लैंसेट का दावा: भारत में कोरोना से 40 लाख की मौत, सरकारी संख्या से है 8 गुना ज्यादा
स्वास्थ्य

लैंसेट का दावा: भारत में कोरोना से 40 लाख की मौत, सरकारी संख्या से है 8 गुना ज्यादा

लंदन. मेडिकल जर्नल लैसेंट (The Lancet) के दावे पर अगर भरोसा किया जाए तो भारत में कोविड से होने वाली मौतों की संख्या 40 लाख से ज्यादा है. लैंसेट ने अपनी ताजा रिपोर्ट में दावा किया है कि भारत में कोविड से होने वाली मौतों की संख्या आधिकारिक आंकड़े से 8 गुना ज्यादा है. भारत सरकार के आधिकारिक आंकड़े के हिसाब से अब तक देश में कोरोना से 4,89,000 लोगों की मौत हुई है. इस तरह अगर लैंसेट के दावे को सच माना जाए तो देश में 40 लाख से ज्यादा लोगों की मौत कोरोना से हुई है.

लैंसेट के एक नए रिसर्च पेपर में संकेत किया गया है कि भारत में कोविड-19 से हुई मौतों को दर्ज करने की संख्या बहुत कम थी. लैंसेट के हिसाब से 2021 के अंत तक दुनिया में भारत में ही कोरोना से सबसे ज्यादा मौतें हुईं हैं और उनकी संख्या करीब 40.7 लाख थी. लैंसेट का ये रिसर्च पेपर शुक्रवार को प्रकाशित हुआ और इसमें कहा गया कि ये आशंका है कि 31 दिसंबर, 2021 तक कोविड-19 के कारण पूरी दुनिया में 1.82 करोड़ लोगों की मौत हुई है. जो दुनिया भर में दर्ज 59 लाख मौतों के आधिकारिक रिकॉर्ड से तीन गुना ज्यादा है. बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन से आंशिक रूप से वित्त पोषित मेडिकल जर्नल लैसेंट में कहा गया है कि ‘हालांकि 1 जनवरी, 2020 और 31 दिसंबर, 2021 के बीच कोविड-19 से होने वाली कुल मौतों की दुनिया भर में दर्ज संख्या 59 लाख ही थी. जबकि हमारा अनुमान है कि कोरोना महामारी के कारण दुनिया भर में 1.82 करोड़ लोगों की मौत हो गई.’

लैंसेट के हिसाब से देशों के स्तर पर भारत में 40.7 लाख, अमेरिका में 11.3 लाख और रूस में 10.7 लाख लोगों की मौत कोविड-19 के कारण हुई. लैंसेट की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में कोविड-19 से हुई मौतों की संख्या का सरकारी आंकड़ा 4,89,000 है. भारत में दर्ज की गई कोविड मृत्यु दर प्रति 1,00,000 में 18.3 है. जबकि लैंसेट का अनुमान है कि वास्तविक मौतों का आंकड़ा 40.7 लाख है. जो सरकारी आंकड़े से आठ गुना अधिक है. 31 दिसंबर, 2021 तक दुनिया भर में कोरोना से हुई मौतों में भारत की हिस्सेदारी 22. 3% रही है.

Tags: COVID 19, Lancet, Science news, Science News Today

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.