News18 हिंदी - Hindi News
स्वास्थ्य

महिलाओं को होता है हिस्टीरिया का ज्यादा खतरा, जानें इसके लक्षण और घरेलू उपाय

हाइलाइट्स

हिस्टीरिया के पेशेंट्स के लिए डेली एक चम्मच शहद का सेवन फायदेमंद होता है.
हर दिन बेहतर नींद और एक्सरसाइज करने से मरीजों को काफी राहत मिलती है.

Home Remedies For Hysteria: चक्कर आना, कंपकंपी लगना, सांस लेने में समस्या या मुंह में जकड़न जैसे लक्षण ​हिस्टीरिया के होते हैं. हिस्टीरिया की समस्या ज्यादातर महिलाओं और लड़कियों में देखी जाती है. इसमें व्यक्ति को 24 से 48 घंटों तक बेहोशी और नींद की समस्या बनी रहती है. हिस्टीरिया न्यूरोलॉजिकल स्थिति है, जिसकी वजह से मेंटल और नर्वस डिसऑर्डर की समस्‍या पैदा हो सकती है. इसमें पेशेंट खुद पर कंट्रोल नहीं रख पाता. ऐसे पेशेंट्स आमतौर पर किसी फोबिया, सेल्फ डिसिप्लिन की कमी या डिप्रेशन जैसी समस्याओं से परेशान होते हैं. हिस्टीरिया अधिकतर एडोलसेंस एज में होता है. वैसे तो इसके कई कारण हो सकते हैं लेकिन इस डिसऑर्डर को घरेलू इलाज द्वारा कंट्रोल किया जा सकता है. चलिए जानते हैं क्या हो सकता है हिस्टीरिया का घरेलू इलाज.

हिस्टीरिया के घरेलू इलाज जान लीजिए

द होलिस्टिक कॉन्सेप्ट्स के मुताबिक हिस्टीरिया के पेशेंट्स को एक कंप्लीट न्यूट्रिशियस डाइट की आवश्यकता होती है. उन्हें सेब,अंगूर, संतरा, पपीता और अनानास जैसे फलों का अधिक सेवन कराना चाहिए. जिन्हें हिस्टीरिया का अटैक बार-बार आता हो उन्हें लगभग एक महीने के लिए दूध वाली डाइट का सेवन करना चाहिए. हिस्टीरिया के पेशेंट्स के लिए डेली एक चम्मच शहद का सेवन फायदेमंद होता है. हींग को अपनी डाइट में नियमित रूप से शामिल करें. डाइट में डेली 0.5 से 1.0 ग्राम हींग लेनी चाहिए. जिन लोगों को हींग से एलर्जी होती है वह इसे सूंघ भी सकते हैं. एक गिलास दूध में एक ग्राम राउवोल्फिया की जड़ मिलाएं. इस दूध का सेवन दिन में दो बार करें. यह बहुत ही इफेक्टिव तरीका है हिस्टीरिया को कंट्रोल करने का. हिस्टीरिया के पेशेंट्स के इलाज में प्रॉपर नींद और नियमित एक्सरसाइज फायदेमंद होती है. जिस वक्त हिस्टीरिया का अटैक आता है उस समय लौकी को कद्दूकस करके पेशेंट के माथे पर लगाएं. इससे काफी आराम मिलता है.

ये भी पढ़ें: नींबू है विटामिन सी का खजाना लेकिन किन परिस्थितियों में इसका सेवन है खतरनाक, जानिए

हिस्टीरिया के लक्षण

  • शरीर में ऐंठन
  • सांस लेने में परेशानी
  • हार्टबीट का तेज होना
  • सिरदर्द
  • थकान महसूस होना
  • चक्कर व बेहोशी आना
  • वायलेंट होना
  • तनाव

हिस्टीरिया के कारण

  • अधिक आलस
  • फैमिली हिस्ट्री
  • घबराहट
  • फोबिया
  • चिंता या तनाव
  • डिप्रेशन
  • ब्रेन ट्यूमर
  • मेंटल डिसऑर्डर

ये भी पढ़ें: बादाम के छिलके भी हैं बड़े काम के, फेंकने की जगह ऐसे करें इस्तेमाल

Tags: Health, Lifestyle, Mental health

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.