विटामिन सी एक पावरफुल एंटीऑक्सीडेंट है, जो इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत करता है.
स्वास्थ्य

वायु प्रदूषण के बुरे प्रभाव से सेहत को बचाने के लिए डाइट में जरूर शामिल करें ये फूड्स

दिवाली का त्योहार (Diwali Festival) आने में अब भी 5 दिन बाकी हैं और दिल्ली-एनसीआर की हवा अभी से ही बेहद प्रदूषित और खतरनाक स्तर पर पहुंच गई है. ऐसे में दिवाली के बाद प्रदूषण की स्थिति कितनी ज्यादा भयावह हो जाएगी इसका अंदाजा लगाना मु्श्किल नहीं है. ये तो हम सभी जानते हैं कि वायु प्रदूषण का हमारी सेहत (Health) पर कितना गंभीर असर पड़ता है. प्रदूषित हवा की वजह से सिर्फ सांस से संबंधी बीमारी और अस्थमा ही नहीं होता, बल्कि स्किन (Skin) से संबंधित समस्याएं, मेंटल हेल्थ से जुड़ी बीमारियां, कैंसर और हृदय रोग भी हो सकता है.

फेफड़ों को प्रदूषण से बचाने के उपाय
विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों की मानें तो हर साल दुनिया भर में करीब 70 लाख लोगों की मौत वायु प्रदूषण की वजह से होती है. जिस प्रदूषित हवा को हम सांस के जरिए शरीर के अंदर लेते हैं उसमें नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, पार्टिक्यूलेट मैटर, ओजोन, डीजल के बारीक कण आदि हमारे फेफड़ों तक पहुंच जाते हैं और प्रदूषण के ये कण कोशिकाओं और इम्यून सिस्टम पर हमला कर हमें बीमार बना देते हैं, लेकिन रिसर्च की मानें तो हम क्या खाते हैं और वायु प्रदूषण के खिलाफ सुरक्षा मिलने के बीच एक लिंक है. लिहाजा आपको अपने रोजाना के खानपान में कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए जो वायु प्रदूषण के कारण सेहत को जो क्षति पहुंचती है उससे आपके शरीर को बचा सकें.ये भी पढ़ें – न्यूमोकोकल टीका लगवाते समय इन साइड इफेक्ट का रखें ध्यान

माइ उपचार से जुड़ीं न्यूट्रिशनिस्ट और वेलनेस एक्सपर्ट आकांक्षा मिश्रा से हमने बात की हमारे किचन में मौजूद उन खाद्य पदार्थों के बारे में जो प्रदूषण से लड़ने में हमारी मदद कर सकते हैं और जिन्हें हमें अपनी रोजाना की डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए. इन हेल्दी खाद्य पदार्थों का करें सेवन-


1. एंटीऑक्सिडेंट्स का करें सेवन

प्रदूषित हवा में मौजूद विषैले कण शरीर में प्रवेश कर बहुत अधिक मात्रा में फ्री रैडिकल्स का निर्माण करते हैं जिनकी वजह से शरीर में इन्फ्लेमेशन (आंतरिक सूजन और जलन) होने लगता है, कई तरह की बीमारियां और समय से पहले एजिंग की समस्या भी होने लगती है. ऐसे में एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें. एंटीऑक्सिडेंट्स, फ्री रैडिकल्स को बेअसर करते हैं ताकि वे शरीर को नुकसान न पहुंचा पाएं. राजमा, किशमिश, बार्ली, ब्रोकली, टमाटर, अखरोट, पालक और बेरीज आदि एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर खाद्य पदार्थ हैं जिनका सेवन आपको प्रदूषण से बचने के लिए जरूर करना चाहिए.

2. विटामिन सी से भरपूर चीजें खाएं
जब बात प्रदूषण से लड़ने की आती है तो उसमें विटामिन सी सबसे अहम माना जाता है. हमारा शरीर विटामिन सी का निर्माण नहीं कर सकता और ना ही इस बेहद अहम विटामिन को स्टोर करके रख सकता है लिहाजा इसे खाद्य पदार्थों की मदद से ही प्राप्त किया जाता है. विटामिन सी भी एक बेहद अहम एंटीऑक्सिडेंट है इसलिए इसे रोजाना की डाइट में जरूर शामिल करें. संतरा, मौसंबी, आंवला, नींबू, किवी, स्ट्रॉबेरी जैसे फल और लाल-पीली-हरी शिमला मिर्च, ब्रॉकली और हरी पत्तेदार सब्जियां विटामिन सी से भरपूर होती हैं जिन्हें अलग-अलग तरह से डाइट में जरूर शामिल करें.

