पानी पीने का सबसे अच्छा समय क्या है? एक्सपर्ट से जानिए सही टाइमिंग
स्वास्थ्य

पानी पीने का सबसे अच्छा समय क्या है? एक्सपर्ट से जानिए सही टाइमिंग

पर्याप्त मात्रा में पानी पीना कितना जरूरी है ये हम सभी जानते हैं. पानी न केवल हाइड्रेटेड रहने में मदद करता है, बल्कि शरीर के तापमान को भी कंट्रोल करता है और कई शारीरिक कार्यों को बनाए रखता है, जैसे कि किडनी से वेस्ट बाहर निकालना, सलाइवा (लार) बनाना और बॉडी के अलग-अलग पार्ट्स तक न्यूट्रिएंट्स पहुंचाना. हालांकि, पानी पीने का कोई आइडियल टाइम है, इस सवाल का जवाब फिटनेस एक्सपर्ट सोनिया बख्शी (fitness expert Sonia Bakshi) ने हाल ही में अपनी इंस्टाग्राम पोस्ट पर दिया है. उनका कहना है, जी हां…पानी पीने का आइडियल टाइम होता है.

अपनी इस पोस्ट में फिटनेस एक्सपर्ट ने विस्तार से बताया है कि कब पानी पीना चाहिए और कब नहीं. इस वीडियो में वो खाना खाते समय पानी पीनी को लेकर बिल्कुल मना करती दिख रही हैं. आपको बताते हैं, उन्होंने और क्या बताया है.

– खाने के साथ कभी भी पानी न पियें. “भोजन के साथ एक गिलास या अधिक पानी आपके पेट की पाचन शक्तियों को गंभीर रूप से बाधित करता है और इंसुलिन के लेवल में काफी उतार-चढ़ाव का कारण बनता है. यदि जरूरी हो, तो अपने भोजन के साथ बस थोड़ा सा पानी घूंट लें.

– खाने के हमेशा एक घंटे बाद पानी पिएं. ये शरीर को खाने के न्यूट्रीएंट्स को अब्जॉर्ब करने की अनुमति देगा.

– सुबह उठते ही कम से कम एक गिलास पानी पिएं. ये बीमारियों से लड़ने और इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में मदद कर सकता है.

-थकान से निपटने के लिए दोपहर में कम से कम एक गिलास पानी पिएं. डिहाईड्रेशन बीच दोपहर में थकान की अहम वजह हो सकती है, इसलिए पीने का पानी थकान और अन्य लक्षणों से निपटने में मदद कर सकता है.

यह भी पढ़ें-
बच्चों की डाइट में ज़रूर शामिल करें फल-सब्जियां, एकाग्रता में होता है फायदा – स्टडी

आर्युवेद के अनुसार पानी पीने का सही तरीका
वहीं, डॉ. दीक्षा भावसार (Dr. Dixa Bhavsar) ने आयुर्वेद के अनुसार, क्या करें और क्या न करें, इस बारे में बताया गया है. उनका कहना है कि हमें खड़े होकर पानी पीने से बचना चाहिए, क्योंकि इससे आपकी किडनी पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है, और यहां तक ​​कि गठिया भी हो सकता है. पानी पीते समय बैठने से शरीर पोषक तत्वों को बेहतर ढंग से फ़िल्टर करता है और इसे शरीर के उन हिस्सों तक पहुंचाने  के लिए निर्देशित करता है, जिन्हें पोषण की जरूरत होती है, न कि सीधे आपके पेट में जाने के बजाय, जैसा कि खड़े होने पर होता है. इसके अलावा, हम आम तौर पर खड़े होकर बहुत तेजी से पानी पीते हैं, जिससे आपकी नसें तनाव की स्थिति में आ जाती हैं.

यह भी पढ़ें-
Health Tips: महिलाओं में आम होती ‘रेक्‍टल प्रोलैप्‍स’ बीमारी के लक्षण, कारण और इलाज

आपके पास कितना पानी होना चाहिए?
डॉ. भवसार ने कहा. “मैं भी ये मानती थी कि अच्छी स्किन, इम्यूनिटी और डाइजेशन के लिए हमें भरपूर पानी पीने की ज़रूरत है. लेकिन ये सही नहीं है. यदि आप बहुत सारा पानी पीते हैं, तो आप फूला हुआ महसूस कर सकते हैं. इसके अलावा, ये आपकी पाचन अग्नि को कम कर सकता है और कफ दोष को बढ़ा सकता है. इसलिए, पानी महत्वपूर्ण है और आपको पर्याप्त मात्रा में पीने की जरूरत है, लेकिन ज्यादा नहीं. अपने शरीर को सुनने की कोशिश करें. आपको पता चल जाएगा कि आपके शरीर को कब पानी की जरूरत है और कब उसे भोजन की जरूरत है. बस थोड़ी सी प्रैक्टिस की जरूरत है और आप अपने शरीर को सुनेंगे और उसके अनुसार उसे खिलाएंगे, ”

Tags: Health, Health News, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.