लेट नाइट मील की है आदत तो जान लें ये जरूरी बातें, सेहत के लिए हो सकता है खतरनाक
स्वास्थ्य

लेट नाइट मील की है आदत तो जान लें ये जरूरी बातें, सेहत के लिए हो सकता है खतरनाक

बिजी लाइफ में देर रात तक जागना और टीवी देखते-देखते कुछ खाने की क्रेविंग काफी कॉमन है. शहरों में लेट नाइट खाने का ये चलन काफी देखने को मिलता है. लोग आधी रात को भी खाने के लिए होटलों की तरफ निकल पड़ते हैं. लेकिन आपको बता दें कि लेट नाइट खाने की ये आदत दरअसल हमारी सेहत के लिए बहुत नुकसानदेह है. आयुर्वेद में भी यह बात कही गया है कि अगर आप लेट नाइट खाते हैं तो इससे आपके शरीर के कई अंग प्रभावित हो सकते हैं.

हेल्‍थसाइट के मुताबिक, शोधों में भी ये पाया गया है कि देर रात खाने से कैलोरी इनटेक अधिक होता है और शरीर में खराब फैट को बढ़ावा मिलता है.

रात में कब तक खाना खा लें- आयुर्वेद के अनुसार रात में खाने का सही समय 7 से 8 बजे है. लेकिन कई लोग हैं जो रात 10 बजे या उसके बाद खाने जाते हैं. रात में सोने से पहले और खाने के बीच का अंतराल कम से कम 2 से 3 घंटे का होना चाहिए. अगर आप खाते ही तुरंत सो जाते हैं तो इससे आपका मोटापा भी काफी तेजी से बढ़ता है और  गैस्टिक की समस्या और तमाम पेट से जुड़ी समस्याएं होने लगती हैं.

इसे भी पढ़ें : कच्चा बादाम खाने से लिवर और किडनी को हो सकता है नुकसान, जरा सम्‍हल कर करें इसका सेवन

रात में खाते समय रखें इन बातों का ख्‍याल   

एसिडिटी का रखें ख्‍याल- लेट नाइट खाने से सबसे पहली समस्या एसिडिटी की हो सकती है. अगर आप हर रोज लेट नाइट ही खाते हैं तो इससे हार्टबर्न की भी समस्या हो सकती है. ऐसे में अधिक देर खाने से जहां तक हो सके बचें.

ये भी पढ़ें: Tips To Wash Fruits-Vegetables: फल-सब्जियों को धोने के लिए अपनाएं ये तरीके, कभी नहीं पड़ेंगे बीमार

हैवी भोजन से बचें- आयुर्वेद के अनुसार लेट नाइट में हेवी खाना खाने से बचाना चाहिए. इससे पेट खराब होने से लेकर गैस, सोने में तकलीफ, पेट दर्द आदि की समस्या हो सकती है. ऐसे में रात को हेवी खाना खाने से बचें.

धीरे धीरे खाएं- कई बार देर हो जाने की वजह से लोग रात में जल्दी-जल्दी खाने लगते हैं. ऐसा ना करें. जल्दी-जल्दी खाने से डाइजेशन की समस्‍या हो सकती है और रात की नींद भी खराब हो सकती है.

रात में देर से खाने के नुकसान- अगर आप देर रात खाते हैं तो इससे आपको डायबिटीज, हाइपरटेंशन, ब्‍लड प्रेशर, वजन बढ़ना, डाइजेशन की समस्‍या, डिप्रेशन, तनाव, नींद में समस्‍या आदि हो सकती है.

Tags: Health News, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.