दूध का विकल्प चुनते समय एक्सपर्ट की बताई इन बातों का ज़रूर रखें ध्यान
स्वास्थ्य

दूध का विकल्प चुनते समय एक्सपर्ट की बताई इन बातों का ज़रूर रखें ध्यान

किसी व्यक्ति के दूध ना पीने की कई वजहें हो सकती हैं. कुछ लोग हेल्थ से जुड़ी समस्याओं की वजह से दूध नहीं पीते हैं और कुछ लोग एक खास डाइट को फॉलो करने के लिए भी ऐसा करते हैं. खैर, उनकी वजह जो भी हो, इससे पहले कि आप भी दूध छोड़ने का मन बनाएं और अपने मेन्यू में कोई और ऑप्शन शामिल करें, आपके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना ज़रूरी है. न्यूट्रिशनिस्ट भक्ति कपूर (Nutritionist Bhakti Kapoor) ने हाल ही में अपने इंस्टाग्राम पोस्ट के ज़रिए ये समझाने की कोशिश की है कि नॉन डेयरी मिल्क ऑप्शंस आज पॉपुलैरिटी में आसमान छू रहे हैं, लेकिन ये जानने की भी ज़रूरत है कि ये गाय के दूध के मुकाबले कैसे ढेर हो जाते हैं.

न्यूट्रिशनिस्ट ने अपनी इंस्टाग्राम पोस्ट के कैप्शन में लिखा, “गाय का दूध सबसे पॉपुलर ऑप्शन है, खासकर बच्चों के लिए. ये फैट, प्रोटीन समेत ज़रूरी विटामिन और मिनरल्स से नेचुरली मिलने वाली कैलोरी का एक बेहतर बैलेंस प्रदान करता है, जैसे विटामिन डी और कैल्शियम, क्योंकि ज़रूरी न्यूट्रिएंट्स प्रदान करना बच्चों की ग्रोथ और विकास के लिए ज़रूरी है.”

उन्होंने बताया है कि दूध के विकल्प की तलाश करते समय इन चीजों पर ज़रूर विचार करें.

– ऐसे न्यूट्रिशनल प्रोफ़ाइल की तलाश करें, जो असली दूध के समान हो.
– बिना स्वाद के और बिना मीठे वाले विकल्प चुनें और छिपी हुई शुगर से सावधान रहें.
– जब भी संभव हो, एडिटिव्स (कुछ मिला हुआ) से बचें.
– ऐसे किसी भी प्रोडक्ट से बचें जो एलर्जी को ट्रिगर कर सकता है.

यह भी पढ़ें-
अनमैरिड लोगों को हार्ट फेलियर से ज्यादा खतरा, जानिए क्या कहती है स्टडी

न्यूट्रिशनिस्ट का कहना है, “सुबह आपकी कॉफी में दूध लेने की अगर बात आती है, तो आप इसे बादाम के दूध से बदल सकते हैं. बादाम का दूध यहां अच्छा काम करता है. वहीं, जब बेकिंग की बात आती है, तो सोया दूध या जई का दूध (oat milk) गाय के दूध का बेहतरीन विकल्प हो सकता है. ज्यादातर रेसिपी में आप दूध के किसी भी ऑप्शन को 1:1 के अनुपात (Ratio) में बदल सकते हैं.”

अपने दूध का विकल्प कब चुनें

– यदि आपको दूध से एलर्जी है.
– ये आपका एक निजी या नैतिक निर्णय है.
– इसकी कोई मेडिकल वजह है.
– आपको दूध पीना अच्छा नहीं लगता है और जानते हैं कि इससे किन न्यूट्रिएंट्स को बदलना है.

यह भी पढ़ें-
प्रेग्नेंसी में ओरल हेल्थ का रखें ध्यान, ताकि प्रीमैच्योर डिलीवरी का रिस्क हो कम

ऐसी स्थिति में दूध का विकल्प ना चुनें

– यदि आपका डाइट कल्चर आपको ऐसा करने को कहता है.
– कोई डॉक्युमेंट्री आपको ऐसा करने से डराती है.
– आपको असली दूध का स्वाद पसंद है, लेकिन आप खुद को बदलने के लिए मजबूर कर रहे हैं.
– आपको लगता है कि हर विकल्प पौष्टिक रूप से वास्तविक दूध के बराबर है.

Tags: Health, Health News, Lifestyle, Milk



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.