वाइन पीने से टाइप-2 डायबिटीज का जोखिम होता है कम, जानिए हेल्थ के लिए कैसे फायदेमंद है वाइन
स्वास्थ्य

वाइन पीने से टाइप-2 डायबिटीज का जोखिम होता है कम, जानिए हेल्थ के लिए कैसे फायदेमंद है वाइन

Benefits of wine: यदि आप रात में डिनर के साथ थोड़ा सा वाइन (Wine) पीते हैं, तो काफी हद तक टाइप-2 डायबिटीज (Type-2 Diabetes) होने का खतरा कम हो जाता है. यह बात हाल ही में हुई एक स्टडी में सामने आई है. साइटेकडेली में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, शराब (Alcohol) का सेवन करने वाले लगभग 312,000 लोगों पर किए गए एक अध्ययन से पता चलता है कि मॉडरेट मात्रा में शराब (महिलाओं के लिए प्रतिदिन 14 ग्राम और पुरुषों के लिए 28 ग्राम प्रतिदिन से अधिक नहीं) पीने से, खासकर भोजन के साथ वाइन (Wine) के सेवन से टाइप-2 डायबिटीज (Type-2 Diabetes) के होने के जोखिम को कम करता है. अध्ययन में पता चला कि टाइप-2 मधुमेह का जोखिम सिर्फ तब कम हुआ, जब लोगों ने वाइन का सेवन भोजन के साथ किया, न कि बिना भोजन के इसका सेवन किया.
अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के एपिडेमियोलॉजी, प्रिवेंशन, लाइफस्टाइल एंड कार्डियोमेटाबोलिक स्वास्थ्य सम्मेलन 2022 में प्रस्तुत किए जाने वाले प्रारंभिक शोध के अनुसार, वर्तमान में लगभग 312,400 पीने वालों के स्वास्थ्य डाटा का विश्लेषण किया गया, जिसमें पता चलता है कि शराब का सेवन, विशेष रूप से वाइन का सेवन (Study on Wine Consumption) भोजन के साथ करने पर टाइप-2 मधुमेह के डेवलप होने के जोखिम से जुड़ा है.

स्टडी में ये कहा गया है कि सिर्फ मध्यम मात्रा में वाइन का सेवन टाइप-2 डायबिटीज के विकास पर सकारात्मक प्रभाव डालता है. महिलाओं के लिए प्रतिदिन एक गिलास और पुरुषों के लिए प्रतिदिन दो गिलास वाइन का सेवन ही काफी है. औसतन लगभग 11 वर्षों के अध्ययन के दौरान, स्टडी में शामिल लगभग 8,600 वयस्कों ने टाइप- 2 मधुमेह विकसित किया. बिना खाना खाए वाइन के सेवन की तुलना में भोजन के साथ वाइन का सेवन टाइप-2 डायबिटीज के होने का जोखिम 14% कम था. वाइन पीने और अन्य प्रकार के एल्कोहल पीने वाले प्रतिभागियों में भोजन के साथ शराब पीने और टाइप-2 मधुमेह के बीच लाभकारी संबंध सबसे आम था.

इसे भी पढ़ें: क्या शराब पीने से ब्रेन को नुकसान पहुंच सकता है? जानें स्टडी में क्या हुआ खुलासा

वाइन पीने के सेहत लाभ

कई शोध बताते हैं कि कभी-कभार एक गिलास रेड वाइन पीना आपकी सेहत के लिए अच्छा होता है. यह एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होता है. उम्र को बढ़ा सकता है. हृदय रोगों से बचाता है. हानिकारक सूजन से बचाने में मदद कर सकता है. दिलचस्प बात यह है कि रेड वाइन में व्हाइट वाइन की तुलना में एंटीऑक्सिडेंट के उच्च स्तर की संभावना होती है.

इसे भी पढ़ें: वाइन के दो घूंट में छिपा है ‘दिल का इलाज’, वैज्ञानिकों ने बताए पीने के नियम-कानून

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.