News18 हिंदी - Hindi News
स्वास्थ्य

दूसरों के काम में दखल देता है बच्चा तो ADHD डिसऑर्डर का हो सकता है संकेत

हाइलाइट्स

पैरेंट्स और बड़ों की बातों को न मानना भी इस डिसऑर्डर के लक्षण होते हैं.
प्रेग्नेंसी के दौरान शराब और स्मोकिंग करने का बुरा असर बच्चे में पहुंच जाता है.

Symptoms of ADHD: अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर को एडीएचडी (ADHD) के नाम से भी जाना जाता है. यह एक गंभीर बीमारी है. एडीएचडी के लक्षणों का पता आमतौर पर नहीं लग पाता है और बच्चों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है. एडीएचडी से ग्रस्त कुछ बच्चों में अटेंशन की कमी होती है और कुछ बच्चों में हाइपरएक्टिविटी और इंपल्सिव बिहेवियर जैसे संकेत देखने को मिल सकते हैं. ऐसे बच्चे अधिकतर स्कूल की पढ़ाई या दूसरी एक्टिविटीज में अच्छा परफॉर्म नहीं कर पाते हैं.एडीएचडी के लक्षण 3 साल की छोटी उम्र से लेकर 12 साल की उम्र तक शुरू हो सकते हैं. एडीएचडी लड़कियों के मुकाबले लड़कों में ज्यादा पाया जाता है. इसमें लड़के ज्यादा एक्टिव और लड़कियां शांत रहती हैं.

एडीएचडी के प्रकार
इस बीमारी के पहले टाइप में बच्चा इनअटेंटिव यानी लापरवाह होता है और चुप रहता है. इसमें वह किसी भी बात या एक्टिविटी पर ध्यान नहीं देता है. दूसरे टाइप में बच्चे हाइपरएक्टिव और इंपल्सिव नेचर के होते हैं. तीसरे टाइप में कंबाइंड लक्षण देखने को मिलते है जिसमें बच्चे इनअटेंटिव और हाइपरएक्टिव रहते हैं.

ये भी पढ़ें: पढ़ाई के बाद याद किया हुआ भूल जाते हैं बच्चे? पेरेंट्स अपनाएं ये तरीके

एडीएचडी में हाइपरएक्टिव और इंपल्सिव लक्षण
मायोक्लिनिक के अनुसार
 एक जगह शांत ना बैठना और हर समय हाथों और पैरों को हिलाना डुलाना, स्कूल की पढ़ाई में ध्यान ना लगा पाना, हर समय इधर-उधर चलते-फिरते और भागते रहना, जरूरत से ज्यादा बोलना और दूसरों के कामों में दखल देना, दूसरे लोगों या अपने साथ के बच्चों को परेशान करना, सवाल पूछने पर सही जवाब ना देकर अपने हिसाब से बातों को घुमाना, पैरेंट्स और बड़ों की बातों को ना मानना आदि इस बीमारी के लक्षण होते हैं.

एडीएचडी में इनअटेंटिव लक्षण

  • स्कूल के कामों में लापरवाही और गलतियां करना
  • खेलते समय एक्टिव रहने में परेशानी होना
  • बात सुनने के बाद भी अनसुना करना
  • कामों में लापरवाही करना जैसे- होमवर्क भूल जाना
  • अपनी चीजें खो देना या कहीं भूल जाना
  • पढ़ाई और मेंटल एक्टिविटीज को पसंद ना करना

ये भी पढ़ें: अगर आपके बच्चे को भी है अंगूठा चूसने की आदत तो छुड़ाने में मदद करेंगे ये तरीके

एडीएचडी के मुख्य कारण

  • बच्चे के पेरेंट्स या परिवार में कोई एडीएचडी से पीड़ित हो
  • समय से पहले पैदा होने वाले बच्चों में एडीएचडी का खतरा रहता है
  • प्रेग्नेंसी के दौरान शराब पीने और स्मोकिंग करने का असर बच्चों में पहुंच जाता है

Tags: Child Care, Health, Lifestyle, Mental health

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.