News18 हिंदी - Hindi News
स्वास्थ्य

दुधारू पशुओं में आई नई बीमारी में मंकीपॉक्‍स जैसे लक्षण, इस राज्‍य में टीमें तैनात

चंडीगढ़. भारत में एक तरफ कोरोना और मंकीपॉक्‍स बीमारी (Monkeypox disease) ने हलचल पैदा की हुई है. वहीं अब पशुओं में भी ऐसी ही एक संक्रामक बीमारी सामने आ रही है. दूध देने वाले पशुओं (dairy cattle) में लम्‍पी स्किन (Lumpy Skin) नाम की बीमारी ने दस्‍तक दे दी है. खास बात है क‍ि इसके लक्षण कुछ-कुछ मनुष्‍यों में हो रही मंकीपॉक्‍स बीमारी से मिलते-जुलते हैं. फिलहाल पंजाब राज्‍य में पालतू गाय (Cow) और भैंस (Buffalo) में इस बीमारी को देखते हुए पशुपालकों को अलर्ट किया गया है और बीमारी की रोकथाम के लिए जिला स्तरीय टीमें गठित की गई हैं.

पंजाब के पशु पालन, मछली पालन और डेयरी विकास मंत्री लालजीत सिंह भुल्लर ने पशुपालकों को इस बीमारी से संबंधित क‍िसी भी अफवाह से बचने की सलाह दी है. इस बारे में भुल्लर ने बताया कि राज्य में दुधारू पशुओं में लम्पी स्किन नामक संक्रामक रोग (Infectious Disease) से बचाव के लिए हर ज़िले में टीमें तैनात कर दी गई हैं, जो गांव-गांव जाकर प्रभावित पशुओं को बीमारी से बचाने के उपाय के लिए जानकारी देंगी.

नजदीकी पशु संस्‍थाओं से संपर्क करें पशु पालक
कैबिनेट मंत्री ने बताया कि नॉर्थ रीजनल डिवीजन डायग्नौस्टिक लैब (एन.आर.डी.डी.एल.) जालंधर की टीम को समूह ज़िलों का दौरा करने की हिदायत दी गई है, जो आज 28 जुलाई से प्रभावित जिलों का दौरा कर रही है.उन्होंने बताया कि पशु पालन विभाग के समूह अधिकारियों और मुलाजिमों को पशु-पालकों की हर पक्ष से सहायता करने के लिए पाबंद किया गया है. इस लिए पशुपालक किसी घबराहट में न आएं और किसी भी तरह की अफ़वाहों से बचें. उन्होंने कहा कि किसान या पशु-पालक बेझिझक अपनी नजदीकी पशु संस्था से संपर्क कर सकते हैं.

इस वजह से फैलती है लम्‍पी स्किन की बीमारी
मंत्री भुल्लर ने बताया कि यह बीमारी दक्षिणी राज्यों से आई है और बरसातों में और अधिक तेज़ी से फैलती है क्योंकि मच्छर-मक्खी आदि के काटने से इस बीमारी के आगे और बढऩे का खतरा बना रहता है. इसलिए पशुओं के आस-पास सफाई का ध्यान रखा जाए और बीमार पशुओं को दूसरों से अलग कर लिया जाए.

ये हैं बीमारी के लक्षण
वहीं विभाग के डायरैक्टर डॉ. सुभाष चंद्र ने कहा कि पशुपालकों को घबराने की ज़रूरत नहीं, बल्कि एहतियात बरतनी चाहिए. बीमारी के लक्षणों का जिक्र करते हुए डॉ. सुभाष ने बताया कि इस बीमारी से पशुओं को तेज बुखार (Fever) चढ़ता है और उनकी चमड़ी पर छाले हो जाते हैं. उन्होंने कहा कि अगर किसी किसान के पशुओं में ऐसे बीमारी के लक्षण दिखते हैं तो तुरंत नजदीकी पशु संस्था के साथ संपर्क करें. उन्होंने कहा कि इस बीमारी के लक्षण दिखाई देने पर किसान अपने सेहतमंद पशुओं को पीड़‍ित पशु से अलग कर लें.

बता दे क‍ि मंकीपॉक्‍स में भी लगभग ऐसे ही लक्षण देखे जा रहे हैं, जिसमें तेज बुखार आता है और त्‍वचा पर लाल दाने या छाले हो जाते हैं. डॉ. सुभाष ने बताया कि मीडिया के एक हिस्से में जिला फाजिल्का में सैंकड़ों जानवरों की मौत की खबर बेबुनियाद है. उन्होंने बताया कि डिप्टी डायरैक्टर पशु पालक विभाग फाजिल्का की टीम द्वारा आज प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया गया है और अभी ऐसी कोई बात सामने नहीं आई.

Tags: Animal, Fever, Monkeypox, Punjab news

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.