गर्दन में दर्द की समस्या को दूर करने में होम्‍योपैथिक दवाएं कारगर हैं.
स्वास्थ्य

सर्वाइकल यानी गर्दन दर्द को होम्योपैथी में ऐसे किया जाता है दूर

अक्सर गर्दन का दर्द (Neck Pain) गलत तरीकों से सोने या किसी झटके के कारण मांसपेशियों (Muscles) में खिंचाव के कारण होता है. myUpchar के अनुसार गर्दन में दर्द की समस्या गर्दन पर अत्यधिक जोर पड़ने या झटके के कारण भी हो सकती है. अगर ध्यान नहीं दिया गया तो इस तरह का दर्द भविष्य में और अधिक बढ़ सकता है. गर्दन की इस समस्या को ठीक करने में होम्योपैथिक दवा (Homeopathic Medicine) किस तरह असरदार होती है, आइए जानते हैं –

कॉस्टिकम जोड़ों और हड्डियों के दर्द में सहायक दवा
जिन लोगों को हड्डियों और जोड़ों में अत्यधिक दर्द होने की समस्या बनी रहती है, इसके लिए कॉस्टिकम जैसी दवा काफी कारगर होती है. इसके अतिरिक्त जिन्हें गर्दन की हड्डी में अकड़न या चोट जैसा महसूस हो, उनके लिए भी यह बेहद लाभदायक दवा है.चेलिडोनियम मेजस गर्दन और कंधे के दर्द में सहायक

जिन लोगों की गर्दन में अकड़न या गर्दन घुमाने पर समस्या होती है और साथ ही कंधों में दर्द की शिकायत होती है. इन सभी परेशानियों के इलाज में चेलिडोनियम मेजस एक बेहतर होम्योपैथिक दवा का कार्य करती है.

सिमिसिफुगा मांसपेशियों के लिए कारगर
जिन्हें रीढ़ की हड्डियों से संबंधित परेशानी होती है या जिन्हें मांसपेशियों से संबंधित समस्याएं होती हैं. इसके अतिरिक्त जिनकी मांसपेशियों में ऐंठन और चुभने जैसा दर्द हो और गर्दन में भी अकड़न महसूस हो तो इसमें यह दवा लाभप्रद होती है.

ये भी पढ़ें – कोरोना काल में रेकी हीलिंग है फायदेमंद, जानिए क्‍या है ये

जेल्सीमियम दूर करे मांसपेशियों की कमजोरी
जिन लोगों को मांसपेशियों में कमजोरी बनी रहती है, इसके साथ ही पीठ और गर्दन में अत्यधिक दर्द होता है. इन सभी प्रकार के दर्द को दूर करने में यह सहायक होती है. शरीर में अधिक थकान महसूस होने जैसी समस्याओं में भी जैलिसीमियम कारगर होम्योपैथिक दवा है.

ब्रोयोनिया मांसपेशियों के दर्द में उपयोगी होम्योपैथिक दवा
जिन्हें हल्का सा भी हिलने या कोई कार्य करने पर मांसपेशियों में दर्द होने लगता है या गर्दन में अकड़न के साथ गर्दन हिलाने पर भी दर्द या खिंचाव होता है तो इन सभी समस्याओं के लिए ब्रायोनिया काफी फायदेमंद होती है.

कॉस्टिकम भी गर्दन की समस्याओं में कारगर
जिन्हें गर्दन में किसी भी तरह के दर्द की समस्या होती है तो इसमें कॉस्टिकम जैसी होम्योपैथिक दवा काफी असरदार होती है. यही नहीं इस दवा का इस्तेमाल अन्य समस्याओं जैसे याददाश्त कमजोर होना, बोलने में समस्या होना, त्वचा में जलन के लिए भी किया जा सकता है.

हाइपेरिकम परफोरेटम नसों के दर्द को दूर करने में सहायक
नसों के दर्द को ठीक करने में यह काफी कारगर दवा है. गर्दन में सोने के गलत तरीके के कारण नसों में अत्यधिक दर्द होने लगता है, जिसके कारण गर्दन हिलाना भी मुश्किल हो जाता है. नसों में दर्द होने पर यह दवा राहत का कार्य करती है. इसके अतिरिक्त रीढ़ की हड्डियों से संबंधित सभी दिक्कतों में भी यह दवा बेहतर उपचार करती है.

ये भी पढ़ें – नहीं बढ़ रही है बच्चे की हाइट, तो हो सकते हैं ग्रोथ हार्मोन की कमी के शिकार

सरकोलैक्टिकम एसिडम पीठ, गर्दन और कंधों की मांसपेशियों के दर्द में कारगर
जिन्हें पीठ, गर्दन और कंधों की मांसपेशियों में कमजोरी और दर्द की समस्या बनी रहती है, उनके लिए यह दवा राहत पहुंचाने का काम करती है. इस दवा का इस्तेमाल अन्य समस्याओं जैसे अधिक थकान और लगातार नींद आने जैसी समस्याओं के लिए भी किया जा सकता है.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, सर्वाइकल दर्द की आयुर्वेदिक दवा और इलाज पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *