लगातार पेट दर्द की ना करें अनदेखी, बड़ी बीमारी का हो सकते हैं शिकार
स्वास्थ्य

लगातार पेट दर्द की ना करें अनदेखी, बड़ी बीमारी का हो सकते हैं शिकार | health – News in Hindi

पेट में पाचन तंत्र (Digestive System) सही तरीके के कार्य करेगा तो शरीर (Body) स्वस्थ बना रहेगा और शरीर के हर अंग को पोषक तत्व (Nutrients) मिलते रहेंगे. यदि पेट से जुड़ी समस्याओं की दो या तीन सप्ताह से अनदेखी की तो बड़ी शारीरिक समस्या को निमंत्रण दे सकते हैं. पेट से जुड़े कैंसर (Cancer) को लेकर वैसे भी लोगो में जागरुकता की कमी है. यही कारण है कि खानपान (Diet) में लापरवाही, अनियमित दिनचर्चा और नियमित पेट से संबंधित व्यायाम (exercise) नहीं करने के कारण पेट दर्द बढ़ जाता है. कई बार ये पेट दर्द भयानक कैंसर (Cancer) रोग का कारण भी हो सकता है. पेट दर्द की अनदेखी करने के कारण ही कई बार 60 फीसदी मरीजों को चौथी स्टेज में जाकर पेट के कैंसर के बारे में पता चलता है. ऐसे मरीज बहुत कम होते हैं जो पहली या दूसरी स्टेज में सामने आ पाते हैं. सिर्फ 15 फीसदी मरीज ही ऐसे होते हैं जो शुरुआती अवस्था में ही इलाज शुरू करवा पाते हैं.

पेट के कैंसर के प्रकार
myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. उमर अफरोज ने बताया कि पेट के कैंसर को गैस्ट्रिक कैंसर के नाम से भी जाना जाता है. यह कुछ असाधारण और घातक कैंसर युक्त कोशिकाएं होती हैं जो पेट के एक हिस्से में ढेर के रूप में जमा हो जाती हैं.

इसके अलावा, कोलन और रेक्टम, आंतों, लिवर, इसोफेगस (खाने की नली), अग्नाशय या पित्त की थैली आदि में जब अवांछित गठान विकसित होने लगती है तो उसे पेट का कैंसर माना जाता है. एक रिसर्च के मुताबिक कैंसर से होने वाली तमाम मौतों में 6 मौतें पेट के कैंसर से जुड़ी हुई होती हैं.किस कारण होता है पेट का कैंसर
पेट का कैंसर क्यों होता है, इसका एक विशेष कारण तो नहीं है, लेकिन खानपान में लापरवाही इसका मुख्य कारण है, विशेषकर आजकल खानपान में ऐसी सामग्री ज्यादा शामिल हो रही है जो कीटनाशक और खाद से पैदा की जा रही हैं. ज्यादा उत्पादन के लिए खेतों में रासायनिक दवाओं का अंधाधुंध इस्तेमाल हो रहा है और ऐसा ही उत्पादित अनाज, फल या सब्जियों का सेवन हम करते हैं तो गंभीर बीमारियों को न्यौता दे देते हैं.

ज्यादा शराब का सेवन भी घातक
तंबाकू या शराब की आदत भी पेट का कैंसर होने के मुख्य कारण हैं. आनुवंशिक कारणों के अलावा जो लोग फाइबर डाइट कम लेते हैं, उनमें भी इस तरह की समस्या देखने को मिलती है.

पेट दर्द हो तो तत्काल लें डॉक्टर की सलाह
आंतों के कार्य में जब रुकावट आने लगती है तो कब्ज, दस्त, मुंह में छाले आना, दिन में पेट फूलना, अकारण वजन घटना या बढ़ना, थकान लगना, एसिडिटी, दस्त में खून निकलना या काला दस्त होने जैसी कई समस्याएं पैदा हो जाती हैं. ऐसे कोई भी लक्षण दिखाई दें तो डॉक्टर को तत्काल दिखाना चाहिए.

पेट के कैंसर की जांच और इलाज
myUpchar से जुड़े आयुष पाण्डेय के अनुसार, कैंसर के चरण के आधार पर इलाज का फैसला किया जाता है. शुरुआती स्टेज की जानकारी मिलने पर इसका इलाज करना आसान होता है. इसके लिए मरीज को जीआई एंडोस्कोपी, बायोप्सी, एंडो-अल्ट्रासाउंड, एक्सरे, पीईटी, एमआरआई, स्कैन आदि टेस्ट कराने होते हैं, जिससे पेट की समस्या का मूल कारण समझने में आसानी होती है. इसके बाद इसका इलाज सर्जरी, कीमोथैरेपी, इम्युनोथैरेपी या टार्गेटेड थैरेपी द्वारा किया जाता है.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, पेट के कैंसर के प्रकार, चरण, कारण, लक्षण, इलाज, परहेज, क्या खाएं और दवा पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *