वर्टिगो के कारण आंखों और गर्दन को घुमाने में मुश्किल होती है,​ जिस कारण मरीज को सिर एकदम सीधा रखने की जरूरत होती है.
स्वास्थ्य

होम्योपैथी में है चक्कर आने का इलाज, जानें उपचार का तरीका

वर्टिगो के कारण आंखों और गर्दन को घुमाने में मुश्किल होती है,​ जिस कारण मरीज को सिर एकदम सीधा रखने की जरूरत होती है.

चक्कर आना (Vertigo) एक ऐसी स्थिति है, जिसमें व्यक्ति को सब कुछ घूमता हुआ नजर आता है, लेकिन यह लक्षण कई प्रकार की बीमारियों का संकेत भी हो सकता है. इसके अतिरिक्त अधिक उम्र के लोगों में भी चक्कर आने की समस्या देखी जा सकती है.



  • Last Updated:
    December 8, 2020, 6:34 AM IST

सिर घूमना, चक्कर आना या फिर आंखों के सामने हर चीज घूमती हुई दिखना, इस स्थिति को मेडिकल की भाषा में वर्टिगो (Vertigo) कहते हैं. ज्यादा देर तक बैठे रहने के बाद जब अचानक उठते हैं तो कई लोग सिर घूमने जैसा अनुभव करते हैं. इसमें आंखों के आगे अंधेरा भी छा सकता है. चक्कर आने के कई कारण हो सकते हैं जैसे कान में किसी प्रकार का संक्रमण, आंखों में किसी प्रकार की समस्या, सिर की चोट, खून की कमी, हृदय संबंधी कोई परेशानी इत्यादि. आइए जानते हैं चक्कर आने के लक्षण क्या है और इससे बचने के लिए होम्योपैथी में क्या उपाय है.

ये संकेत हो सकते हैं वर्टिगो के लक्षण

कुछ विशेषज्ञ मानते हैं कि चक्कर आना एक ऐसी स्थिति है, जिसमें व्यक्ति को सब कुछ घूमता हुआ नजर आता है, लेकिन यह लक्षण कई प्रकार की बीमारियों का संकेत भी हो सकता है. इसके अतिरिक्त अधिक उम्र के लोगों में भी चक्कर आने की समस्या देखी जा सकती है. हालांकि चक्कर आने के बारे में पता लगाना कई बार थोड़ा कठिन हो सकता है. इसका कोई एक कारण नहीं बताया जा सकता है, लेकिन कान के अंदर छोटी छोटी हड्डियां होती हैं, जो मस्तिष्क तक संदेश भेजने का कार्य करती हैं, जिसे वेस्टीबुलर सिस्टम कहते हैं. यदि इस सिस्टम का संतुलन बिगड़ जाए तो ऐसे में चक्कर आ सकता है. इस समस्या में होम्योपैथिक इलाज बेहद कारगर है.कोनियम मैकुलेटम दवा

यह दवा महिलाओं और अधिक उम्र के लोगों के लिए काफी फायदेमंद है. यह कैंसर, लकवा या ग्रंथियों में सूजन की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए भी असरदार है. इन सभी परेशानियों में मरीज को सिर्फ सिर हिलाने से भी चक्कर आ सकता है. वर्टिगो के कारण आंखों और गर्दन को घुमाने में मुश्किल होती है,​ जिस कारण मरीज को सिर एकदम सीधा रखने की जरूरत होती है. ज्यादा झुकने लेटने या सोते समय करवट बदलने पर भी चक्कर आ सकते हैं. एक रिसर्च के मुताबिक कोनियम मैकुलेटम शरीर की तंत्रिका तंत्र में सुधार के लिए भी अच्छी होती है.

अम्बा ग्रीसिया है कारगर दवा

जो लोग जल्दी घबराते और बेहद संवेदनशील होते हैं, उनके लिए यह दवा काफी फायदेमंद है. कमजोर महिलाओं, बच्चों और बूढ़े लोगों के लिए भी यह दवा असरदार है. जिन लोगों को सिर में भारीपन, शरीर में कमजोरी या जिन्हें पेट संबंधी समस्या महसूस होती है, ऐसे लोग चक्कर आने पर यदि लेट जाएं तो इससे उन्हें आराम मिलता है. इस स्थिति में अम्बा ग्रीसिया नामक दवा बेहद कारगर होती है. इन दवाओं का इस्तेमाल नियमित रूप से करने पर कमजोरी और चक्कर आने जैसी समस्याओं को ठीक किया जा सकता है.

कक्कुलास इंडिकस का करें इस्तेमाल

जिन लोगों को सफर में उल्टी या चक्कर आते हैं या अत्यधिक शोर या कोई मानसिक तनाव होने पर सिर घूमता है या महिलाओं को माहवारी के दौरान चक्कर की समस्या होती है, उनके लिए कक्कुलास इंडिकस दवा काफी फायदेमंद होती है. माहवारी के समय ब्लीडिंग ज्यादा होने के कारण भी चक्कर आने की समस्या हो सकती है. ऐसी स्थिति में भी काक्कुलस इंडिकस होम्योपैथिक दवा का उपयोग किया जा सकता है. कुछ रिसर्च में यह पाया गया है कि होम्योपैथिक दवाओं में काक्कुलस इंडिकस कानों के वेस्टीबुलर सिस्टम में संतुलन बनाए रखने का भी काम करती है और चक्कर आने जैसी परेशानी को दूर करती है.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, चक्कर आने के घरेलू उपाय पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *