स्वास्थ मंत्रालय ने जारी किया निर्देश, कोरोना काल में डेंगू को ना करें नजरअंदाज
स्वास्थ्य

स्वास्थ मंत्रालय ने जारी किया निर्देश, कोरोना काल में डेंगू को ना करें नजरअंदाज | health – News in Hindi

स्वास्थ मंत्रालय ने कहा, समय रहते डेंगू का इलाज संभव है.

स्वास्थ मंत्रालय (Ministry of health) ने दिशा-निर्देश जारी कर लोगों से डेंगू (dengue) को नजरअंदाज नहीं करने के लिए कहा है. मंत्रालय ने कहा है कि इसका इलाज (Treatment) वक्त रहते संभव हैं.

स्वास्थ मंत्रालय (Ministry of health) ने गाइडलाइन जारी कर लोगों से कोरोना वायरस (Corona virus) महामारी के दौर में डेंगू (dengue) को नज़रअंदाज़ ना करने की सलाह दी है. मंत्रालय ने कहा है कि डेंगू का इलाज संभव है, इसलिए इसके इलाज में किसी भी तरह की लापरवाही करना ठीक नहीं होगा. क्योंकि आगे आगे चलकर यह बीमारी भी गंभीर समस्या बन सकती है. स्वास्थ मंत्रालय ने इस बीमापरी के लक्षण और रोकथाम के लिए उपाय भी बताएं हैं. आइए जानते हैं इनके लक्षणों और रोकथाम के उपायों के बारे में….

डेंगू के लक्षण सामान्यत
तीन से चौदह दिनों के अंदर विकसित होते हैं. इसके बाद डेंगू का वायरस इंक्युबेशन की अवधि में (डेंगू का मच्छर काटने के बाद से डेंगू का लक्षण विकसित होने तक की अवधि को इंक्युबेशन अवधि कहते है) उजागर होता है. यह अवधि चार से सात दिन की हो सकती है.ये हैं डेंगू के लक्षण
– अचानक तेज बुखार आना
– सिरदर्द और आंखों में दर्द होना
– मांसपेशियों और जोड़ों में भयानक दर्द
– शरीर में चकत्ते निकलना
– ठंड लगना और बुखार आना
– त्वचा पर लाल चकत्ते बनना

– मुंह पर निस्तब्धता आना
– भूख न लगना
– गले में खराश
– असामान्य रूप से कान, मसूड़ों और पेशाब आदि से ख़ून बहना

कैसे फैलता है डेंगू
डेंगू एडीज एजिप्टी मादा मच्छर के काटने से फैलता है. यह मच्छर दिन में और रात कभी भी काटता है. डेंगू का वायरस आरएनए फ्लैविवीरिद परिवार से है. इस रोग के वायरस चार प्रकार के होते हैं, जिन्हें सिरोटाइप कहा जाता है. ये निम्नलिखित है:- डेन-1, डेन-2, डेन-3 और डेन-4. डेंगू वायरस का प्रसार एक चक्र के अंतर्गत होता है. जब मादा मच्छर द्वारा संक्रमित व्यक्ति को काटा जाता है. इसके बाद जब यही मच्छर किसी स्वस्थ व्यक्ति को काटता है तब यह वायरस व्यक्ति में चला जाता है और इस तरह यह चक्र लगातार चलता रहता है.
डेंगू से बचने के उपाय

1. डेंगू से बचने के लिए अभी तक कोई वैक्सीन बाज़ार में उपलब्ध नहीं है. इसकी रोकथाम का सबसे सरल उपाय यह है कि मच्छरों के काटने से बचा जाएं.
2. दिन में मच्छर के काटने से बचने वाले उत्पादों का प्रयोग करें
मच्छरदानी लगाकर सोएं.
3. बाहर जाते समय पूरी बांह और लंबी पैंट का प्रयोग करें. शरीर को मच्छर के काटने से बचने के लिए कीटनाशक उत्पादों (डीईईटी से युक्त) का प्रयोग करें. विशेषत: जब आप डेंगू प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करें तो शरीर के अधिकांश भागों को ढंक कर रखें.
4.मच्छरों की प्रजनन क्षमता को कम करने के लिए पानी के कंटेनर को ठीक तरह से हमेशा कवर करके रखें.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *