रीढ़ को मजबूत बनाती हैं ये 3 एक्सरसाइज, कमर की सेहत भी रहेगी दुरुस्त
स्वास्थ्य

रीढ़ को मजबूत बनाती हैं ये 3 एक्सरसाइज, कमर की सेहत भी रहेगी दुरुस्त

Simple Exercises for Lower Back: आजकल के लाइफस्टाइल में शरीर को फिट रखना बेहद ज़रूरी है. देर तक बैठकर घंटों काम करना, कुर्सी पर गलत पोस्चर में बैठे रहना, देर तक ड्राइविंग करना, ये सभी कारण हमारी कमर को नुकसान पहुंचाने के लिए काफी हैं. ऐसे में हमें अपनी कमर की सेहत का खास ख्याल रखने की ज़रूरत है, क्योंकि कमर ही हमारे शरीर का सेंटर प्वाइंट है. हमारी रीढ़ को शरीर के साथ ना केवल एक्टिव रहना पड़ता है, बल्कि कई दिशाओं में मुड़ना और लचकना भी पड़ता है. बॉडी की कुछ कोर मसल्स रीढ़ को मजबूती प्रदान करती हैं. इनमें पेट के साथ ही पीठ में पाई जाने वाली मांसपेशियां, हिप्स, क्वाड्रिसेप्स और हैमस्ट्रिंग मिलकर इसे मजबूत बनाते हैं. यदि इन मांसपेशियों को मजबूत रखा जाए, तो हमारा लोअर बैक हमेशा दुरुस्त रहेगा. जानें, कमर और रीढ़ को मजबूत बनाए रखने के लिए कुछ एक्सरसाइज के बारे में यहां.

बॉडी मूवमेंट
25 से ज्यादा स्टडीज के विश्लेषण में पाया गया है कि स्पाइन को मजबूत बनाने का आसान तरीका मूवमेंट को दिन भर बनाए रखना है यानी सिटिंग के दौरान स्पाइन को मजबूत बनाने के लिए सिटिंग जॉब के दौरान भी छोट-छोटे वॉक करते रहें. छुट्टी के दिन लंबी वॉक करें. ये एक्टिविटी ना केवल हड्डियों को मजबूत बनाती है, बल्कि रीढ़ की कॉर्टिलेज को भी सुरक्षित रखती है. साथ ही उम्र के साथ होने वाले हड्डियों के क्षरण (erosion) को भी कम करती है.

यह भी पढ़ें- अपना लें ये 7 तरीके, पुराना कमर दर्द भी हो जाएगा छूमंतर

प्लैंक एक्सरसाइज
ट्रांसवर्स एब्डॉमिन्स नाजुक चादर की तरह गहराई में पाई जाने वाली मसल्स है, जो हमारी बॉडी के मिडसेक्शन यानी बीच के हिस्से को मजबूत बनाती है. ऐसे ही मल्टीपिड्स मसल्स भी है, जो रीढ़ की हड्डी को सीधी रखती है. इसमें कई एक्सटेंशन होते हैं, जो हर एक वर्टेब्रा (रीढ़ की हड्डियां) से साइकिल की चेन की तरह लिपटे होते हैं. प्लैंक एक्सरसाइज इन मसल्स को एक्टिव करती है.

यह भी पढ़ें-
क्या एसिडिटी जानलेवा भी हो सकती है? जानें कब और कैसे

पिलेट्स
शरीर की मांसपेशियों का कोऑर्डिनेशन और स्पाइन कंट्रोल भी ज़रूरी है. मसल्स का कोऑर्डिनेशन सही नहीं होगा, तो एथलीट को भी बैक पेन हो जाएगा. इसके लिए पिलेट्स (Pilates) एक्सरसाइज बहुत ही फायदेमंद है. ये कोर मसल्स को मजबूत करती है, साथ ही मसल्स को कंट्रोल करने की क्षमता भी बढ़ाती है.

Tags: Health, Health News, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.