ब्रेन इमेजिंग में लोगों की कम होती दिलचस्पी से रिजल्ट्स पर पड़ रहा असर- स्टडी
स्वास्थ्य

ब्रेन इमेजिंग में लोगों की कम होती दिलचस्पी से रिजल्ट्स पर पड़ रहा असर- स्टडी

आजकल के भागदौड़ भरे बिजी लाइफस्टाइल में एंग्जाइटी और स्ट्रेस के कारण लोग आत्महत्या जैसा कदम क्यों उठा लेते हैं, ऐसे सवालों के जवाब जानने के लिए मानसिक रोगियों की बीते दो दशक से ब्रेन इमेजिंग की जा रही है. दैनिक भास्कर अखबार में न्यूयॉर्क टाइम्स के हवाले से छपी न्यूज रिपोर्ट के अनुसार, पिछले कुछ समय से लोग ब्रेन इमेजिंग में ज्यादा रुचि नहीं ले रहे हैं और इससे यूएस के वैज्ञानिकों की टेंशन बढ़ गई है, क्योंकि ब्रेन इमेजिंग डाटा (Brain Imaging Data) में कमी से वे किसी नतीजे तक नहीं पहुंच पा रहे हैं. अमेरिका के सेंट लुईस स्थित वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी (Washington University in St. Louis) के स्कूल ऑफ मेडिसिन में साइकेट्रिस्ट और इस स्टडी के ऑथर स्कॉट मारेको के अनुसार, मेंटल हेल्थ को बेहतर ढंग से समझने के लिए हजारों ब्रेन इमेजिंग की जरूरत है.

एक स्टडी के अनुसार, मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (MRI) टेक्नोलॉजी से लिया गया सैंपल छोटा होता है, जिससे कई बार छेड़छाड़ हो सकती है. इस स्टडी का निष्कर्ष मेडिकल जर्नल ‘नेचर’ (Nature) में प्रकाशित किया गया है.

क्या कहते हैं जानकार
इस स्टडी में शामिल दूसरे ऑथर डॉ. निको डोसेनबैक (Dr. Nico Dosenbach) का कहना है कि ब्रेन इमेजिंग तकनीक महंगी है. एक बार इमेजिंग का खर्च करीब 46,000 रुपए से 1,50,000 रुपए तक आता है. ये तकनीक टाइम भी ज्यादा लेती है. मेंटल हेल्थ से जुड़ी स्टडी के लिए करीब 23 विषयों की औसत इमेजिंग की जरूरत होती है. यही कारण है कि लोग ज्यादा रुचि नहीं ले रहे हैं.

यह भी पढ़ें-
World Water Day 2022: कब्ज, अपच, डिहाइड्रेशन से बचने के लिए पिएं 3 लीटर पानी, होंगे ये अन्य लाभ

3 तरह से होती है ब्रेन इमेजिंग
ब्रेन इमेजिंग के लिए रिसर्चर्स ने 3 तरह की स्टडी के बारे में बताया है. जानकारों का कहना है कि आज ये स्थिति है कि इन तीनों स्टडी के लिए पर्याप्त संख्या में प्रतिभागी भी उपलब्ध नहीं हो पा रहे हैं.

पहली
ह्यूमन कनेक्शन प्रोजेक्ट (Human Connection Project), जिसमें 1200 प्रतिभागी शामिल होते हैं.

दूसरी
एडोलसेंट ब्रेन कॉग्निटिव डेवलपमेंट (Adolescent brain cognitive development) यानी एबीसीडी स्टडी, इसमें भी 1200 प्रतिभागी शामिल होते हैं.

यह भी पढ़ें-
Remedies for Mouth Ulcers: मुंह में छाले होने से हैं परेशान, ये देसी नुस्खे आएंगे आपके काम

तीसरी
यूके बायोबैंक स्टडी (UK Biobank Study) इसमें 35 हजार 700 प्रतिभागी शामिल होते हैं.

Tags: Health, Health News, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.