वजन घटाने से नहीं बढ़ती प्रेग्नेंसी की संभावना, एक्सरसाइज से होता है फायदा- स्टडी
स्वास्थ्य

वजन घटाने से नहीं बढ़ती प्रेग्नेंसी की संभावना, एक्सरसाइज से होता है फायदा- स्टडी

Heavy Weight and Pregnancy Chances : आमतौर पर ये माना जाता है कि ज्यादा वजन वाली महिलाओं को गर्भधारण करने यानी कंसीव (Conceive) करने में दिक्कत होती है. इसलिए पहले उन्हें वजन कम करना चाहिए और उसके बाद प्रेग्नेंसी के बारे में आगे बढ़ना चाहिए. लेकिन अब अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ वर्जिनिया (UVA) के साइंटिस्टों ने अपनी एक नई स्टडी में पाया गया है कि वजन घटाने से प्रजनन क्षमता (Fertility) को कोई लाभ नहीं होता है. इस स्टडी के लिए मोटापे से ग्रस्त 379 महिलाओं को शामिल किया गया था, जो कि इंफर्टिलिटी यानी बांझपन की समस्याओं से जूझ रही थीं. इस दौरान ये पाया गया कि लाइफस्टाइल में बदलाव करने से न तो उनके कंसीव की संभावना बढ़ी और ना ही स्वस्थ बच्चे के जन्म में कोई फर्क पड़ा. जबकि बिना वजन किए सिर्फ फिजिकल एक्टिविटी से फायदा जरूर हुआ. इस स्टडी का निष्कर्ष ‘पीएलओएस मेडिसिन (PLOS Medicine)’ जर्नल में प्रकाशित किया गया है.

यूवीए के स्कूल ऑफ मेडिसिन के सेंटर फॉर रिसर्च इन रिप्रोडक्शन के रिसर्चर डैनियल जे हैसेंलेंडर (Haisenleder, Daniel J.) ने बताया कि हम दशकों से सुनते आ रहे हैं कि मोटापे की शिकार महिलाओं को कंसीव करने में मुश्किलें आती हैं. इस कारण कई डॉक्टर कंसीव करने से पहले वजन करने की सलाह देते रहे हैं. हालांकि कुछ ऐसी भी स्टडी हुई है. जिनमें बताया गया है कि इस समस्या के समाधान में एक्सरसाइज और एक्सरसाइज के साथ लाइफस्टाइल में बदलाव से फायदा मिलता है. इस संदर्भ में एफआईटी-पीएलईएससी (FIT-PLESE ) नामक एक प्रोग्राम के तहत नौ मेडिकल सेंटर्स में स्टडी की गई.

यह भी पढ़ें-
Parenting Tips: बचपन में ही सिखा दें बच्‍चों को ये 6 बातें, लाइफ टाइम उनके आएगा काम

कैसे हुई स्टडी
स्टडी के लिए प्रतिभागियों को दो ग्रुप्स में बांटा गया. आधी प्रतिभागियों को डाइटिंग के साथ दवाएं दी गईं और उनकी फिजिकल एक्टिविटी बढ़ाई गई. शेष आधी प्रतिभागियों के लिए बिना वजन कम करने के प्रयासों के साथ फिजिकल एक्टिविटी बढ़ा दी गई. एक नियत समय के इस कार्यक्रम के पूरा होने पर दोनों ग्रुपों को तीन राउंड का मानक इन्फर्टिलिटी का इलाज दिया गया.

यह भी पढ़ें-
प्रेग्नेंट महिला के वायु प्रदूषण में रहने से जन्म लेते हैं कम वजन के बच्चे: स्टडी

वजन कम करने (वेट लॉस) वाले ग्रुप की महिलाओं में उनके वजन में औसतन 7% तक की कमी आई. जबकि सिर्फ एक्सरसाइज करने वाले ग्रुप की महिलाओं का वजन सामान्य बना रहा. मतलब ये कि उनके वजन में कोई कमी नहीं आई, लेकिन स्टडी के अंत में पाया गया कि दोनों ग्रुपों की महिलाओं की हेल्थ में बच्चे को जन्म देने में कोई उल्लेखनीय अंतर नहीं था. 16 हफ्ते के वेट लॉस प्रोग्राम के बाद 188 में से सिर्फ 23 महिलाओं ने बच्चे को जन्म दिया. वहीं, सिर्फ एक्सरसाइज वाले ग्रुप की 191 महिलाओं में से 29 ने बच्चे को जन्म दिया.

Tags: Health, Health News, Lifestyle, Pregnancy

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.