यूरिक एसिड बढ़ने से हो सकता है ये खतरा, जानें कम करने के घरेलू उपाय
स्वास्थ्य

यूरिक एसिड बढ़ने से हो सकता है ये खतरा, जानें कम करने के घरेलू उपाय | health – News in Hindi

यूरिक एसिड (Uric Acid) शरीर में पाया जाने वाला ऐसा रसायन है जो पाचन (Digestion) के दौरान प्रोटीन (Protein) के टूटने से बनता है. यूरिक एसिड खून (Blood) में घुलकर किडनी (Kidney) तक पहुंचता है और फिर सफाई करके मूत्र मार्ग से बाहर निकल जाता है. शरीर में यदि यूरिक एसिड की मात्रा अधिक हो जाए तो यह ठीक तरह से फिल्टर (Filter) नहीं हो पाता है. जिस वजह से यह पेशाब (Urine) के जरिए बाहर नहीं निकल पाता है और शरीर में गठिया व किडनी खराब होने जैसी स्थिति पैदा हो जाती है. यूरिक एसिड का बढ़ना पथरी (Stone) बनने का कारण भी बन सकता है. यूरिक एसिड की अधिक मात्रा एन्डोथेलियल नाइट्रिक ऑक्साइड जैसे जरूरी तत्व को कम कर देता है, इस वजह से ब्लड प्रेशर बढ़ने का खतरा होता है. myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. अनुराग शाही के अनुसार, रक्त में बहुत अधिक यूरिक एसिड बढ़ने को चिकित्सीय भाषा में हाइपरयूरिसीमिया कहा जाता है.

क्या करें जब यूरिक एसिड बढ़ जाए

  • यूरिक एसिड बढ़ने पर मशरूम, पालक, दालें और मांसाहारी चीजों के सेवन से बचना चाहिए.
  • वजन को नियंत्रित रखें, क्योंकि वसा बढ़ने से शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ती है.
  • शराब का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि अधिक अल्कोहल यूरिक एसिड को बाहर निकालने में बाधक होता है.
  • ज्यादा प्रोटीन वाली चीजें खाने से भी बचना चाहिए, क्योंकि इससे यूरिक एसिड के फिल्टरेशन में परेशानी आती है.
  • यूरिक एसिड बढ़ने पर फास्ट फूड, जंक फूड और पैक्ड फूड खाने से भी बचना चाहिए.
  • यूरिक एसिड के बढ़ने की स्थिति में मरीज को कभी भी मूत्र रोकने का प्रयास नहीं करना चाहिए.

यूरिक एसिड कम करने के घरेलू उपाय

ऐसे मरीजों को अधिक तनाव नहीं लेना चाहिए, क्योंकि किडनी के ऊपर एक ग्रंथि होती है, जो ईर्ष्या, गुस्सा और डर जैसी भावनाओं को निर्मित करती है. इस समय प्राणायाम, योग या व्यायाम करना चाहिए. प्राणायाम से यह ग्रंथि सक्रिय रहती है और शरीर के लिए हार्मोन का उत्सर्जन करती है, जिससे तनाव कम होता है. यूरिक एसिड का फिल्टरेशन ठीक से होगा और किडनी में भी कोई परेशानी नहीं आएगी.

नियमित मॉर्निंग वॉक करने से भी यूरिक एसिड कम किया जा सकता है. इससे भी तनाव दूर होता है और किडनी का स्वास्थ्य बेहतर होता है.

आयुर्वेद में कासनी, पुनर्नवा, गोरखमुंडी, सौंफ, अजवाइन, पुदीना की सब्जी या चटनी, धनिया आदि का सेवन यूरिक एसिड कम करने का बेहतर इलाज माना गया है. इन सभी चीजों का अर्क भी लिया जा सकता है. इनके सेवन से यूरिक एसिड का फिल्टरेशन बेहतर तरीके से होता है.

डाइट में अधिक मात्रा में विटामिन-सी लेना चाहिए. आंवला, मौसंबी, संतरा में काफी मात्रा में विटामिन-सी पाया जाता है. विटामिन-सी यूरिक एसिड को मूत्र के जरिए बाहर फेंकने मे मदद करता है. आंवले का जूस भी फायदा पहुंचाता है. एलोविरा का जूस भी फायदा देता है.

मीठा नीम खाने से भी यूरिक एसिड कम होता है. सलाद में ज्यादा से ज्यादा मूली का सेवन करें.

अधिक से अधिक फाइबर वाली चीजें खाना भी फायदेमंद होता है. दलिया, ओट मील, सलाद, मक्के के रेशे आदि सभी में फाइबर भरपूर मात्रा में होता है. myUpchar से जुड़े डॉ. आयुष पाण्डेय के अनुसार, डॉक्टर खून की जांच से यूरिए एसिड के स्तर का पता लगाते हैं.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, यूरिक एसिड बढ़ना क्या होता है, लक्षण, कारण, जांच, इलाज और दवा पढ़ें.न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *