Anxiety symptoms can be reduced with exercise study - व्यायाम से कम किए जा सकते हैं एंग्जाइटी के लक्षण
स्वास्थ्य

Anxiety symptoms can be reduced with exercise study – व्यायाम से कम किए जा सकते हैं एंग्जाइटी के लक्षण

Anxiety symptoms Reduced by Exercise : आजकल के भागदौड़ भरे लाइफस्टाइल में तनाव या एंग्जाइटी (Anxiety) होना आम बात है. लेकिन अगर हम नियमित व्यायाम (Regular exercise) करें तो इसके लक्षणों को कम किया जा सकता है. एक ताजा स्टडी के मुताबिक मध्यम हो या जोरदार दोनों ही तरह की कसरत से एंग्जाइटी के लक्षण कम हो जाते हैं. यहां तक कि जब तनाव अपने चरम और घातक अवस्था में हो, तब भी एक्सरसाइज करना किसी जादू सा असर करता है. स्वीडन (Sweden) की गोथनबर्ग यूनिवर्सिटी (University of Gothenburg) के शोधकर्ताओं ने एक अध्ययन में यह बात साबित की है. यह स्टडी ‘जर्नल ऑफ अफैक्टिव डिसऑडर (Journal of Affective Disorders)’ में प्रकाशित हुई है.

आपको बता दें कि इसमें 286 मरीजों पर ‘एंग्जाइटी सिंड्रोम (anxiety syndrome)’ की स्टडी की गई. गोथनबर्ग और हालैंड काउंटी के उत्तरी भाग में रहने वाले ये सभी लोग पिछले 10 सालों से एंग्जाइटी से ग्रस्त थे. इस ग्रुप के लोगों की औसत उम्र 39 वर्ष है और इसमें 70 प्रतिशत महिलाएं हैं. पब्लिक हेल्थ रिकमेंडेशंस के अनुसार, 12 हफ्तों के लिए कुछ ग्रुप्स से विभिन्न सेशंस में मीडियम और कुछ ग्रुप्स से हार्ड एक्सरसाइज कराई गई.

स्टडी के नतीजे
इसके नतीजा ये आया कि इससे चिंता और तनाव (anxiety and stress) के लक्षण अपेक्षाकृत काफी कम हो गए. अत्यधिक तनाव से पीड़ित मरीजों में भी स्थिति पहले से काफी बेहतर नजर आई.

यह भी पढ़ें- वायु प्रदूषण से केवल सांस संबंधी ही नहीं, डिप्रेशन का भी खतरा – रिसर्च

अत्यधिक तनाव वाले और नियंत्रित समूह वाले लोगों को कसरत से पहले कुछ सलाहें भी दी गईं थीं. 12 हफ्ते के इलाज में प्रतिभागी मरीजों में कसरत के बाद काफी सकारात्मक अंतर देखने को मिला. ज्यादा तनाव वाले लोगों को कम से मीडियम लेवल की एक्सरसाइज कराई गई थी.

यह भी पढ़ें- डायबिटीज के रोगियों का हार्ट अटैक और स्ट्रोक जैसी जानलेवा स्थितियों से बचाव होगा आसान- स्टडी

क्या होता है नुकसान?
आपको बता दें कि चिंता यानी एंग्जाइटी (Anxiety) किसी समस्या का समाधान नहीं, बल्कि ये आपकी परेशानी बढ़ा सकती है. क्योंकि चिंता की स्थिति में व्यक्ति की सांस लेने की प्रवृत्ति (Tendency to breathe) बदल जाती है, जिससे बेचैनी और भी बढ़ जाती है. न्यूजीलैंड की यूनिवर्सिटी ऑफ ओटागो (University of Otago) के रिसर्चर्स ने अपनी एक स्टडी के आधार पर ये दावा किया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.