नियमित करें पैरों की मालिश और पाएं ये गजब के लाभ – News18 हिंदी
स्वास्थ्य

नियमित करें पैरों की मालिश और पाएं ये गजब के लाभ – News18 हिंदी

Benefits of Leg Massage: शरीर का सारा भार हमारे दो पैरों पर होता है. इसी के सहारे हम खड़े होते हैं, चल-फिर सकते हैं. इससे पैरों की मांसपेशियां, हड्डियां थक जाती हैं. ऐसे में इन्हें भी आराम की जरूरत पड़ती है. आप पैरों की मालिश (Massaging Leg) करके इन्हें आराम पहुंचा सकते हैं. पैरों में होने वाले दर्द को दूर कर सकते हैं. लेकिन पैरों में मालिश करने के फायदे बस यहीं तक सीमित नहीं हैं. जी हां, पैरों में मालिश (Leg Massage benefits) करने के और भी कई सेहत लाभ होते हैं. पैरों को मसाज करना एक तरह का फिजियोथेरेपी है, जिसके कुछ चिकित्सीय लाभ लाभ शरीर को होते हैं. आइए जानते हैं, जब आप पैरों को मालिश करते हैं, तो क्या-क्या सेहत लाभ (Health benefits of Leg Massage) हो सकते हैं.

पैरों में मालिश करने से होने वाले फायदे

  • पैरों का मूवमेंट जितना सही रहेगा, उतना ही नसों, मांसपेशियों के लिए अच्छा होता है. इससे तलवों और पैरों में रक्त का प्रवाह भी अच्छी तरह से होता है. यदि आप देर तक बैठे रहते हैं, तो इससे ये सभी कार्य रुक जाते हैं. यदि आप सरसों के तेल से पैरों में मालिश करते हैं, तो ब्लड सर्कुलेशन सही बना रहता है. इससे मांसपेशियों को भी मजबूती मिलती है.

इसे भी पढ़ें: क्या मसाज करने से बढ़ती है इम्यूनिटी? जानें ऑयल मसाज के फायदे, करने का समय और सही तरीका

  • चूंकि, पैरों की मालिश करने से मांसपेशियों को ताकत मिलती है, ब्लड सप्लाई में सुधार होता है, हड्डियां मजबूत होती हैं, इसलिए पैरों की मांसपेशियों, हड्डियों के फ्रैक्चर होने की संभावनाएं कम हो जाती हैं. मांसपेशियों के ढीले हो जाने से खेल या व्यायाम के दौरान चोट लगने की संभावना काफी कम हो जाती है.
  • प्रतिदिन आप 10 मिनट भी पैरों की मालिश तेल से करते हैं, तो मानसिक तनाव, एंग्जायटी, टेंशन कम हो सकती है. तेजी से धड़कता दिल सामान्य हो सकता है. मांसपेशियों में होने वाले तनाव, खिंचाव की समस्या दूर होती है. मालिश करने से हार्मोन एन्डॉर्फिन्स का स्राव होता है, जिससे नर्व्स को आराम पहुंचता है, आप रिलैक्स महसूस करते हैं.
  • यदि बहुत ज्यादा वर्कआउट करने से मांसपेशियों में दर्द रहता है, तो पैरों की मालिश करने से दर्द दूर हो सकता है. मालिश करने से मांसपेशियों में होने वाली स्ट्रेच, ऐंठन, खिंचाव भी तुरंत ठीक हो जाती है.
  • जिन महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान वाटर या फ्लूइड रिटेंशन के कारण पैरों, तलवों, एड़ियों में सूजन की समस्या रहती है, उन्हें भी पैरों में हल्की मालिश करनी चाहिए. इन समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है.

इसे भी पढ़ें : Premenstrual Syndrome: 30 की उम्र में अधिक होता है प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम, जानें इसके लक्षण, कारण

  • प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम से ग्रस्त महिलाएं यदि पैरों की मालिश करें तो उनमें इस समस्या में होने वाली मूड स्विंग, टेंशन, माइग्रेन, सिरदर्द आदि से छुटकारा मिल सकता है.
  • यदि आपको रातों में सुकून भरी नींद नहीं आती है, तो आप रात में पैरों में मालिश जरूर करें. नींद न आने के पीछ कई कारण होते हैं जैसे कुछ खास दवाओं का सेवन, स्ट्रेस, डिप्रेशन, शिफ्ट वर्क आदि. मालिश करें और देखें आपको रात में कैसे गहरी नींद आती है.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.