौत के रिस्क के बीच संबंध पाया गया है. इस रिसर्च में पाया गया है कि एक दिन में दो से ज्यादा डाइट ड्रिंक्स पीने वाली महिलाओं में इसका खतरा सबसे ज्यादा होता है. ये निष्कर्ष 80 हजार से ज्यादा महिलाओं पर की गई स्टडी पर बेस्ड है, जिन्होंने वुमेन हेल्थ इनिशिएटिव स्टडी (Women’s Health Initiative Overview Study) में भाग लिया.

यह भी पढ़ें- हर चीज में एलोवेरा का सेवन करने से बचें, फायदे की जगह नुकसान हो सकता है

यह 50 से 79 वर्ष की आयु के पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं (postmenopausal women) पर एक लंबे समय तक चलने वाली अमेरिकी स्टडी है. यह रिसर्च न्यूयॉर्क में अल्बर्ट आइंस्टीन कॉलेज ऑफ मेडिसिन (Albert Einstein College of Medicine) से आयी है, और प्रतिभागियों की हेल्थ की निगरानी औसतन 12 वर्षों तक की गई थी.

स्टडी में क्या निकला
एक डाइट ड्रिंक (Diet Drink) के माप के रूप में 12 फ़्लूड आउंस कैन (355ml – मानक यूके कैन आकार 330ml से थोड़ा बड़ा) का उपयोग किया गया था. स्टडी में शामिल अधिकांश महिलाओं (64.1%) ने कहा कि उन्होंने कभी भी या सप्ताह में एक बार से कम डाइट ड्रिंक, जैसे डाइट कोला (Diet Cola) का सेवन नहीं किया. केवल 5.1% (4,196 लोगों) ने एक दिन में दो या अधिक कृत्रिम रूप से मीठे पेय (artificially sweetened drinks) का सेवन किया. इन महिलाओं के मोटे होने और कम एक्सरसाइज करने की संभावना अधिक थी, हालांकि स्टडी के परिणामों को उन कारकों को ध्यान में रखते हुए समायोजित (Well Adjust) किया गया जो हार्ट डिजीज और स्ट्रोक के रिस्क को प्रभावित कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें- सर्दी के मौसम में सेहत को दुरुस्त रखने में हेल्प करेंगे ये सुपर फूड

एक सप्ताह में एक या कम डाइट ड्रिंक लेने वाली महिलाओं की तुलना में, दिन में दो या अधिक पेय पीने वाली महिलाओं में स्ट्रोक का रिस्क 23% बढ़ा हुआ था. वहीं कोरोनरी हार्ट डिजीज (coronary heart disease) का रिस्क 29% बढ़ा हुआ और मरने की संभावना का रिस्क 16% बढ़ गया.

बढ़ गया इस्केमिक स्ट्रोक का रिस्क
जब विभिन्न प्रकार के स्ट्रोक के लिए विश्लेषण को तोड़ा गया, तो एक दिन में दो या दो से अधिक डाइट ड्रिंक पीने वाली महिलाओं में इस्केमिक स्ट्रोक (ischaemic stroke) का रिस्क 31% बढ़ा पाया गया. इस्केमिक स्ट्रोक सबसे सामान्य प्रकार का स्ट्रोक है, जो रक्त के थक्के (blood clot blocking) के कारण होता है, जो ब्रेन में धमनी (artery) को अवरुद्ध करता है. शोधकर्ताओं को रक्तस्रावी स्ट्रोक (haemorrhagic stroke) का कोई बढ़ा हुआ रिस्क नहीं मिला, जो ब्रेन में रक्त वाहिका (blood vessel) के फटने के कारण होता है. कृत्रिम रूप से मीठे पेय (artificially sweetened drinks) के सेवन के संबंध में विभिन्न प्रकार के स्ट्रोक के रिस्क का आंकलन करने के लिए ये पहली स्टडी थी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.