थायरॉइड के मरीजों को क्या नहीं खानी चाहिए क्रूस वाली सब्जियां? एक्सपर्ट से जानें
स्वास्थ्य

थायरॉइड के मरीजों को क्या नहीं खानी चाहिए क्रूस वाली सब्जियां? एक्सपर्ट से जानें

थायरॉइड के मरीजों को कुछ सब्जियों को अपनी थाली में शामिल करने की मनाही होती है, जैसे क्रूसिफेरस सब्जियां, इनमें ब्रोकोली, फूलगोभी, पत्तागोभी, ब्रसेल्स स्प्राउट्स, सरसों का साग, शलजम और केल (Kale). ऐसा बताया जाता है कि ये सब्जियां थायरॉइड फंक्शन में रुकावट डालने का काम करती हैं. इंडियन एक्सप्रेस डॉटकॉम की न्यूज रिपोर्ट के अनुसार, द न्यूट्रीशन पिरामिड नाम के एक इंस्टाग्राम पेज ने हाल ही में कहा था कि “कोई भी भोजन हेल्थ से जुड़ी समस्याओं का कारण नहीं बन सकता है” यही वजह है कि, खाना पकाने की कुछ ट्रिक्स के साथ क्रूस वाली सब्जियां भी आपकी थाली में शामिल हो सकती हैं.

इस पोस्ट में लिखा है, “थायरॉइड ग्लैंड (Thyroid Gland) बॉडी के मेन पावरहाउसों में से एक है और ये मेटाबॉलिज्म को कंट्रोल करने वाले टी 3 और टी 4 हार्मोन का प्रोड्यूस करती है. इन हार्मोन्स को बनाने के लिए, आपकी बॉडी आयोडीन का उपयोग करती है, आपके द्वारा उपभोग किए जाने वाले आयोडीन का लगभग 80 प्रतिशत आपके थायरॉइड द्वारा यूज किया जाता है. अगर आपकी डाइट में आयोडीन की कमी है, या आप अंडरएक्टिव थायरॉइड (हाइपोथायरायडिज्म) से पीड़ित हैं, तो गोभी, फूलगोभी जैसी कच्ची क्रूस वाली सब्जियां खाना आपके थायरॉइड हार्मोन के फंक्शन को और ज्यादा परेशान कर सकता है.

क्रूसिफेरस सब्जियां थायरॉइड फंक्शन को कैसे प्रभावित करती हैं?
इस रिपोर्ट में जैन सुपर स्पेशलिटी अस्पताल की डायटिशियन डॉ शाजिया खान का कहना है, “क्रूसिफेरस सब्जियों में पाए जाने वाला गोइट्रोजेन्स आयोडीन के यूज करने की क्षमता को रोकते हैं. बहुत ज्यादा मात्रा में ऐसी सब्जियां घेंघा या बढ़े हुए थायरॉइड का कारण बन सकती हैं. ऐसी सब्जियां अंडरएक्टिव थायरॉइड को धीमा कर देती हैं जो संभावित रूप से हाइपोथायरायडिज्म का कारण बनती हैं. ”

यह भी पढ़ें-
गर्मियों में शरीर को अंदर से ठंडा रखेंगे ये खास फूड्स, नहीं होगा सन स्ट्रोक का खतरा

वापस इंस्टाग्राम पोस्ट पर लौटते हैं, इस पोस्ट में आगे लिखा है कि रोजाना एक छोटी कटोरी से ज्यादा पकी हुई क्रूसिफेरस सब्जियों का सेवन ना करें. डॉ शाजिया खान भी इससे सहमति जताते हुए कहती हैं कि “संयम बहुत जरूरी है, हाइपोथायरायडिज्म वाले लोगों को इस मात्रा को सप्ताह में एक बार, एक कटोरी तक सीमित करना चाहिए.”

बनाने का तरीका बदलें 
द न्यूट्रीशन पिरामिड के इंस्टा पेज पर आगे लिखा है कि किसी को क्रूस वाली सब्जियां खाना बंद करने की जरूरत नहीं है.  “उन्हें पकाने या भाप देने से, गोइट्रोजेनिक प्रोपर्टीज (जो आयोडीन के यूज को बाधित करके थायरॉइड हार्मोन के प्रोडक्शन में रुकावट डालते हैं) काफी कम हो जाते हैं,”

यह भी पढ़ें-
बेहद जरूरी है सुबह का ब्रेकफास्ट, छोड़ने पर हो सकते हैं ये साइड इफेक्ट्स

इस न्यूज रिपोर्ट में मुंबई के मसिना अस्पताल की क्लिनिकल डायटीशियन अनम गोलांडाज़ ने बताया है कि क्रूसिफेरस सब्जियों को पकाने से उनके गोइट्रोजेनिक गुण या गोइट्रोजेनिक इफैक्ट कम हो जाते हैं जो सुनिश्चित करता है कि सामान्य मात्रा में इन्हें लेने पर उन्हें कोई समस्या नहीं होती है. इसके साथ ही ये भी जरूरी है कि आपका थायरॉइड का इलाज कितनी अच्छी तरह काम कर रहा है, इस पर नजर रखें.

Tags: Health, Lifestyle



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.