पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ज्यादा सिरदर्द, माइग्रेन की समस्या दोगुनी- स्टडी
स्वास्थ्य

पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ज्यादा सिरदर्द, माइग्रेन की समस्या दोगुनी- स्टडी

एक नई स्टडी में दावा किया गया है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं को सिरदर्द ज्यादा होता है. नॉर्वेजियन यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (Norwegian University of Science and Technology) की स्टडी में ये पता चला है कि 2.9% पुरुषों की तुलना में 6% महिलाओं को सिरदर्द की बीमारी ज्यादा होती है. इतना ही नहीं, पुरुषों की तुलना मे महिलाओं को माइग्रेन से पीड़ित होने की संभावना दोगुनी होती है. आपको बता दें कि माइग्रेन सामान्‍य सिरदर्द नहीं होता. अगर आपने इसे अनुभव किया है, तो आपको पता होगा कि इसमें तेज सिरदर्द के साथ मितली, तेज रोशनी या आवाज के प्रति संवेदनशीलता, धुंधलापन जैसी समस्‍याएं एक साथ होती हैं. जब माइग्रेन (Migraine) अटैक होता है, तो इसे ठीक करने के लिए हम कुछ भी करने को तैयार हो जाते हैं.

महिलाओं में माइग्रेन की समस्या अधिक होने की वजह रिसर्चर्स ने हार्मोन में बदलाव को माना है, क्योंकि एस्ट्रोजन में कोई भी उतार-चढ़ाव सिर दर्द को बढ़ाता है. रिसर्चर्स ने कहा कि दुनिया की 17% महिलााएं माइग्रेन से पीड़ित हैं. माइग्रेन तीन दिनों तक रहता है. और इसके कारण उन्हें उल्टी और तेज सिरदर्द होता है. माइग्रेन 8.6% पुरुषों को ही प्रभावित करता है. इस स्टडी का निष्कर्ष ‘द जर्नल ऑफ हेडेक एंड पेन (The Journal of Headache and Pain)’ में प्रकाशित किया गया है.

यह भी पढ़ें- माइग्रेन के असहनीय दर्द से चाहते हैं तुरंत आराम, अपनाएं ये घरेलू उपाय

क्या कहते हैं जानकार
स्टडी में 1960 के दशक से अब तक सिरदर्द पर की गई 357 स्टडी को केंद्र बनाकर निष्कर्ष निकाला गया कि दुनिया में हर 6 में से एक व्यक्ति को किसी भी दिन सिरदर्द होता है. रिसर्च टीम के प्रोफेसर लार्स जैकब (Lars Jacob Stovner) ने कहा कि महिलाओं के लिए ये इसलिए मायने रखता है, क्योंकि नौकरी और पारिवारिक जिम्मेदारियों के बीच निभाना उनके लिए बहुत कठिन हो जाता है.

यह भी पढ़ें- जानें क्या होता है माइग्रेन, किस वजह से होता है ये दर्द!

योग से मिलेगा फायदा
जर्नल ऑफ अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन (JAMA) में छपी एक स्टडी में दावा किया गया है कि योग और मेडिटेशन से माइग्रेन का इलाज संभव है. एक रिसर्च में कहा गया है कि इस रोग से परेशान लोगों की संख्या लाखों या करोड़ों में नहीं है. बल्कि पूरी दुनिया में करीब एक अरब लोगों को माइग्रेन की बीमारी ने परेशान कर रखा है.

Tags: Health, Health News, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.