News18 हिंदी - Hindi News
स्वास्थ्य

मंकीपॉक्‍स वायरस को ICMR-NIV ने किया आइसोलेट, वैक्‍सीन-जांच किट बनाना होगा आसान

नई दिल्‍ली. मंकीपॉक्‍स को लेकर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च-नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी पुणे (ICMR-NIV) ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है. आईसीएमआर-एनआईवी ने भारत में मिले मंकीपॉक्‍स वायरस के स्‍ट्रेन (Monkeypox virus Strain) की पहचान कर ली है. जिसका बड़ा फायदा भारत में मंकीपॉक्‍स की वैक्‍सीन (Monkeypox Vaccine) और जांच किट बनाने में मिल सकता है. इतना ही नहीं संस्‍थान ने भारत में मिले मंकीपॉक्‍स से संक्रमित मरीजों के सैंपल लेकर वायरस को कल्‍चर और आइसोलेट कर दिया है.

आईसीएमआर-एनआईवी की ओर से दी गई जानकारी में बताया गया कि इन मरीजों की जीनोम सीक्‍वेंसिंग में भारत में मिल रहा मंकीपॉक्‍स का वायरस पश्चिमी अफ्रीका (West African Strain) के स्‍ट्रेन से 99.85 फीसदी तक मैच हो गया है. साथ ही यही स्‍ट्रेन पूरी दुनिया में भी फैला हुआ है. लिहाजा अब स्‍ट्रेन की पहचान होने के बाद आईसीएमआर ने भारत में वैक्‍सीन निर्माताओं और आईवीडी इंडस्‍ट्री से जुड़े सहयोगियों को एक्‍सप्रेशन ऑफ इंटरेस्‍ट (EOI) के लिए आमंत्रित किया है.

ऐसे में जो भी वैक्‍सीन (Vaccine) और आईवीडी उद्योगों से जुड़े लोग एक्‍सप्रेशन ऑफ इंटरेस्‍ट के तहत आवेदन करेंगे आईसीएमआर भारत में मंकीपॉक्‍स की वैक्‍सीन और जांच किट बनाने के लिए उन्‍हें स्‍ट्रेन प्रदान करेगा. आईसीएमआर की ओर से स्‍ट्रेन हैंडओवर के लिए ईओआई जारी करने के बाद वैक्‍सीन निर्माता कंपनियों के लिए मंकीपॉक्‍स की वैक्‍सीन बनाने का बड़ा मौका सामने आया है. साथ ही बीमारी लेकर डर में बैठे आम लोगों को भी जल्‍द ही इसकी वैक्‍सीन मिलने की उम्‍मीद पैदा हो गई है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : July 30, 2022, 20:29 IST

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.