प्रख्यात संतूर वादक पंडित शिवकुमार शर्मा का दिल का दौरा पड़ने से निधन, जानें कारण, लक्षण
स्वास्थ्य

प्रख्यात संतूर वादक पंडित शिवकुमार शर्मा का दिल का दौरा पड़ने से निधन, जानें कारण, लक्षण

Pandit Shiv Kumar Sharma Death: प्रख्यात संतूर वादक पंडित शिवकुमार शर्मा अब इस दुनिया में नहीं रहे. मुंबई में आज उनका निधन हो गया. वे 84 वर्ष के थे. खबरों के अनुसार, उनकी मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई है. इतना ही नहीं, वह पिछले कई महीनों से किडनी से संबंधित समस्या से भी जूझ रहे थे, जिससे उन्हें डायलिसिस भी करानी पड़ती थी. उनका अंतिम संस्कार आज शाम (10 मई) होगा. उनकी मृत्यु की खबर से पूरा देश शोक की लहर में डूब गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित कई बड़ी हस्तियों ने संतूर वादक पंडित शिवकुमार शर्मा जी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया है. आइए जानते हैं क्या है हार्ट अटैक, दिल का दौरान पड़ने से पहले कैसे नजर आते हैं लक्षण.

इसे भी पढ़ें: Cardiac Arrest: महिलाओं में कार्डियक अरेस्ट, लक्षण, बचाव और इलाज, जानें क्या कहते हैं डॉक्टर

क्या है दिल का दौरा पड़ना
संतूर वादक पंडित शिवकुमार शर्मा जी का निधन दिल का दौरा पड़ने से हुआ है. मायोक्लिनिक में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, दिल का दौरा या हार्ट अटैक एक मेडिकल इमरजेंसी है. दिल का दौरा आमतौर पर तब होता है, जब बल्ड क्लॉट के कारण हृदय में रक्त का प्रवाह अवरुद्ध हो जाता है. ये रुकावट कई बार फैट, कोलेस्ट्रॉल या फिर अन्य पदार्थों के निर्माण से होता है, जो आर्टरीज में एक प्लाक बनाता है. बिना खून के टिशूज ऑक्सीजन खो देते हैं, जिससे वे क्षतिग्रस्त हो जाते हैं या मर जाते हैं.
कभी-कभी प्लाक फट जाती है, जिससे क्लॉट बनता है और रक्त प्रवाह अवरुद्ध हो जाता है. बाधित रक्त प्रवाह हृदय की मांसपेशियों के हिस्से को नुकसान पहुंचा सकता है. हार्ट अटैक आने पर तुरंत इलाज ना मिले, तो व्यक्ति की मौत भी हो सकती है.

इसे भी पढ़ें: Heart Attack: 3 साल पहले ही लग जाएगा हार्ट अटैक के खतरे का पता, वैज्ञानिकों ने खोजी तकनीक

हार्ट अटैक के लक्षण

दिल का दौरान आने पर नजर आते हैं ये कॉमन लक्षण-
-सीने में जलन
-जी मिचलाना, अपच
-सांस लेने में तकलीफ महसूस करना
-थकान महसूस करना
-सीने में दबाव, दर्द महसूस करना
-बांह, गर्दन, जबड़े, पीठ में दर्द का बढ़ना
-ठंडा पसीना आना
-अचानक चक्कर आना

हार्ट अटैक के जोखिम कारक
उम्र, हाई ब्लड प्रेशर होना, धूम्रपान, तंबाकू का सेवन, हाई कोलेस्ट्रॉल लेवल, मोटापा, डायबिटीज, मेटाबॉलिक सिंड्रोम, स्ट्रेस, ऑटोइम्यून कंडीशन, शारीरिक एक्टिविटी में कमी, हार्ट अटैक होने का फैमिली हिस्ट्री आदि कई रिस्क फैक्टर्स होते हैं, जो दिल की सेहत को नुकसान पहुंचा सकते हैं और हार्ट अटैक आने का कारण बनते हैं.

Tags: Health, Health News, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.