Covid-19: कोरोना काल में रहना चाहते हैं सुरक्षित तो फेस मास्‍क के बारे में जान लें जरूरी बातें
स्वास्थ्य

Anti Pollution Mask: जानें बाजार में मिलते हैं कितने प्रकार के मास्क, कैसे काम करता है फिल्टर | health – News in Hindi

संक्रमण से बचाव के लिए जरूरी है कि मास्क की सफाई का पूरा ख्‍याल रखा जाए.

एक अच्छा एयर मास्क (Air Mask) अच्छी तरह फिट होना चाहिए तथा यह बहुत टाइट या बहुत ढीला नहीं होना चाहिए. स्मॉग, रोगाणु और वायु प्रदूषण मास्क त्वचा पर नरम और आरामदायक होना चाहिए.

वायु प्रदूषण (Air Pollution) अर्थात हवा में ऐसे अवांछित गैसों, धूल के कणों की उपस्थिति है जो लोगों तथा प्रकृति दोनों के लिए खतरे का कारण बन सकती है. वायु प्रदूषण वातावरण तथा हमारे ऊपर अनेक प्रभाव डालता है. हम सभी को इस बारे में जानकारी है कि भारत सहित सम्पूर्ण विश्व में वायु प्रदूषण की समस्या दिन प्रति दिन बढ़ती जा रही है. बढ़ते प्रदूषण की वजह से लोग काफी ज्यादा परेशान रहने लगे हैं. वायु प्रदूषण के कण इतने छोटें होते है कि ये हमारी श्वसन प्रणाली (Respiratory System) के माध्यम से शरीर के अन्दर प्रवेश कर जाते है. प्रदूषित हवा के संपर्क में लंबे समय तक रहने से व्यक्ति में ब्रोंकाइटिस, अस्थमा (Asthama), घुटन महसूस करना, त्वचा में संक्रमण, बाल झड़ने और फेफड़े का कैंसर जैसी बीमारियां हो सकती हैं. हालांकि वायु प्रदूषण का सबसे ज्यादा असर व्यक्ति की श्वसन प्रणाली पर पड़ता है.

दिवाली के बाद उत्तर भारत में वायु प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ जाता है. दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण का स्तर देश के बाकी हिस्सों से सबसे अधिक हो जाता है. बढ़ते प्रदूषण से डरे हुए लोग खुद को इसके दुष्प्रभाव से बचाने के लिए दुकानों पर मिलने वाले सर्जिकल मास्क खरीदते हैं. लेकिन सवाल ये है कि इन दुकानों पर मिलने वाले सर्जिकल मास्क हमें प्रदुषण से कितना बचा सकते है. एक अच्छा एयर मास्क अच्छी तरह फिट होना चाहिए तथा यह बहुत टाइट या बहुत ढीला नहीं होना चाहिए. स्मॉग, रोगाणु और वायु प्रदूषण मास्क त्वचा पर नरम और आरामदायक होना चाहिए. आइए जानते हैं बाजार में उपलब्ध मास्क के बारे में.

इसे भी पढ़ेंः क्या है पैनिक अटैक, कैसे करें पैनिक अटैक वाले इंसान की मदद

बाजार में मिलने वाले मास्कN95 मास्क
N95 मास्क, प्रदूषित वायु में उपस्थित उन पार्टिकुलेट मैटर को 95% तक फिल्टर करने में सक्षम होता है, जिनका आकर 0.3 से 2.5PM तक रहता है. इसका डिजाइन इस तरह से तैयार किया गया है कि यह नाक और आंखों के आसपास की जगह को नमी और अत्यधिक कोहरे से बचाने में मदद कर सके. यह सबसे आम और दोबारा उपयोग में लाए जाने वाले मास्क हैं. इनका मूल्य 90 से 150 रुपये तक होता है.

N99 और N100 मास्क
N99 मास्क, 0.3 माइक्रोन जितने छोटे आकार के कणों को 99% तक रोकने में सक्षम होता है. जबकि N100 मास्क वायु से 99.97% तक प्रदूषकों को कम कर सकता है. N99 और N100 दोनों ही मास्क धोने योग्य और दोबारा उपयोग के योग्य हैं. इसकी कीमत 1800 रुपए से शुरू होकर 2800 रुपए तक है.

एटलांटा कैम्ब्रिज मास्क
यह मास्क एटलांटा हेल्थकेयर और कैम्ब्रिज मास्क कंपनी की साझेदारी से तैयार किया गया है. इस मास्क में हवा को छानने के लिए तीन परतें लगी हैं. यह मास्क 0.3 से 2.5 pm धूल के कणों को छानने के साथ व्यक्ति को हवा में फैले वायरस और बैक्टीरिया से भी बचाता है.

इसे भी पढ़ेंः जानें क्या होते हैं Menstrual Cups, कौन सा मेंस्ट्रुअल कप है आपके लिए सही

टोटोबोबो मास्क
इस तरह के मास्क का इस्तेमाल आप कई बार कर सकते हैं. इनमें मौजूद फिल्टर को भी आप अपनी इच्छानुसार बदल सकते हैं. ये मार्केट में थोड़ी मुश्किल से मिलते हैं. इनकी कीमत 2000 रुपए से शुरू होकर 2500 रुपए तक होती है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *