ब्रिटेन में कोरोना के बाद लोगों को सताने लगा है भूत का डर, जानकार बता रहे कुछ और कारण
स्वास्थ्य

ब्रिटेन में कोरोना के बाद लोगों को सताने लगा है भूत का डर, जानकार बता रहे कुछ और कारण

पिछले दो सालों से पूरी दुनिया को परेशान करने वाले कोरोना के ‘भूत’ से लोगों को अभी थोड़ी राहत ही मिली थी कि ब्रिटेन के लोगों को सच में भूत का डर सताने लगा है. द गार्डियन (The Gurdian) में छपी न्यूज रिपोर्ट के अनुसार, ब्रिटेन में कोरोना के बाद अब लोगों में असाधारण गतिविधियां नोटिस की गई है. इस रिपोर्ट में ऐसी ही एक घटना जिक्र भी है. नॉर्थ इंग्लैंड में अपने दो बेडरूम के फ्लैट में अकेले रहने वाली मैंडी डीन (Mandy Dean) ने बताया, “अप्रैल 2020 की आधी रात थी और चारो तरफ बिलकुल सन्नाटा था. मैं रोजाना करीब 2 बजे तक सोती हूं, उस दिन भी मैं देर रात तक किताब पढ़ने में बिजी थी. मैं अपने बेड पर थी, तभी अचानक मुझे ऐसा लगा जैसे मेरे बगल में बेडसाइड कैबिनेट पर कोई भारी वजन गिरा दिया गया हो. मैं तुरंत बेड से कूद गई, बाहर की तरफ भागी और वो रात मैंन लिविंग एरिया में गुजारी, वो भी पूरी रात लाइट ऑन करके. ये सब कुछ मेरे साथ लगभग तीन रातों तक हुआ और चौथी रात को भी शोर उसी तरह का था लेकिन इस बार ये बेड के किनारे से नहीं, बल्कि ये मेरे ठीक पीछे की दीवार में था. चार रातों के बाद कुछ हफ्तों के लिए ऐसी आवाज बदं हो गई थी, लेकिन उसके बाद फिर आने लगी. मेरी बातें पागलों के जैसी लग रही होंगी, लेकिन मैं जानती हूं कि मैं पागल नहीं हूं. मैंने जो महसूस किया वो मैं भूल नहीं सकती हूं.’

ऐसे कई अनुभव लोगों ने शेयर किए हैं. इसलिए ब्रिटेन के लोग अब घोस्ट हंटर्स (Ghost Hunters) से लेकर डॉक्टर्स तक की मदद ले रहे हैं. क्योंकि कई बार लोग अपने घरों में नींद से उठकर बैठ जाते है,  किसी को अचानक से कोई भारी चीज के गिरने की आवाज आ रही है. अब डर के मारे लोग घरों में साउंड डिटेक्ट डिवाइस (sound detection device) और कैमरे लगवा रहे हैं, ताकि वे इस तरह की घटनाओं को रिकॉर्ड कर सकें.

यह भी पढ़ें-
World Health Day 2022: लंबी उम्र तक हेल्दी रहने के लिए लाइफस्टाइल में शामिल करें ये 7 अच्छी आदतें

क्या कहते हैं जानकार
ब्रिटेन में साइंटिफिक रूप से भूतों की पहचान करने वाले घोस्ट हंटर्स (Ghost Hunters) की डिमांड भी अचानक बढ़ गई है. लंदन की गोल्ड स्मिथ यूनिवर्सिटी (gold smith university) में मनोविज्ञान के प्रोफेसर क्रिस्टोफर फ्रेंच (Christopher French) ने बताया कि कोविड के समय लोगों ने खाली समय में डरावने थ्रिलर सीरियल, सोशल मीडिया और टेलीविजन पर हॉरर प्रोग्राम देखे. इन सब को देखने के बाद उनके मन में डर की स्थिति पैदा हो गई है. पिछले एक साल में 1000 से ज्यादा लोग अचानक लाइट बंद हो जाना, रात को अजीब सी आवाजें आने की घटनाओं का वीडियो रिकॉर्ड कर चुके है.

यह भी पढ़ें-
स्लीप एप्नीया का इलाज ना किया जाए तो बढ़ जाती है एजिंग – स्टडी

प्रोफेसर क्रिस्टोफर फ्रेंच (Christopher French) के अनुसार, इस तरह की बीमारियों को मानसिक बीमारी कहा जाता है, जिनमें एंग्जाइटी (Anxiety), इंसोमनिया (Insomnia), डिप्रेशन (Depression) और ओब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर (OCD) और पोस्ट ट्रोमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (PTSD) जैसी समस्याएं देखने को मिलती हैं. लोगों में नींद ना आने की समस्या सबसे ज्यादा देखी जा रही है और लोग हमेशा किसी गहरी सोच में काम कर रहें हैं. साथ ही इन लोगों में हर समय बेचैनी का अनुभव होने की समस्या भी सामने आ रही है.

Tags: Health, Lifestyle, Mental health

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.