3. विटामिन ई को भी डाइट का हिस्सा बनाएं
वायु प्रदूषण को लेकर अब तक जितनी भी स्टडीज हुई हैं उनमें से कई अध्ययन में यह बताया गया है कि ऐसे कई विटामिन्स हैं जो वायु प्रदूषण के खिलाफ फेफड़ों को सुरक्षित रखने में मदद कर सकते हैं. उन्हीं में से एक विटामिन- विटामिन ई है. लिहाजा अगर आप प्रदूषण से बचना चाहते हैं तो आपके शरीर में विटामिन ई की कमी नहीं होनी चाहिए. विटामिन ई, फैट में घुलनशील होता है. बादाम, अखरोट, मछली, सूरजमुखी के बीज, सूरजमुखी का तेल, ऑलिव ऑयल, ऐवकाडो आदि विटामिन ई से भरपूर फूड्स हैं जिन्हें प्रदूषण से बचने के लिए हमें अपने आहार में शामिल करना जरूरी है.

4. ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर चीजें
अब तक हुई कई स्टडीज में यह बात सामने आयी है कि वायु प्रदूषण के कारण शरीर में इन्फ्लेमेशन और ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस होने लगता है जिसे कम करने में मदद करता है ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थ. साथ ही ओमेगा-3 ब्रेन और हार्ट हेल्थ के लिए भी बेहद जरूरी माना जाता है. लेकिन बहुत से लोग इसका भरपूर सेवन नहीं कर पाते क्योंकि इसका सोर्स सीमित है. अलसी के बीज, चिया सीड्स, सैल्मन मछली, ऑयस्टर्स, ट्यूना मछली, अखरोट, सोयाबीन ऑयल आदि ओमेगा-3 के बेहतरीन सोर्स हैं.

5. बीटा कैरोटिन फूड्स भी हैं जरूरी
लाल, पीले और ऑरेंज फल और सब्जियों में हरी पत्तेदार सब्जियों में डायट्री बीटा-कैरोटिन होता है जो शरीर में जाकर विटामिन ए में बदल जाता है और एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज को बढ़ाता है. ओमेगा-3 फैटी एसिड और एंटीऑक्सिडेंट्स की ही तरह बीटा कैरोटिन भी इन्फ्लेमेशन को कंट्रोल करने में मदद करता है. बीटा कैरोटिन इम्यून सिस्टम को हेल्दी बनाता है और आंखों की सेहत के लिए भी बेहद जरूरी माना जाता है. लिहाजा गाजर, केल, पालक, लाल-पीली शिमला मिर्च, ऐप्रिकॉट, शकरकंद आदि का सेवन करें जो बीटा कैरोटिन से भरपूर खाद्य पदार्थ हैं.

इन घरेलू नुस्खों को भी अपनाएं
1. तुलसी का काढ़ा:
1 गिलास पानी उबालें, उसमें 4-5 तुलसी की पत्तियां डालें, आधा इंच अदरक का टुकड़ा डालें, थोड़ी सी दालचीनी, लौंग, काली मिर्च डालें और कुछ देर उबालें. जब पानी आधा रह जाए तो उसे छानकर, थोड़ा सा शहद डालकर पी लें. वायु प्रदूषण के कारण सर्दी-खांसी और नाक बहने की समस्या को दूर करने में मदद करता है तुलसी का काढ़ा.

ये भी पढ़ें – आईवीएफ तकनीक के जरिए बनना चाहते हैं माता-पिता, जान लें ये बातें

2. हल्दी वाला दूध: एंटीऑक्सिडेंट और एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज से भरपूर हल्दी भी प्रदूषण से लड़ने में मदद करती है. लिहाजा हर दिन 1 गिलास गर्म दूध में 1 चम्मच हल्दी पाउडर डालकर हल्दी वाला दूध पिएं. आप चाहें तो इसमें शहद भी डाल सकते हैं.

3. गुड़: को नेचुरल क्लीन्जर माना जाता है. कई स्टडीज में सामने आ चुका है कि रोजाना थोड़ी मात्रा में गुड़ का सेवन करने शरीर पर प्रदूषित हवा के नकारात्मक असर को कम करने में मदद मिल सकती है.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल गंभीर बीमारियों की वजह बनता है प्रदूषण, ऐसे करें बचाव के बारे में पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *