जिन बच्चों को फूड एलर्जी की समस्या होती है, वे स्कूल में तंग किए जाते हैं. Image Credit/Pixabay
स्वास्थ्य

बुलिंग से तंग बच्‍चे होते हैं फूड एलर्जी के शिकार, जानिए कैसे

जिन बच्चों को फूड एलर्जी की समस्या होती है, वे स्कूल में तंग किए जाते हैं. Image Credit/Pixabay

एक स्टडी (Study) के मुताबिक जिन बच्चों को फूड एलर्जी (Food Allergy) की समस्या होती है, उन्हें स्कूल (School) में सहपाठी द्वारा अधिक तंग (Bullying) किया जाता है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 17, 2020, 11:18 AM IST

पेरेंटस (Parents) बच्चों (Children) का उनके स्वास्थ्य (Health) से लेकर शिक्षा (Education) तक उचित रूप से ख्याल रखते हैं. बावजूद इसके बच्चे तरह-तरह की बीमारियों (Diseases) का शिकार हो जाते हैं. एक स्टडी के मुताबिक जिन बच्चों को फूड एलर्जी (Food Allergy) की समस्या होती है, उन्हें स्कूल (School) में सहपाठी द्वारा अधिक तंग (Bullying) किया जाता है. अध्ययन में यह भी पाया गया है कि ऐसे बच्चों को सहपाठी के पेरेंट्स और टीचर्स (Teachers) भी डराते-धमकाते हैं. इस साल अमेरिका कॉलेज ऑफ एलर्जी, अस्थमा एंड इम्यूनोलॉजी एनुअल साइंटिफिक (ACAAI) की वर्चुअल मीटिंग में बताया गया है कि फूड एलर्जी वाले बच्चों के पांच में से एक पेरेंट्स को इसका सामना करना पड़ता है.

कई पेरेंट्स हैं परेशान
ACAAI मेंबर और अध्ययन की लेखिका रुचि गुप्ता ने कहा, ‘फूड एलर्जी से ग्रस्त बच्चे और उनके मां-बाप को इस तरह से परेशान और डराया-धमकाया नहीं जाना चाहिए.’ वहीं अध्ययन के मुख्य लेखक डेनियल ब्राउन ने कहा, ‘हम नहीं जानते थे कि कितने पेरेंट्स को इस समस्या का सामना करना पड़ रहा था, हमने 252 पेरेंट्स का सर्वेक्षण किया, 17 फीसदी से अधिक ने कहा कि उन्हें फूड एलर्जी पर धमकाया गया था.’

ये भी पढ़ें – अब आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस से जान पाएंगे क्‍या होगा बच्चे का करियरक्या कहता है सर्वे

सर्वेक्षण में 4-17 साल के बच्चों के पेरेंट्स ने माना कि इस प्रक्रिया को रोकने के लिए कार्रवाई करने की जरूरत है. अध्ययन के अनुसार 13 फीसदी अभिभावकों ने अपने बच्चे के साथ बात की, 7 फीसदी पेरेंट्स ने बुलिंग करने वाले और उनके पेरेंट्स से बात की, 17 फीसदी ने टीचर और 15 फीसदी ने स्कूल प्रिंसिपल और प्रशासन से इस पर चर्चा की है. वहीं लगभग 50 फीसदी पेरेंट्स ने फूड एलर्जी पर बुलिंग को रोकने के कुछ कदम उठाए जो उनके लिए कारगार साबित हुए.

ये भी पढ़ें – कोरोना काल में बच्‍चों से जुड़ी परेशानियों पर यूनिसेफ ने दिए 5 सुझाव

फूड एलर्जी बनती है तनाव का कारण
सर्वे में एक और महत्वपूर्ण तथ्य यह पाया गया कि फूड एलर्जी के कारण तंग करने वाली इस प्रक्रिया में रंगभेद को लेकर अधिक अंतर नहीं है और यह निश्चित रूप से समान महत्व रखता है कि फूड एलर्जी से ग्रस्त बच्चों को जातीय और रंगभेद के आधार पर डराया-धमकाया और परेशान नहीं किया गया है. शोधकर्ताओं के मुताबिक फूड एलर्जी की समस्या पूरे परिवार को तनावग्रस्त कर देती है और लगातार बुलिंग लोगों का जीना मुहाल कर देती है.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *