वजन को संतुलित रखने के लिए करें सूर्य नमस्कार, सीखें स्टेप्स
स्वास्थ्य

वजन को संतुलित रखने के लिए करें सूर्य नमस्कार, सीखें स्टेप्स

बिगड़ती लाइफस्टाइल और समय की कमी के कारण हर व्यक्ति अपने शरीर पर ध्यान नहीं दे पाता. जिसके कारण इसका दुष्प्रभाव शरीर पर देखने को मिलते हैं. या तो किसी व्यक्ति का शरीर अधिक मोटा हो जाता है या फिर कोई व्यक्ति अत्यधिक दुबला हो जाता है. समय रहते इन समस्याओं पर ध्यान नहीं दिया गया, तो यह आगे चलकर गंभीर बीमारी का रूप ले लेते हैं. अपने शरीर को बिना दवा के हष्ट पुष्ट बनाए रखने के लिए हर व्यक्ति को अपने नियमित दिनचर्या में योगाभ्यास को शामिल करना चाहिए. इनमें सबसे अच्छा योगाभ्यास सूर्यनमस्कार माना जाता है. जिसे करने से ना सिर्फ बढ़ते वजन पर कंट्रोल किया जा सकता है बल्कि दुबले लोग भी इसकी  मदद से वजन बढ़ा सकते हैं.

जानेंगे आज न्यूज़18 के फेसबुक लाइव पर योग प्रशिक्षा सविता यादव ने सूर्य नमस्कार को लेकर क्या जानकारी दी है.

ध्यान लगाएं
किसी भी योगासन की शुरुआत ध्यान लगाने के साथ करें. इससे मन एकाग्र होता है और योगसन के अच्छे परिणाम देखने को मिलते हैं. अपनी आती जाती सांसों पर ध्यान केंद्रित करें. इसके बाद ओम के साथ किसी भी मंत्र का उच्चारण करें. देखें वीडियो

पार्ट-1

पार्ट-2

मार्जरी का अभ्यास
सबसे पहले आप जमीन पर घुटने टेकें. घुटनों और पैरों के बीच थोड़ा गैप बनाएं आगे झुकें और अपने दोनों हाथों को घुटनों के सामने ज़मीन पर रखें. आपके हाथ सीधे और कंधों से नीचे हों. जांघें भी सीधी होनी चाहिए. सांस छोड़ते हुए, अपनी पीठ को ऊपर की ओर खींचें और सिर को सीने की ओर लेकर जाएं. श्वास लें, अपने सिर को ऊपर उठाएं और पीठ को नीचे ले जाने की कोशिश करें. इसे दोहराते हुए 2 से 3 बार करें.

ताड़ासन
ताड़ासन करने से बॉडी एलाइनमेंट सुधरती है. इसे करने से बच्चों का कद भी बढ़ता है और शरीर में रक्त का संचार बेहतर होता है. इसमें हाथों को मिलाते हुए ऊपर की ओर ले जाएं और शरीर के ऊपरी हिस्से पर खिचाव बनाएं और 20 तक गिनें. अब इसी आसन में रहते हुए बिना घुटने मोड़े अपने शरीर को दायीं और बायीं ओर मोड़ें. इसके बाद अपने हाथों को पंखों की तरह फैलाएं और दायें हाथ को बायीं ओर ले जाएं और बायें हाथ को दायीं ओर. इस दौरान श्वास-प्रश्वास का विशेष ध्यान रखें.

सूक्ष्म अभ्यास
अब सीधे खड़े होकर अपने हाथों को कमर पर रख लें. पैरों को पास में कर लें, पंजों के बल खड़े हो जाएं और फिर नीचे आएं उसके बाद एड़ी के बल खड़े हो जाएं. इस प्रक्रिया 10 बार दोहराएं.

इस तरह करें सूर्य नमस्कार के 12 स्टेप्स 

1. प्रणामासन
इस आसन को करने के लिए योगा मैट पर सीधे खड़े हो जाएं और अपने दोनों को पैरों को मिला लें. इस दौरान अपनी कमर सीधी रखें. अब हाथों को अपने सीने के पास लाएं और प्रणाम करें.

यह भी पढ़ें – Yoga Session: शरीर को एक्टिव मोड में लाने के लिए करें ताड़ासन और सूर्य नमस्कार

2. हस्तउत्तनासन 
प्रणामासन में खड़े होकर अपने हाथों को सिर के ऊपर ले जाएं और सीधा रखें. अब अपने हाथों को प्रणाम करने की मुद्रा में ही पीछे की तरफ ले जाएं और अपनी कमर को पीछे की तरफ झुका लें.

3. पादहस्तासन 
पादहस्तासन करने के लिए धीरे-धीरे सांस छोड़ें. अब आगे की ओर झुकते हुए अपने हाथों से पैरों की उंगलियों को छुएं. इस मुद्रा में आपका सिर घुटनों से मिल जाएगा.

4. अश्व संचालनासन
इस आसन के लिए सीधा पैर पीछे की ओर ले जाएं. इस पैर के घुटने से जमीन को छूना है. इस दौरान दूसरे पैर को मोड़ें. अपनी हथेलियों को जमीन पर सीधा रखें और ऊपर सिर रखकर सामने की ओर देखें.

5. दंडासन 
इस आसान को करते समय अपने दोनों हाथों और पैरों को सीधा और एक ही लाइन में रखें. इसके बाद पुश-अप करने की अवस्था में आ जाएं.

6. अष्टांग नमस्कार 
अब अपनी हथेलियों, चेस्ट, घुटनों और पैरों को जमीन से सटाएं. अब इस अवस्था में रहें.

7. भुजंगासन 
इस अभ्यास के लिए अपनी हथेलियों को जमीन पर रखें और पेट को जमीन से सटाते हुए गर्दन को पीछे की ओर झुकाएं.

8. अधोमुख शवासन 
इसके के लिए अपने पैरों को जमीन पर सीधा रखें. अब कूल्हे को ऊपर की ओर उठा लें. अपने कंधों को सीधा रखें और मुंह को अंदर की तरफ रखें. अधोमुख शवासन को पर्वतासन भी कहा जाता है.

यह भी पढ़ें – Yoga Session: शरीर को स्वस्थ रखना है तो जरूर करें वृक्षासन और सर्वांगपुष्टि का अभ्यास, सीखें सही तरीका

9. अश्व संचालनासन
इसके लिए अपने सीधा पैर पीछे की ओर ले जाएं. ध्यान रहे कि घुटना जमीन से मिलना चाहिए. अब अपने दूसरे पैर को मोड़े और हथेलियों से जमीन को छुएं. सिर को आसमान की ओर रखें.

10. पादहस्तासन 
इसके लिए आगे की ओर झुककर हाथों से पैरों की उंगलियों को छुएं. इस दौरान आपको अपना सिर घुटनों से मिलाना है.

11. हस्तउत्तनासन 
इस आसन को अर्धचंद्रासन भी कहा जाता है. अब प्रणामासन में खड़े होकर अपने हाथों को सिर के ऊपर उठा लें और सीधा रखें. अब हाथों को प्रणाम करने की मुद्रा में ही पीछे की ओर ले जाएं. अपनी कमर को पीछे की तरफ झुका लें.

12. प्रणामासन 
अंत में आपको फिर से प्रणामासन करना है.
ध्यान रहे कि योगाभ्यास अपनी क्षमता अनुसार ही करना है. इस दौरान श्वास-प्रश्वास और व्यायाम से जुड़े विशेष नियमों का पालन करना बहुत जरूरी है.

Tags: Benefits of yoga, Health News, Lifestyle, Yoga

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.