हाई ब्लड प्रेशर वालों के लिए बड़े काम की है अलसी, ऐसे करेगी मदद
स्वास्थ्य

हाई ब्लड प्रेशर वालों के लिए बड़े काम की है अलसी, ऐसे करेगी मदद | health – News in Hindi

अलसी धमनियों में प्लाक के निर्माण को कम कर हृदय रोग और स्ट्रोक के खतरे को कम करने में मदद करता है.

शरीर में प्रोटीन की पूर्ति के लिए हर उम्र का व्यक्ति अपने आहार में अलसी (Flax) को शामिल कर सकता है और यही कारण है कि अलसी को एक महत्वपूर्ण जड़ी बूटी (Herbs) के रूप में पहचाना जाता है.



  • Last Updated:
    September 29, 2020, 6:40 AM IST

हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) या उच्च रक्तचाप को कभी भी हल्के में नहीं लिया जा सकता है. हाई बीपी की समस्या होने पर हार्ट अटैक (Heart Attack), स्ट्रोक (Stroke) और किडनी फेल होने का खतरा बढ़ जाता है. इस समस्‍या के होने पर धमनियों में खून का प्रेशर बढ़ जाता है. अव्यवस्थित जीवनशैली, खराब आहार और तनाव इस बीमारी के कारण हो सकते हैं. myUpchar के अनसार हाई ब्लड प्रेशर को एक साइलेंट किलर के रूप में जाना जाता है, क्योंकि अधिकांश लोगों को कोई लक्षण अनुभव नहीं होते हैं, जब तक कि उन्हें दिल का दौरा या स्ट्रोक जैसी कोई गंभीर समस्या नहीं हो जाती. इस बीमारी को अपने नियंत्रण में रखना हो या इसके खतरे से बचना हो तो सबसे पहले आहार में बदलाव की आवश्यकता होती है. कुछ ऐसे सुपरफूड्स हैं जो व्यक्ति के ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद कर सकते हैं और उनमें से ऐसा एक सुपरफूड है अलसी.

myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि शरीर में प्रोटीन की पूर्ति के लिए हर उम्र का व्यक्ति अपने आहार में अलसी को शामिल कर सकता है और यही कारण है कि अलसी को एक महत्वपूर्ण जड़ी बूटी के रूप में पहचाना जाता है. अलसी ओमेगा-3फैटी एसिड का एक समृद्ध स्रोत है जो हृदय स्वास्थ्य के लिए अच्छा है इन छोटे भूरे रंग के बीजों में बड़ी मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो कि दिल को स्वस्थ रखते हैं. अलसी में मौजूद हाई फाइबर बैड कोलेस्ट्रॉल या एलडीएल कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है और रक्त में गुड कोलेस्ट्रॉल या एचडीएस कोलेस्ट्रॉल बढ़ाता है. अलसी धमनियों में प्लाक के निर्माण को कम कर हृदय रोग और स्ट्रोक के खतरे को कम करने में मदद करता है.

यूरोपीय और एशियाई देशों में अलसी का इस्तेमाल लंबे समय से किया जा रहा है. हाइपरटेंशन जर्नल में प्रकाशित एक कनाडाई अध्ययन के अनुसार, जिन लोगों ने 30 ग्राम अलसी को अपने आहार में प्रतिदिन छह महीने तक शामिल किया, उनमें डायस्टोलिक ब्लड प्रेशर 7 एमएम एचजी और सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर 10 एमएम एचजी तक कम हुआ.अध्ययन के शोधकर्ताओं ने कहा कि अलसी को आहार में शामिल करने से ब्लड प्रेशर का स्तर कम हो जाता है, परिणामस्वरूप स्ट्रोक का जोखिम 50 प्रतिशत और दिल का दौरा पड़ने का 30 प्रतिशत जोखिम कम होता है.

11 अध्ययनों से प्राप्त आंकड़ों की समीक्षा में पाया गया कि तीन से अधिक महीनों के लिए रोजाना अलसी का सेवन करने से ब्लड प्रेशर 2 एमएम एचजी कम हो गया. ब्लडप्रेशर का 2 एमएम एचजी तक कम होना भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसके असर से स्ट्रोक से मरने वालों की संख्या की 10 प्रतिशत, तो हृदय रोग से मरने वालों की संख्या में 7 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई.

जानिए अलसी के सेवन का सही तरीका

अलसी को जब तक चबाकर न खाएं, इसका पूरा फायदा नहीं मिलेगा. इसलिए आमतौर पर इसे भिगोकर खाना सही रहता है. चाहें तो अलसी को पीसकर पाउडर के रूप में भी इसका सेवन कर सकते हैं.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, अलसी के तेल के फायदे और नुकसान पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *